ओपल रत्न के फायदे – Opal Ratna Ke Fayde

ओपल रत्न के फायदे – Opal Ratna Ke Fayde

ओपल रत्न के फायदे, Opal Ratna Ke

 Fayde

आइए जानते हैं, सौंदर्य की देवी एवं रत्नों की रानी ओपल रत्न( opal ratna) के फायदे के बारे में तथा इस लेख के माध्यम से यह भी जानेंगे कि यह धारण करता के जीवन में किस प्रकार के सुंदर एवं आकर्षण युक्त बदलाव के संसार को प्रदत करता है-

निराशा भरे युग में एक छोटी सी आशा की किरण सकारात्मक ऊर्जा के संचार को बढ़ाने की क्षमता रखती है, जब व्यक्ति आंतरिक एवं बाहरी संघर्षों के बीच संतुलन प्राप्त करने में असफल होने लगता है। तब ऐसे में कई करिया ऐसी होती है, जब उनके समक्ष वह नीढाल हो जाता है ।उनके समक्ष वह बिल्कुल असहाय हो जाता है। ऐसे में उसे यदि किसी भी आयु वर्ग के द्वारा सहानुभूति के दो बोल प्राप्त होते हैं, या किसी भी आयु वर्ग की सहयोग प्राप्त होती है, तो उसके निराश एवं व्याकुल मन में भी अथाह शांति उदित होने लगती है।

ऐसा ही रत्न ओपल( opal ratna) है, जो विश्वास की प्रकाश की ज्योत से दीप्तिमान मानी जाती है,जो किसी के जीवन में प्रेम की सुगंधीयों को प्राप्त करने में मदद करती है। यह एक ऐसा रत्न( opal ratna) है, जो जीवन के वास्तविक रस को प्राप्त करने का साधन के रूप में अनंत युगो से प्रयोग में लाया जाता रहा है ।इस से निर्मित कई प्रकार के आभूषण न केवल किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को अलंकृत करते हैं, बल्कि उसे अतिशयोक्ति प्रदान करने के साथ साथ उसके सौम्यता एवं विनम्रता जैसे गुणों का विकास भी करते हैं।

1.ओपल क्या है???

इसे भी पढ़ें :- शाही का कांटा क्या है ? इसका प्रयोग और कहां से खरीदें ?

ओपल रत्न के फायदे, Opal Ratna Ke Fayde

2.ओपल( opal ratna)  एक अर्ध मूल्यवान रत्न है।ज्योतिष शास्त्र में जीत का प्रयोग शुक्र ग्रह से संबंधित रत्न हीरा के स्थान पर प्रयोग में लाया जाता है।ओपल विश्व के विभिन्न क्षेत्रों से प्राप्त होता है।ऑस्ट्रेलिया ,मेक्सिको, ब्राजील ,अमेरिका जैसे देशों से भाग्य का निर्माण करने वाला यह रत्न प्राप्त होता है ।इसका रंग प्रायः सफेद वर्ण का होता है, किंतु ओपल के कई और किसमें धरती के पटल पर विभिन्न क्षेत्रों से प्राप्त होते हैं। कई दुर्लभ रंगों वाले ओपल( opal ratna) तब प्राप्त होते हैं, जब उन्हें किसी भी तरह की अशुद्धियां व्याप्त होने लगती ह।यह नीले ,हरे ,लाल ,पीले नारंगी वर्ण के भी हो सकते हैं ।यह सिलिकेट खनिज परिवार से संबंधित माना जाता है।

ओपल( opal ratna) किन राशि के लोगों को धारण करना चाहिए???

ओपल( opal ratna)  शुक्र के प्रभाव से युक्त लग्न तुला लग्न तथा वृषभ लग्न के जातकों को धारण करना चाहिए ।ऐसे लोग जिनका जन्म अक्टूबर के माह में हुआ है। उनके लिए भी यह रत्न अच्छे प्रभाव को प्राप्त करने में मदद कर सकता है। उनके लिए भी यह भाग्यशाली सिद्ध हो सकता है।शुक्र जिसे सुंदरता का प्रतीक माना जाता है, जिसकी वैभवशीलता के समक्ष सांसारिक वस्तुओं का कोई मोल नहीं है।युवा एवं किशोर अवस्था का प्रतीक भी शुक्र ग्रह को माना जाता है।सांसारिक विभिन्न प्रकार की भोग विलास की वस्तुएं भी शुक्र ग्रह से संबंधित होती है।तेजस्वी स्वरूप ,श्याम वर्ण, मधुर वाणी के साथ-साथ चतुर स्वभाव स्त्री तत्व की प्रधानता से युक्त ग्रह शुक्र ग्रह को माना जाता है ।

शुक्र जो प्रेम तत्व के साथ-साथ जल तत्व की प्रतीक को निरूपित करते हैं।भगवान इंद्र के सानिध्य में इनके साम्राज्य का विकास होता है।विभिन्न प्रकार के सुगंध हो या श्वेत वर्ण से संबंधित वस्तुएं सभी का संबंध शुक्र ग्रह के प्रभाव शाली स्वरूप से माना जाता है।

ओपल रत्न के फायदे-

इसे भी पढ़ें – कार्यों में सफलता, व्यापार में वृद्धि एवं सभी परेशानियों से छुटकारा हेतु धारण करें पीताम्बरी नीलम 

