कमलगट्टे की माला की पहचान – KamalGatte Ki Mala Ki Pehchan

कमलगट्टे की माला की पहचान – KamalGatte Ki Mala Ki Pehchan

कमलगट्टे की माला की पहचान, KamalGatte

 Ki Mala Ki Pehchan

कमलगट्टे की माला की पहचान ( कमलगट्टे की माला) कमल के बीज से बनता है।कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला)  पूजा पाठ में काम आने के अलावा यह खाने में भी काफी काम आता है। कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला) का प्रयोग एक औषधि के रूप में किया जाता है। कमलगट्टा कमल( कमलगट्टे की माला)  के फूलों के बीच में होता है। कमल के फूल के जो बीज होते हैं। उसे ही खाया जाता है और यह मूंगफली के दाने की तरह होता है, जिस तरह हम मूंगफली के दाने के छिलके हटाकर खाते हैं। उसी प्रकार कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala ki pahchan kaise karen) के छिलके को हटाकर उसके अंदर के फल को खाते हैं। इससे कई प्रकार की गंभीर समस्या दूर होती है। कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला)  का स्वाद भी बहुत ही अच्छा होता है।

अगर इसका टेस्ट करने के लिए आप खाएं तो इसे दोबारा आप अवश्य ही खाएंगे क्योंकि इसका स्वाद इतना अच्छा होता है, और साथ-साथ इसके फायदे भी हैं। कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला) आपको स्वास्थ्य से जुड़े हर समस्याओं को दूर करते हैं। अगर कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala ki pahchan kya hai) का सेवन सही रूप से किया जाए तो बीमार व्यक्ति बहुत ही जल्दी ठीक हो जाता है। उसकी बीमारी चाहे कोई भी हो चाहे उसकी बीमारी घुटने का दर्द हो, सिर दर्द हो या अगर किसी को श्वास लेने में भी समस्या होती है। तो इन सभी समस्याओं को जड़ से खत्म कर देता हैं, कमलगट्टा का फल। कहते हैं, इसको खाने से व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ हो जाता है।

इसे भी पढ़े :- श्री यंत्र की पूजा कैसे करे पूरी विधि!

कमलगट्टे की माला की पहचान, KamalGatte Ki Mala Ki

 Pehchan

कमल के फूल का हिंदू धर्म में बहुत ही अधिक महत्व है, और इसके साथ साथ इसे बहुत ही शुभ माना जाता है क्योंकि यह लक्ष्मी मां आसन भी है। इसके साथ साथ जो भी व्यक्ति लक्ष्मी मां को कमल के फूल अर्पित करता है, तो उसके जीवन के हर प्रकार के दुःख दुविधा दूर हो जाती है। कमल के बीज की माला को कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala se kya hota hai) का माला कहते हैं। कमल के बीज को सुखाकर कमलगट्टा( कमलगट्टे की माला) का शुद्ध माला बनाया जाता है। कमलगट्टा की माला का लाभ लेने के लिए हमें उसका सही पहचान करना अति आवश्यक होता है।

हमें मार्केट में तो कई प्रकार के कमलगट्टे( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala kaise hoti hai) की माला मिल जाते हैं। लेकिन उस में से कौन सा माला असली है कौन सा नकली है? इसका पता हम नहीं लगा पाते हैं। इसका वजह यह होता है। कि हमें इसके बारे में पता नहीं होता हैं, कि किस प्रकार इसका सही पता लगाया जाए। किस प्रकार से इस माला की सही परख की जाए। जिससे कि हमें कमलगट्टे के असली माला ही मिले। ताकि हमें उसका पूरा लाभ मिल सके कई बार ऐसा होता है। कि हमें सही माला ना मिलने की वजह से हम उसके फायदे से वंचित रह जाते हैं। उसका फायदा हमें नहीं मिल पाता है। तो इन सभी चीजों का फायदा लेने के लिए हमें कमलगट्टे( कमलगट्टे की माला) की असली पहचान के बारे में अवश्य ही जानना चाहिए।

कमलगट्टे की माला की पहचान –

इसे भी पढ़े:- अमेरिकन डायमंड क्या है?

