नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ – Navratna Bracelet Ke Labh

नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ – Navratna Bracelet Ke Labh

नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ, navratna bracelet

 ke labh

नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ- रत्न (navratna bracelet ke fayde) शास्त्र में विभिन्न प्रकार के ग्रहों के लिए वैसे तो विभिन्न प्रकार के रत्न एवं उनके उप रत्नों की अनुशंसा की गई है, किंतु कभी-कभी ऐसा भी देखने को मिलता है, कि १ से अधिक ग्रह प्रतिकूल परिस्थिति में रहने लगते हैं, जिसके कारण व्यक्ति की अवस्था में दिनोंदिन परेशानियां निम्नता आने लगती है। ऐसे में परेशानी बढ़ने स्वभाविक सी बात है। इन परेशानियों से निपटने के लिए तथा विभिन्न प्रकार की अद्भुत अभिलाषाओं को पूर्ण करने के लिए नवरत्न का सहारा लिया जाता है।बहुत से लाभो से युक्त माने जाने वाले नवरत्न से युक्त विभिन्न प्रकार की चीजें जैसे अंगूठी ,पेंडेंट, ब्रेसलेट धारण किया जाता है।

नवरत्न से जड़ित ब्रेसलेट ग्रहों की दिशा एवं भाव को अध्ययन करने के बाद ही धारण किया जाता है। उसमें रत्न जब जड़े जाते हैं, तब ग्रहों की दिशा निर्देश के अनुसार ही विभिन्न प्रकार के रत्नों का समावेशन बनाया जाता है, तथा नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet ke labh in hindi) को स्वर्ण धातु या चांदी धातु या अष्ट धातु में धारण करना सबसे उत्तम माना जाता है।ऐसा माना जाता है, कि यदि अष्ट धातु या फिर स्वर्ण धातु में रत्नों को जरवाया जाए तो यह बहुत ही शीघ्र एवं सर्वाधिक परिणाम प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें:- सफेद हकीक के फायदे जानकर हो जाओगे हैरान

नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet ke labh kya hai) में विभिन्न ग्रहों से संबंधित रत्न जैसे- सूर्य की आभा से युक्त माणिक्य, चंद्र की शीतलता से युक्त जैविक रत्न मोती, मंगल की साहस एवं पराक्रम से युक्त जैविक रत्न -मूंगा, बुध ग्रह की बौद्धिक उत्कृष्टता को समाहित करने वाला रत्न -पन्ना, गुरु जो ज्ञान के पथ प्रदर्शक एवं भाग्य के निर्माता है ।उनका रत्न पुखराज सर्वत्र ब्रह्मांड के दंडाधिकारी एवं न्यायधीश शनि देव की कृपा से युक्त -नीलम रत्न ,राहु -केतु ऐसे असुर जिन्होंने देवताओं को छलकर अपनी बुद्धिमता का प्रयोग कर अपनी तीव्र बौद्धिक क्षमता एवं रचनात्मक कौशल के आधार पर अमृत पान करने वाले किया जो कलयुग में विभिन्न प्रकार के प्रसिद्धधियो को प्राप्त करने में सहायक सिद्ध हो सकते हैं।उनकी कृपा को प्राप्त करने वाले रत्न गोमेद एवं लहसुनिया भी इस ब्रेसलेट में समाहित माने जाते हैं। शुक्र ग्रह की वैभव शीलता उनका सौंदर्य उनकी कांति से युक्त रत्न-हीरा भी एक रत्न है, जो इन महा रत्नों में एक विशिष्ट स्थान रखता है। यह सब भी अपने आप में दिव्य स्थान रखने वाले रत्नों का संसिद्धि है।

नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ, navratna bracelet ke labh

शालीग्राम माला के लाभ जानिए

आइए जानते हैं नवरत्न ब्रेसलेट धारण करने से या उसका प्रयोग किसी भी प्रकार से करने से किन-किन लाभों को हम प्राप्त कर सकते हैं-

1. नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet pahanne ke fayde) उन लोगों के लिए बहुत ही उत्तम माना जाता है।जो अपना स्वत्व अपने ऑफिस में या अपने कर्मभूमि में बनाए रखना चाहते हैं।अपने इर्द-गिर्द का वातावरण के बुरे प्रभाव को कम करना चाहते हैं। तो ऐसे में उन्हें यह नवरत्न मंत्र को अभिमंत्रित कर अवश्य धारण करना चाहिए। यह न केवल उनके कर्मभूमि में उनके स्वत्व, उनके प्रभुत्व को स्वधा प्रदान करेगा।बल्कि कर्मभूमि में उनके द्वारा किए जा रहे कार्यों की भी विशेष पहचान मिलने की संभावना बनी रहेगी। उनके कार्यों का उत्कृष्ट उपलब्धि प्राप्त करने में भी अनेक प्रकार के अवसर निर्मित करने में भी यह रत्न सहायक सिद्ध हो सकता है।

2. ऐसे लोग जो अपना नया व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं या किसी भी तरह का नया कार्य करने की योजना बना रहे हैं, या विचार कर रहे हैं, तो उससे पूर्व उन्हें अभिमंत्रित की हुई नौ रत्नों (navratna bracelet ki jankari) से युक्त ब्रेसलेट अवश्य धारण करना चाहिए। यह उनके कार्य सिद्धि के प्रभाव को और अधिक प्रभावशाली बनाकर उनके सफल होने की संभावनाओं को बढ़ा देता है, तथा भिन्न -भिन्न प्रकार से जातक को उसके वृत्ति में आगे बढ़ने की प्रेरणा भी प्राप्त होती रहती है। कार्य संपन्नता में यदि कोई विघ्न बाधा भी आती है तो भी यह उसे दूर करने में मदद करता है ।जातक की आंतरिक इच्छाशक्ति को प्रबल बनाता है।जिससे व्यक्ति अपने कार्यों के प्रति बहुत ही समयनिष्ठ सदा बना रहता है, जिसके कारण कार्यों की संपन्नता की संभावनाएं भी बढ़ने लगती है।

नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ, navratna bracelet ke labh

इसे भी पढ़े:- काली गुंजा के फायदे 

3. नवरत्नों में विभिन्न रत्नों का
पूर्णावस्था होने के कारण विभिन्न प्रकार की तत्व की प्रधानता बनी रहती है, जैसे- अल्मुनियम, ऑक्सीजन, क्रोमियम, लौह तत्व, कैलशियम ,कार्बोनेट, मैग्निशियम, बेरिलियम, फ्लोरीन, कार्बन आदि ।जिसके कारण हमारे शारीरिक एवं मानसिक क्रियाओं पर इन धातुओं का बहुत अधिक प्रभाव देखने को मिलता है ।यह हमारे शरीर में संछिप्त होने वाले सप्तधातु की मात्रा को संतुलित करने में बहुत ही सहायक माना जाता है।सप्तधातु जो हमारे शारीरिक संरचना में किसी भी तरह के विकृति को ठीक करने की क्षमता रखते है, जब शरीर में किसी भी तरह की कमी सप्त धातु की संरचना में होने लगती है ।तब हम विभिन्न प्रकार के मानसिक एवं शारीरिक रोगों से ग्रसित रहने लगते हैं। सप्त धातु का सही अवस्था में एवं सही मात्रा में उपलब्धि हमारी मानसिक क्रियाओं में तथा शारीरिक क्रियाओं में हमें तृप्ति की अनुभूति प्रदान करता है। नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet ka mahatva) इसके संरक्षण के सभी मूलभूत तत्व पर गंभीरता से प्रभाव डालता है ।जिसके कारण व्यक्ति को संतुष्टि एवं प्रसन्नता की अनेक अनुपम अनुभूतियों की
समीक्षात्मक प्रतिमान वस्तुएं स्वयं के अंदर समाहित होने की अद्भुत शक्ति का आभास होता है।