ओपल रत्न के फायदे, Opal Ratna Ke Fayde

1. ऐसे जातक जिन्हें शुक्र की खराब दृष्टि से कई प्रकार की समस्याएं विचलित कर रही है, तो ऐसी अवस्था से बाहर निकलने के लिए ओपल का प्रयोग करना बहुत ही लाभदायक सिद्ध हो सकता है। यह जातक को आकर्षित करने वाली काया प्रदान करता है ।जातक के विभिन्न अंगों में सौंदर्य की धारा को प्रवाहित करता है, जिससे व्यक्ति को एक सौंदर्य युक्त काया की प्राप्ति होती है।उसके व्यवहार में उसके आचरण में सौम्यता आती है।

2. ओपल( opal ratna) के प्रभाव से ऐसे दंपतियों को बहुत ही राहत प्राप्त होता है, जिनका दांपत्य जीवन टनाऊ युक्त स्थिति से गुजर रहा है, या कई ऐसे कारक तत्व उत्पन्न होते हैं, जो उनके दांपत्य जीवन में अनेक समस्याओं को जन्म दे रहे हैं, जिसके कारण दांपत्य से विच्छेद की परिस्थिति भी उनके समक्ष आ खड़ी होती है।उनके दांपत्य जीवन से खुशहाली प्रेम वात्सल्य जैसी पूर्ण रूप से विद्यमान होती है, तथा तनावपूर्ण स्थिति को यह नियंत्रण में लाने में मदद करता है।अनेक प्रकार की कलह क्लेश को बढ़ाने वाली वस्तुओं पर भी यह नियंत्रण प्राप्त करने में मदद करता है, जिससे व्यक्ति के विवाहित जीवन में सफलता प्राप्त करने के सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते हैं।

3. ओपल रत्न( opal ratna) धारण करने से ध्यान के प्रयोजनों में बहुत ही अच्छे परिवर्तन देखने को मिलते हैं।यह मानसिक शांति प्राप्त करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है।धार्मिक दृष्टिकोण में वृद्धि होती है तथा सात्विक सहज ज्ञान की वृद्धि होती है।

ओपल रत्न के फायदे, Opal Ratna Ke Fayde

इसे भी पड़ें :- सियार सिंगी क्या है इसके चमत्कारी टोटके और कहां मिलता है ?

4. कई बार ऐसा भी देखने को मिलता है, कि जब शुक्र ग्रह बलिष्ठ होता है,तब वह विभिन्न प्रकार के शुभ योगों का निर्माण करता है।ऐसे में यह रत्न बहुत ही लाभदायक सिद्ध हो सकता है, तथा सरस्वती योग जैसे दुर्लभ योगों के प्रभाव को और अधिक प्रचंडता पूर्वक निर्माण कर उसे प्रभावशाली बनाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जा सकता है।

5. ऐसे लोग जो प्रेम प्रसंग में है, तथा चाहते हैं, कि उनके प्रेमी एवं प्रेमिका के बीच उचित संबंध बना रहे प्रेम में सफलता प्राप्त होती रहे तथा एक दूसरे के आलिंगन में सदा खुशहाल जीवन व्यतीत करते रहे तो ऐसी स्थिति के लिए या ऐसी परिकल्पना के परिपेक्ष में व्यक्ति विशेष को ओपल को शुक्र ग्रह से अभिमंत्रित कर अवश्य धारण करना चाहिए। इससे उनके साथी के साथ संबंध सुधारते हैं, तथा उनके रिश्तो में मजबूती आती है। विवाह से संबंधित कोई परेशानी चल रही हो या किसी को विवाह जैसे पवित्र बंधन में बनने में समस्याएं आ रही हो या विवाह जैसे मांगलिक कार्य संपन्न होने में कई और चने उत्पन्न हो रही हो तो ऐसी परिस्थिति में भी उस व्यक्ति को शुक्र ग्रह के मंत्रों से अभिमंत्रित की हुई ओपल रत्न को धारण करना चाहिए।

ओपल रत्न के फायदे, Opal Ratna Ke Fayde

इसे भी पढ़ें – काले जादू से रक्षा, सभी मनोकामना पूर्ति हेतु एवं जीवन में शांति हेतु धारण करें मूंगा रत्न

6. सांसारिक वस्तुओं का सुख तब तक किसी व्यक्ति को प्राप्त नहीं हो सकता, जब तक शुक्र ग्रह की कृपा ना हो ।ऐसे लोग जो अपनी आर्थिक स्थिति में बदलाव लाना चाहते हैं, या वित्त विशेष संबंधित चीजों में मजबूत पक्ष तैयार करना चाहते हैं, तो उन्हें सिद्ध किए हुए ओपल रत्न( opal ratna) को अवश्य धारण करना चाहिए। इससे निधि संबंधित चीजों में सफलता प्राप्त होती है, तथा धन आगमन के मार्ग में कोई भी व्यवधान उत्पन्न नहीं होता है।

7. विभिन्न प्रकार के कलाओं से संबंधित वर्ग में संलग्न व्यक्तियों को ही ओपल रत्न( opal ratna) अवश्य धारण करना चाहिए, जिससे उनके क्षेत्र में उन्हें प्रभुत्व प्राप्त हो।उनके कार्य की विशिष्ट पहचान उन्हें प्रसिद्धि प्राप्त करने में मदद करें।

Leave a Reply