पीताम्बरी नीलम के 10 चमत्कारी फायदे – pitambari neelam benefits in hindi

पितांबरी नीलम के फायदे – pitambari neelam benefits in hindi

 

पितांबरी नीलम के फायदे (pitambari neelam benefits in hindi) – पितांबरी नीलम एक ऐसा प्रकृति द्वारा प्रदत दिव्य रत्न है जिसमें शनि ग्रह एवं गुरु ग्रह बृहस्पति दोनों की ऊर्जाए समाहित होती है तथा दोनों से संबंधित गुप्त शक्तियों का वास इस रत्न में होता है इस रत्न की खासियत होती है कि यह देखने में नीले वर्ण का तो होता ही है इसके साथ-साथ इसका रंग हल्दी के समान पीला भी होता हैl यह दोनों रंगों का मिश्रण होता है इसी वजह से यह रत्ना दोनों ग्रहों से संबंधित होता हैl इस रत्न को विभिन्न गुरु मंत्र तथा शनि मंत्रों के द्वारा अभिमंत्रित एवं प्रतिष्ठित कर स्वर्ण धातु में मध्यमा उंगली में शनिवार को धारण किया जाता है|

 

शनि ग्रह जो एक तरफ क्रूर पापी एवं पितृ शत्रु के रूप में जाने जाते हैं शनि ग्रह को नवरत्नों में दास की उपाधि दी गई है इसलिए समाज, मजदूर वर्ग ,गरीब वर्ग तथा समिति आदि का प्रतिनिधित्व शनि ग्रह के द्वारा किया जाता हैl वहीं दूसरी ओर गुरु ग्रह बृहस्पति जिन्हें देवताओं का गुरु कहकर अलंकृत किया जाता है एक जातक को बहुत सी विडंबनाओ का सामना करवाता है बहुत सी प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करवाता है तथा जातक की स्थिति को दयनीय एवं दुर्दिन बना देता हैl वहीं दूसरी ओर गुरु बृहस्पति जो जातक को ज्ञान की गंगा एवं प्रबल भाग्य प्रदान करते हैं|

 

pitambari neelam benefits in hindi, pitambari neelam in hindi, pitambari neelam ke fayde, pitambari neelam stone benefits in hindi, pitambari stone benefits in hindi, pitambari stone in hindi, pitambari stone ke fayde, पितांबरी नीलम के फायदे, पीताम्बरी नीलम लाभ, पीताम्बरी रत्न
पितांबरी नीलम के फायदे

 

पितांबरी नीलम धारण करने से जातक को निम्नलिखित लाभ प्राप्त हो सकते हैं – pitambari neelam benefits in hindi

 

1. शनि ठंडा ग्रह होता है जिसकी वजह से इसके दुष्प्रभाव वाले जातक में आलस्य एवं चीजों को टालने जैसी समस्याओं का सामना करना आम बात होती है जातक में कितने भी गुण क्यों न हो किंतु कार्यों को टालने की आदत तथा आलस्य, अनिद्रा जैसी चीजें उसके ऊपर हर वक्त हावी रहती हैं पितांबरी नीलम (pitambari neelam benefits in hindi) धारण करने से जातक को इन सभी परेशानियों से मुक्ति मिलती है|

इसे भी पढ़ें – पन्ना रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और अभिमंत्रित कहाँ से प्राप्त करें ?

2. इसके साथ-साथ गुरु ग्रह के कृपा से उसके बुद्धि विवेक जागृत होता है तथा अपना बुद्धि विवेक का उपयोग कर जातक अपने गुणों का सही दिशा में अपने कार्यों का निर्वहन करता है जिससे उसकी तरक्की भी होती है एवं उसके दिनचर्या में भी बदलाव आने शुरू हो जाते हैं तथा शनि ग्रह के द्वारा दिए जा रहे दुष्प्रभाव भी कम होने लगते हैं|

 

3. पितांबरी नीलम (pitambari neelam benefits in hindi) धारण करने से जातक का भाग्य प्रबल होता है गुरु ग्रह बृहस्पति का आशीर्वाद यदि हमें प्राप्त नहीं होता है तो हमारे द्वारा किया जा रहा कड़ी मेहनत एवं कर्मठ होकर किया गया कार्य भी पूर्ण निपुणता से विफल हो जाता है हमें कभी भी सफलता प्राप्त नहीं हो पाती है| चाहे हम अपने जिंदगी का सुखचैन ही क्यों न खोकर किसी कार्य को पूर्ण रूप से करने का प्रयास करें किंतु जब तक गुरु ग्रह की कृपा दृष्टि हम पर नहीं होगी| हमें हमारे भाग्य का साथ नहीं मिलेगा एवं हमारा भाग्य प्रबल नहीं होगा तब तक हमारे कार्यों में हमें सफलता प्राप्त नहीं होगी|

 