नवरत्न ब्रेसलेट के लाभ, navratna bracelet ke labh

4. ऐसे लोग जो घर परिवार में हो रहे बहुत अधिक तनाव की स्थिति से गंभीर रूप से कुंठित हो चुके हैं, ।घर- परिवार में लगातार हो रहे कला क्लेश के कारण आप ना अपने व्यक्तिगत जीवन पर ध्यान दे पा रहे हैं, ना आपने वृत्ति से संबंधित चीजों पर पूर्ण ध्यान दे पा रहे हैं, जिसकी वजह से आपको लगातार क्षति का सामना करना पड़ रहा है, तो ऐसी स्थिति में आप को यह सिद्ध की हुई नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet benefits) अवश्य धारण करना चाहिए ।इससे यदि घर में आप से संबंधित कोई वाद-विवाद या अपवाद की स्थिति उत्पन्न होती है, जिसका कारण संभवतः आपकी कुंडली में कोई बड़ा दोष भी हो सकता है, तो उन सभी चीजों में यह बहुत ही अच्छे परिणाम देता है ।धीरे-धीरे ग्रह दशाओं की स्थिति को यह नियंत्रण में लाने में बहुत मदद करता है, जिससे आपको अच्छे परिणामों की प्राप्ति होने लगती है।धीरे -धीरे होने वाले परिष्कार से कई परेशानियों का समाधान स्वयं ही होने लगता है, तथा घर परिवार के लोगों से प्रेम प्राप्त करने एवं उनसे अच्छे संबंध बनाने में भी आप सफल रहते हैं।

इसे भी पढ़े:- सुलेमानी हकीक धारण करने की विधि 

5. नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet ka upyog) किसी भी व्यक्ति विशेष के द्वारा धारण किया जा सकता है, जिन्हें स्वास्थ्य की समस्या है। वह भी अच्छे स्वास्थ्य को प्राप्त करने के लिए धारण कर सकते हैं, कोई बहुत अधिक असफलताओं की सूची से थक चुका है, तो ऐसी परिस्थिति में भी सफलता के स्वाद को प्राप्त करने के लिए भी उसके द्वारा इसे धारण किया जा सकता हैl किसी तरह की ग्रहों की दशा, महादशा ,अंतर्दशा, शनि की साढ़ेसाती ,शनि की ढैया आदि जैसी चीजों में भी इसे बहुत लाभप्रद माना जाता है।ऐसे जातक जिन्हें स्मृति या स्मरण संबंधित विकार है, या किसी भी तरह की शारीरिक अक्षमता एवं मानसिक अक्षमता के कारण जीवन में बहुत अधिक कष्टों से गुजारा कर रहे हैं, तो ऐसी स्थिति में भी उनके लिए यह ब्रेसलेट धारण करना उनके प्रतिकूल परिस्थितियों में भी अनुकूल आवरण के आशा जगाने में यह बहुत ही प्रवीण रूप से सहायक होता है।

Note:- हमारे यहां नव दुर्गा ज्योतिष केंद्र से आप अभिमंत्रित की हुई नवरत्न ब्रेसलेट (navratna bracelet ka prabhav) मंगवा सकते हैंl हमारे गुरु जी के द्वारा विशेष रूप से नवरत्न ब्रेसलेट को नौ ग्रहों के बीज मंत्रों से प्राण प्रतिष्ठित करके एवं मंत्र पुश्चरण करके सिद्ध किया जाता है lउसके बाद किसी भी व्यक्ति विशेष को इसे धारण करने के लिए दिया जाता हैl आप अपनी किसी भी तरह के जटिल समस्या के समाधान के लिए भी हमारे नीचे लिखे हुए संपर्क नंबर पर कॉल कर के अपनी समस्या का समाधान प्राप्त कर सकते हैं।

हमारा संपर्क नंबर है-( 756 723 30 21)

Leave a Reply