कमलगट्टे की माला की पहचान, KamalGatte Ki Mala Ki Pehchan

1.कमलगट्टे

( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala ko kaise pahchane) की माला कठोर होते हैं, पर अधिक नहीं अगर आपको अधिक कठोर दिखे तो आप अवश्य ही यह समझ जाएं, की यह माला असली नहीं है। यह माला शीशे के टुकड़े का भी बना हो सकता है। अगर यह माला शीशे के टुकड़े का बना होगा तो आपको साफ पता चल जाएगा। कि शीशे का बना हुआ है या कुछ और का बना होगा। तो वह भी आपको पता चल जाएगा क्योंकि कमलगट्टे की माला कठोर तो होते हैं। पर थोडा नरम होते हैं। तो इसीलिए जब भी आप कमलगट्टे( कमलगट्टे की माला) की माला को खरीदें तो इस बात का खास ध्यान रखें। इससे आपको फायदा होगा और आप इस धोखे से बच जाएंगे, की आपको नकली माला दिया जा रहा है और फिर आप इसका सही इस्तेमाल करते हैं, तो फायदा भी आपको काफी मिलेगा।

2.कमलगट्टे की माला की पहचान( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala ke fayde)  माला छोटा नहीं होता हैं। इसकी माला बहुत ही बड़ा होता है। इस मामले को दो बार घुमा कर धारण किया जाता है क्योंकि अगर आप इसे एक बिना घूम आए धारण करते हैं, तो यह बहुत ही बड़ा हो जाता है, जिससे कि आपको समस्या होने लगती है। हर काम को करने में समस्या उत्पन्न करने लगता है। वह माला एक रुकावट बन जाता है। हर काम को करने के बीच में आ जाता है। अगर आप कमलगट्टे( कमलगट्टे की माला) की माला खरीदने जाते हैं, और आपको छोटा माला मिले। तो, आप तुरंत ही यह समझ जाए कि यह माला असली नहीं है, क्योंकि असली माला बहुत ही लंबा होता है।

इसे भी पढ़े:- गोमेद रत्न किस दिन धारण करना चाहिए 

और अगर आप यह माला ले लेते हैं, तो आपको नुकसान के अलावा और कुछ नहीं होगा इसमें आपको लाखों नुकसान हो सकते हैं। आपका पैसा इन्वेस्ट तो होगा ही साथ ही साथ अगर इसका लाभ नहीं मिलता है, तो आपका मन और ध्यान दोनों भटकना शुरू हो जाता है, क्योंकि उस वक्त आप यह सोचते हैं, कि इसका लाभ हमें क्यों नहीं मिल रहा और इन्हीं सब चीजों को सोचने की कारण अब सही चीज का निर्णय नहीं ले पाते हैं, और फिर आपको निर्णय लेने में भी काफी परेशानी आती है, तो इसीलिए आप कमलगट्टे की माला जब भी ले तो इन चीजों का खास ध्यान रखें।

कमलगट्टे माला के फायदे –

कमलगट्टे की माला की पहचान, KamalGatte Ki Mala Ki Pehchan

अगर किसी व्यक्ति को जोड़ों में दर्द रहता है, तो कमलगट्टे की माला धारण करने से या उसका फल खाने से बहुत ही जल्द आराम लगने लगता है। इसके साथ-साथ बहुत ही जल्द इस चीज का निवारण भी हो जाता है। अगर कोई विद्यार्थी है और उसका पढ़ने में मन नहीं करता वह पढ़ना तो चाहता है। पर पढ़ नहीं पाता हैं, अपना मन एकत्रित नहीं कर पाता हैं। किसी बात में इस प्रकार उलझ जाता है, कि उस सवाल के अलावा उसे कुछ दिखाई नहीं देता है, जिसके वजह से वह अच्छी तरह से वह पढ़ाई नहीं कर पाता है।

इन सभी चीजों का कारण यही होता है, इन सभी चीजों को ठीक करने के लिए कमलगट्टे की माला का आप लाभ ले सकते हैं, इससे आपको काफी फायदा होगा आपका मन एकत्रित होगा इसके साथ साथ आपकी पढ़ाई अच्छी होगी। आप हर काम को पूरे मन से करेंगे और साथ ही साथ अब जिस भी काम को करेंगे। उसमें सफलत आपको अवश्य ही मिलेगी। अगर किसी व्यक्ति के दांपत्य जीवन में काफी परेशानी चल रही है, तो कमलगट्टे( कमलगट्टे की माला)  की माला से वह भी समस्या से छुटकारा बहुत ही जल्द मिल जाता है। इसके साथ साथ कमलगट्टे( कमलगट्टे की माला) (kamal gatte ki mala ke jankari) की माला का फायदा हमें अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए भी उपयोगी होता है, और इस माला का सबसे ज्यादा लाभ आर्थिक स्थिति को ठीक करने में होता है।

मित्रों यदि आप अभिमंत्रित कमलगट्टे की माला  प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित मात्र 350 रुपिया मिल जाएगा, साथ ही साथ मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा – Call and Whatsapp -7567233021

 

Leave a Reply