पुखराज रत्न का प्रभाव – Pukhraj Ratna Ka Prabhav

पुखराज रत्न का प्रभाव – Pukhraj Ratna Ka Prabhav

 

पुखराज रत्न का प्रभाव – Pukhraj Ratna Ka

 Prabhav

पुखराज रत्न (pukhraj ratna ka prabhav kya hai) का प्रभाव हमारे जीवन पर विस्तृत होकर जब अनुकूल प्रभाव दिखाता है, तो हमारे भाग्य के सभी ताले खुल जाते हैं, हमारे जीवन की सारी परेशानियों का अंत शुरू हो जाता है, हमारा सौभाग्य खुल जाता है।

इसे भी पढ़े:- मच्छ मणि क्या है?

पुखराज रत्न (pukhraj ratna kaisa hota hai) गुरु ग्रह बृहस्पति को समर्पित होता है, बृहस्पति ग्रह पूरे ब्रम्हांड में सबसे बड़ा ग्रह है, जिसे देवताओं के गुरु होने की उपाधि प्राप्त हैl इसमें बहुत से विशेष गुण होते हैं, और उन्हीं सभी गुणों को पुखराज रत्न अपने अंदर समाहित रखता है। पुखराज रत्न देखने में सूर्य की किरणो के समान पीला रंग का होता है। पलाश के पुष्पक के रंग के समान होता है, इसका रंग सोने के समान पिला होता है, इसका रंग सूर्यमुखी के फूल के समान पीला होता है, इसकी मनमोहक रंग हमारे मन मस्तिष्क को प्रफुल्लित कर देती है।

पुखराज रत्न (pukhraj ratna ka mahatva) बहुत महंगा होता है, इस अमूल्य रत्न की कीमत दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। जिसकी वजह से लोग इसके उपरत्न को भी धारण करते हैं, तथा विशिष्ट गुणों का लाभ उठाते हैंl बशर्ते की धारण किया जा रहा उपरत्न या रत्न प्राकृतिक रुप से निर्मित हो ना कि कृतिम रुप से निर्मित रत्न या उपरत्न हो, इसकी उपयोगिता बहुत अधिक होने से पुखराज रत्न लोगों में काफी प्रसिद्ध है, तथा ज्योतिष विद्वानों के मद में भी इसे रत्नों का राजा कहा जाता हैl पुखराज रत्न को जिस भी जातक के द्वारा धारण किया जाता है, उसके जीवन में समृद्धि एवं खुशहाली लेकर पुखराज रत्न आता है, उसका जीवन खुशहाली एवं समृद्धि से परिपूर्ण हो जाता है।

 विद्यार्थी वर्ग या किसी भी प्रतियोगिता परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे परीक्षार्थियों के लिए यह रखना अत्यंत ही उपयोगी होता हैl उनके सफल होने की संभावना पुखराज रत्न  से बहुत अधिक बढ़ जाती है, तथा पठन पाठन संबंधित चीजों में भी युद्ध आसानी होती है। उनके ज्ञान का दायरा बढ़ता है। पुखराज रत्न (pukhraj stone ka prabhav kya hai) धारण करने से लोगो की आर्थिक स्थिति शुधरती है, तथा धन संबंधित विभिन्न प्रकार की परेशानियों का खात्मा होता है, तथा धन संचित करवे लोग आगे अपना कारोबार नौकरी पेशा आदि बढ़ाते हैंl पुखराज रत्न को धारण करने से हमारे अंदर धार्मिक भावना उत्पन्न होती है, तथा हम अध्यात्म उसे अच्छे से जुड़ पाते हैं। धार्मिक चीजो की और हमारा रुझान बढ़ जाता है, तथा धार्मिक कर्मकांड में हमारी हिस्सेदारी बढ़ जाती है, इस व्यक्ति को धारण करने से हमें असीम ज्ञान की प्राप्ति होती है।

इसे भी पढ़े:- पन्ना रत्न पहनने का मंत्र 

विभिन्न प्रकार के उलझन से हमारा दिमाग निकलकर सही ज्ञान को ग्रहण करने की ओर अग्रसर होता हैl हमारी मानसिक उलझन को शांत कर हमें असीम शांति प्रदान करता है lमन में शीतलता प्रदान करता है, जिस भी जातक के द्वारा पुखराज रत्न (pukhraj stone ka prabhav) धारण किया जाता है, उसके जीवन में किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं रहती हैl उसका जीवन खुशियों से भर जाता हैl पुखराज रत्न धारण करने से व्यक्ति में निर्णायक क्षमता बढ़ता है, जिसे कठिन से कठिन एवं जटिल से जटिल परिस्थिति में भी वह अपना धैर्य नहीं खोता तथा सही निर्णय लेकर अपने कर्तव्य का पालन करता है।

 पुखराज रत्न (pukhraj ratna pahanne se kya prabhav padta hai) को धारण करने से जातक में नेतृत्व की क्षमता बढ़ती है, उसके अंदर लीडरशिप क्वालिटी बढ़ती है, जिसे लोग देखकर दंग रह जाते हैं, उसके बातों को लोग बहुत ध्यान से सुनते हैं, लोग उसकी बातों को समझते हैं l उसके विचारों को लोग अच्छे से समझते हैं, तथा उसका पालन भी करते हैंl लोग उसके व्यक्तित्व को देखकर अचंभित होते हैं, तथा उसका खूब मान सम्मान करते हैं, एवं प्रशंसा करते नहीं थकते हैं।

