Best lehsunia stone benefits in hindi – लहसुनिया रत्न के फायदे

लहसुनिया रत्न के फायदे – lehsunia stone benefits in hindi

लहसुनियां रत्न के निम्नलिखित फायदे उस जातक को हो सकते हैं जिसके द्वारा यह रत्न धारण किया गया है –

• लहसुनिया रत्न (lahsuniya ratna ke fayde in hindi) को कैट्स आई कहकर संबोधित किया गया है। जिसकी वजह से यह अंधेरे में भी बिल्ली के नेत्रों के समान चमकता है। इस रत्न में ऐसी शक्तियां विद्यमान होती है। जो जातक के जीवन में घोर अंधकार में भी सही पथ पर चलने की प्रेरणा देती है। यह रत्न उसे घनघोर निराशा में भी एक आशा की ज्योति प्रदीप्त होती हुई जातक को दिखाई देती हैl जिससे उसके अंदर आत्मबल बढ़ता है और वह विकट परिस्थितियों से लड़कर उन पर नियंत्रण स्थापित करने की क्षमता उसमें इस रत्न के कृपा से विद्यमान होती है।

cat eye stone benefits in hindi, cat's eye gemstone in hindi, lahsuniya pathar ke fayde, lahsuniya pathar pahanane ke fayde, lahsuniya ratna ke labh, lehsuniya stone benefits in hindi, lehsuniya stone ke fayde, लहसुनिया के गुण, लहसुनिया के फायदे, लहसुनिया के लाभ, लहसुनिया पत्थर के फायदे, लहसुनिया रत्न के लाभ, लहसुनिया रत्न पहनने के फायदे, लहसुनिया स्टोन के फायदे, lahsuniya ratna ke fayde in hindi
लहसुनिया रत्न के फायदे

 

• इस रत्न में विद्वान भौतिक ऊर्जा अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है। अतः जिस भी जातक में इस तत्व की कमी रहती है। जिसकी वजह से वह आलस्य पन एवं चीजों को डालने की आदत जैसी समस्या से ग्रसित होता है। ऐसी में उसके द्वारा यदि लहसुनियां रत्न (cat eye stone benefits in hindi) धारण किया जाता है तो उसके अग्नि तत्व से संबंधित विकार ठीक होते हैंं। जिससे वह खुद को बहुत ऊर्जावान महसूस करता है तथा अपने कार्यों को निर्धारित समय पर पूर्ण करता है।

इसे भी पढ़ें – पन्ना रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और अभिमंत्रित कहाँ से प्राप्त करें ?

 

• लहसुनियां रत्न (cat’s eye gemstone in hindi) को धारण करने से जातक को नेत्र संबंधित विकार हो या स्वसन संबंधित विकार या दिल से संबंधित विभिन्न प्रकार की बीमारियां हो। इन सभी चीजों में यह रत्न बहुत अधिक प्रभावशाली सिद्ध होता है तथा जातक को स्वास्थ्य लाभ पहुंचाने में बहुत मदद करता है।

• लहसुनिया रत्न (lahsuniya pathar ke fayde) को धारण करने से केतु के द्वारा दिए जा रहे विभिन्न प्रकार के कष्टों को यह रत्न जातक को बचाता है तथा केतु के दुष्प्रभाव को या प्रतिकूल परिणामों को यह रत्न अनुकूल परिणामों में परिवर्तित करता है।

• केतु से संबंधित रत्न लहसुनिया को धारण करने से जातक के जीवन में आकस्मिक दुर्घटनाएं जैसे – अचानक कारोबार या नौकरी पेशा जैसी चीजों में क्षति होना या पारिवारिक मामलों में किसी प्रकार से बहुत बड़ा नुकसान होना या अचानक किसी बड़ी मुसीबत में पड़ना इन सभी चीजों से यह रत्न जातक को बचाता है।

 

इसे भी पढ़ें :~ राहु, केतु और शनि ग्रह को शांत करने वाला चमत्कारी रत्न और धारण करने की विधि ?

• लहसुनिया रत्न (lahsuniya pathar pahnane ke fayde) को धारण करने से जातक के जीवन से रुपयों पैसे संबंधित परेशानियों का समाधान होता है तथा उसकी आर्थिक स्थिति भी धीरे-धीरे ठीक होने लगती है जिससे वह धन संचित करने में सफल होता है।

• लहसुनिया रत्न (lehsunia stone benefits in hindi) धारण करने से टोने टोटके नजर दोष या काला जादू संबंधित चीजों से भी बचा रहता है उस पर इन सब चीजों का असर नहीं होता है और यदि हो भी जाए तो कुछ दिनों में ही वे सारी चीजें इस रत्न के प्रभाव से निष्क्रिय हो जाती है।

• लहसुनिया रत्न (lehsunia stone wearing method in hindi) को धारण करने वाले जातकों के गुप्त शत्रु स्वयं ही अपनी परेशानियों में फस कर नष्ट हो जाते हैं। यह रत्न प्रत्यक्ष शत्रु हो या अप्रत्यक्ष शत्रु किसी को भी जातक के जीवन पर हावी होने नहीं देता है। यह शत्रु पक्ष से संबंधित विभिन्न परेशानियों को नियंत्रण में रखने की क्षमता रखता है।

इसे भी पढ़ें :- ओपल रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण करने की विधि ? 