इसी प्रकार जब शनि देव की कुदृष्टि पड़ती है तब जातक को कठिन एवं कड़ी मेहनत के बाद भी सफलता का स्वाद चखने को नहीं मिलता है जातक व्यर्थ में ही अपने ऊर्जा का क्षरण कर देता है अपने कार्यों में अपनी पूरी ऊर्जा लगा देता है किंतु शनि देव कभी भी किसी को भी तुरंत कोई भी फल नहीं देते हैं पहले जातक की भरपूर परीक्षा लेते हैं उसके बाद ही उसे सफलता का स्वाद कैसा होता है यह पता चलता है पितांबरी नीलम (pitambari neelam benefits in hindi) धारण करने से जातक का भाग्य प्रबल होता है इसके साथ-साथ उसके द्वारा किए जा रहे विभिन्न कार्यों में उसे सफलता प्राप्त होती है तथा शनि देव के साथ-साथ उसे गुरु ग्रह की कृपा की भी प्राप्ति होती हैl जिससे उसके द्वारा प्राप्त किया गया सफलता का स्वाद उसे दीर्घकालीन अवधि तक प्राप्त होता है|

इसे भी पढ़ें :~ राहु, केतु और शनि ग्रह को शांत करने वाला चमत्कारी रत्न और धारण करने की विधि ?

इसे भी पढ़ें :- पन्ना रत्न धारण करने के फायदे और नुकसान ?

 

4. पितांबरी नीलम (pitambari neelam stone benefits in hindi) धारण करने से जातक के व्यक्तित्व में चमत्कारिक रूपांतरण होता है तथा उसमें असीम गुणों का भंडार व्याप्त होता है इसके साथ-साथ वाह अविश्वसनीय कौशलों का भी मालिक बनता है तथा शनिदेव की कृपा से वह जिस भी कार्य क्षेत्र में संलग्न रहता है वहां उसे सफलता प्राप्त होती है|

 

5. पितांबरी नीलम (pitambari neelam ke fayde) को धारण करने से रुपए पैसे संबंधित परेशानियों का खात्मा होता है तथा जातक के नए-नए आय के स्रोत बनते हैं नवीनतम आय के स्रोत उसकी आर्थिक स्थिति को बहुत मजबूत बनाते हैं|

 

6. पितांबरी नीलम को धारण करने से विभिन्न प्रकार के मांगलिक चीजों का योग स्वत: ही बनने लगता है बहुत से ऐसे जातक होते हैं जो विवाह योग्य होते हैं किंतु उन्हें मन मुताबिक वर या वधू नहीं मि पाता या पाती है या विवाह योग्य होने के बाद भी किसी ना किसी वजह से उनका विवाह टूट जाता है परिस्थितियां चाहे जो भी हो किंतु इस रत्न को धारण करने से विवाह जैसे मांगलिक कार्यक्रम बहुत अच्छे से संपन्न होता है तथा यदि यह रत्न उन दंपतियों के द्वारा धारण किया गया है|

इसे भी पढ़ें :- ओपल रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण करने की विधि ?

जिनकी परेशानियां दांपत्य जीवन में लगातार बढ़ती ही चली जा रही है जिसकी वजह से दांपत्य जीवन की गाड़ी में पटरी हो गई है एवं तलाक जैसी स्थिति भी उनमें उत्पन्न हो सकती है ऐसे में पितांबरी नीलम (pitambari neelam ke fayde) किसी चमत्कार से कम नहीं होता है तथा विभिन्न प्रकार के वैचारिक मतभेदों को दूर कर पति पत्नी के रिश्ते को फिर से जीवंत करता है तथा उनमें प्रगाढ़ प्रेम बढ़ाता है|

 

7. पितांबरी नीलम को धारण करने से जातक की बुद्धि अच्छी होती है तथा रचनात्मक एवं बौद्धिक विकास में भी वृद्धि होती है|

 

8. पितांबरी नीलम (pitambari stone benefits in hindi) को धारण करने से जातक का कार्यस्थल हो या घर परिवार हर जगह वह एक अच्छा संबंधित से बैठाने की क्षमता रखता है जिससे उसे हर ओर से प्रशंसा की प्राप्ति होती है|

 

9. पितांबरी नीलम (pitambari neelam benefits in hindi) को धारण करने से जातक धैर्यवान बनता है तथा विकट से विकट परिस्थितियों में भी वह अडिग होकर अपने कार्यों का निर्वहन करता है lवह कभी भी अपने कर्म से विमुख नहीं होता है तथा परिस्थितियां इतनी भी बुरी क्यों ना हो वह अपने सूझबूझ से उन सभी पर नियंत्रण स्थापित करने का कौशल रखता है|

इसे भी पढ़ें – मच्छ मणि क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण करने की विधि ? 

10. पितांबरी नीलम (pitambari neelam benefits in hindi) को धारण करने से जातक विभिन्न प्रकार के मानसिक उलझनो एवं निरर्थक चिंताओं से दूर रहता है जिससे उसका मन प्रफुल्लित एवं आनंदित रहता है| इस रत्न के कारण उसे असीम शांति की प्राप्ति होती है|

 

अभिमंत्रित पीताम्बरी नीलम कहाँ से प्राप्त करें –

मित्रों यदि आप चाहें तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित पीताम्बरी नीलम प्राप्त कर सकते हैं जो हमारे यहाँ मात्र – 1000 रत्ती मिल जायेगा, लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कद साथ में दिया जाएगा साथ ही सतह मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा – Call and Whatsapp – 7567233021

 

 

Leave a Reply