 

• लहसुनिया रत्न (lahsuniya ratna ke labh) को धारण करने से जातक के जीवन में शायद ही कभी अकारण झगड़ा झंझट जैसी स्थिति उत्पन्न होती है या बिना मतलब के वाद विवाद संबंधित चीजों में जातक शायद ही कभी फसता है, ऐसे यह रत्न जातक में ऐसे अविश्वसनीय गुणों का तथा अविश्वसनीय कौशलों का निर्माण करता है lजिससे जातक कुशलतापूर्वक हर परिस्थिति से सही सलामत निकलने की क्षमता रखता है अपनी सूझबूझ एवं गूढ़ ज्ञान का प्रयोग कर वह किसी भी प्रकार की अनावश्यक चीजों में नहीं फसता है।

• पौराणिक काल से ही हमारे पूर्वजों के द्वारा इसका उपयोग छोटे बच्चों को नजर दोष संबंधित चीजों से बचाने के लिए किया जाता रहा है इसे भेलवा के साथ चांदी में पिरो कर छोटे बच्चों को धारण करवाया जाता है जिससे छोटे बच्चे पारलौकिक शक्तियों के दुष्प्रभाव से बचे रहे, माना जाता है कि छोटे बच्चे जब जन्म लेते हैं तब उनमें सभी सातों चक्र जागृत होते हैं ।

 

जिसकी वजह से वे उन चीजों का आभास कर सकते हैं या उन चीजों को प्रत्यक्ष रुप से देख सकते हैं जिन चीजों को हम अपने नग्न आंखों से देखने में असक्षम होते हैं जिसकी वजह से छोटे बच्चे बहुत जल्दी-जल्दी बीमार पड़ने लगते हैं या वह बहुत अधिक रोते हैं और ठीक से अपना भोजन भी नहीं कर पाते हैं।

इसे भी पढ़ें – मच्छ मणि क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण करने की विधि ? 

जिसकी वजह से उनका शरीर कमजोर हो जाता है एवं विभिन्न प्रकार की बीमारियों से गिरने लगता है इसलिए इस इस रत्न को खास विधि अपनाकर छोटे बच्चों को धारण करवाया जाता है।

• कई बार ऐसा देखा गया है कि घर में विभिन्न प्रकार की भौतिक संपदा की भरमार है किंतु घर के लोगों में आपसी तालमेल नहीं होती है तथा घर में दिन-रात कलह या झगड़ा झंझट बहुत अधिक होता रहता है।

इसका कारण विभिन्न प्रकार की नकारात्मक ऊर्जाए हो सकती है ऐसे में जातक के द्वारा यदि यह रत्ना धारण किया जाता है तो आकारण होने वाले घर में कलह से उसे निजात मिलता है तथा नकारात्मक शक्तियों का दुष्प्रभाव उसके घर परिवार के लोगों से सदा के लिए निष्क्रिय हो जाता है एवं धीरे-धीरे नष्ट हो जाता है।

• लहसुनिया रत्न (lehsunia stone ke fayde) को धारण करने से जातक के जीवन में जिस भी क्षेत्र में यह रत्नों से सफलता प्रदान करवाता है उसमें यह रत्न के प्रभाव से सफलता एवं आपका प्रभाव बहुत ही दीर्घ कालीन अवधि तक रहता है। जिससे जातक अपनी एक सफलता की स्वर्णिम गाथा लिखने में सफल हो पाता है।

 

इसे भी पढ़ें – सुलेमानी हकीक क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण विधि

 

• यह रत्न कार्यस्थल हो या घर परिवार के लोग या किसी प्रकार के सामाजिक गोष्ठी हर जगह यह रत्न धारण करने से जातक को बहुत ही विशिष्ट मान सम्मान प्राप्त होता है, इसके साथ-साथ उसके पद प्रतिष्ठा में लगातार वृद्धि होती रहती है।

• बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो अकारण ही किसी चीज को लेकर भयभीत रहते हैं। भविष्य में होने वाली कोई भी अप्रिय घटना को लेकर अपना वर्तमान खोखला करते चले जाते हैं।

उन्हें वर्तमान की सुध बुध नहीं रहती है किंतु अपने भविष्य में होने वाली आकस्मिक दुर्घटनाओं को लेकर चिंतन जरूर करते हैं। यह चिंतन उन्हें अपने स्वास्थ्य से संबंधित या अपने कैरियर से संबंधित या अपने संतान पक्ष से संबंधित या अपने नौकरी पेशा व्यापार से संबंधित हो सकता है।

ऐसे में यह रत्न धारण करने से जातक में धैर्य उत्पन्न होता है तथा वह व्यर्थ की चीजों में अपनी ऊर्जा को दबाने की जगह वर्तमान में अपने बाहुबल एवं बुद्धि का उपयोग कर अपने कार्य क्षेत्र में बहुत उपलब्धि हासिल करता है तथा उसका दिमाग फिजूल की चीजों में अपनी ऊर्जा बर्बाद करना बंद कर देता है तथा उसके मन से नकारात्मक विचार धीरे धीरे कर नष्ट होने लगते हैं।

 

अभिमंत्रित लहसूनिया रत्न कहां से प्राप्त करें ? 

मित्रों यदि आप चाहें तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित लहसुनियां रत्न प्राप्त कर सकते हैं जो हमारे यहां अभिमंत्रित मात्र – 100₹ रत्ती मिल जाएगा, लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड साथ में दिया जाएगा साथ ही साथ हमारे पंडित ही द्वारा मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा – Call and Whatsapp – 7567233021

Leave a Reply