 पुखराज रत्न (Pukhraj Ratna Ka Prabhav) धारण करने से व्यक्ति में चमत्कारिक रूप से उसके व्यक्तित्व का रूपांतरण होता है, जो कि उसके लिए बहुत अनुकूल एवं सकारात्मक सिद्ध होता हैl उसके कार्य खुद-ब-खुद संपन्न होने लगते हैं, तथा लोगों का सहयोग भी उसे बहुत बड़े स्तर पर प्राप्त होता है, जिससे उसका नाम प्रसिद्धि आदि खूब बढ़ता है।

 पुखराज रत्न (pukhraj ratna ke fayde) को धारण करने से विवाह संबंधित जितनी भी परेशानियां होती है lसभी का खात्मा होता है, जिन लोगों की इच्छा होती है, कि उनका विवाह शीघ्र हो तथा उन्हें एक अच्छे वर या अच्छी वधू मिले, जिसके साथ वह अपना पूरा जीवन अच्छे से गुजार सके तथा अपने दांपत्य जीवन का सुख भरपूर तरीके से उठा सके, ऐसे में पुखराज रत्न बहुत कारगर साबित हो सकता है lबहुत से लोगों को संतान धन की चाहत होती है, कि उन्हें बच्चे हो किंतु वह संतान हीन रहते हैं lउन्हें समझ नहीं आता कि वह क्या करें जिससे उन्हें संतान की प्राप्ति हो ऐसे में यह रत्न उनके सभी महत्वकांक्षीओं को पूर्ण करता है, तथा उनकी सुनी गोद भर देता हैl उनका घर आंगन खुशियों से भरा रहता है, उनके घर में भी किलकारियां गूंजने लगती है।

इसे भी पढ़े:- नीलम रत्न के फायदे 

कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो अपने संतान पक्ष से काफी दुखी रहते हैं, एवं निरंतर उन्हें संतान पक्ष से चिंताएं मिलती रहती है lसंतान का व्यवहार अजीब होने की वजह से वे लोग बहुत ही चिंतित रहते हैं, ऐसे में पुखराज रत्न (pukhraj ratna ke labh) बहुत कारगर होता है lसंतान संबंधित जितनी भी परेशानियां होती हैl उन सभी का खात्मा होता है, तथा संतान की बुद्धि भ्रमित ना हो कर अच्छा होने लगता है, तथा उसमें भ्रांति भ्रांति तरीके से बदलाव देखने को मिलते हैं lवह एक आज्ञाकारी संतान के रूप में परिवर्तित होने लगता है। उसकी गलत संगति छूट जाती है, तथा अच्छे संगत में अपना अच्छा व्यक्तित्व का निर्माण करता है।

पुखराज रत्न (pukhraj ratna ki jankari) जिस भी व्यक्ति के द्वारा धारण किया जाता है, उसका मस्तिष्क का तेज बहुत प्रबल होता है, उसे देखकर ही लोग उसके समक्ष नतमस्तक होते हैंl उसका चेहरे का चमक बताता है, कि वह कितना विद्वान व्यक्ति है, और उसमें कितनी क्षमता है, तथा उसमें कितनी ज्ञान की गंगा बह रही है, लोग उसे अपना गुरु मानते हैं, तथा उसके द्वारा कही गई वाणी को साक्षात करने की पूरी कोशिश करते हैं।

इसे भी पढ़े:- लाजवर्त स्टोन के फायदे 

पुखराज रत्न (pukhraj ratna ka prabhav in hindi) को धारण करने से विवाह संबंधित जितनी भी परेशानियां होती है, सभी का खात्मा होता है, जिन लोगों की इच्छा होती है, कि उनका विवाह शीघ्र हो तथा उन्हें एक अच्छे वर या अच्छी वधू मिले, जिसके साथ वह अपना पूरा जीवन अच्छे से गुजार सके तथा अपने दांपत्य जीवन का सुख भरपूर तरीके से उठा सके, ऐसे में पुखराज रत्न बहुत कारगर साबित हो सकता है lबहुत से लोगों को संतान धन की चाहत होती है, कि उन्हें बच्चे हो किंतु वह संतान हीन रहते हैं lउन्हें समझ नहीं आता, कि वह क्या करें जिससे उन्हें संतान की प्राप्ति हो ऐसे में पुखराज रत्न उनके सभी महत्वकांक्षीओं को पूर्ण करता है, तथा उनकी सुनी गोद भर देता हैl उनका घर आंगन खुशियों से भरा रहता है, उनके घर में भी किलकारियां गूंजने लगती है।

कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो अपने संतान पक्ष से काफी दुखी रहते हैं, एवं निरंतर उन्हें संतान पक्ष से चिंताएं मिलती रहती है lसंतान का व्यवहार अजीब होने की वजह से वे लोग बहुत ही चिंतित रहते हैं, ऐसे में पुखराज रत्न (pukhraj ratna ke chamatkar) बहुत कारगर होता है, संतान संबंधित जितनी भी परेशानियां होती हैl उन सभी का खात्मा होता है, तथा संतान की बुद्धि भ्रमित ना हो कर अच्छा होने लगता है, तथा उसमें भ्रांति भ्रांति तरीके से बदलाव देखने को मिलते हैं lवह एक आज्ञाकारी संतान के रूप में परिवर्तित होने लगता है। उसकी गलत संगति छूट जाती है, तथा अच्छे संगत में अपना अच्छा व्यक्तित्व का निर्माण करता है।

पुखराज रत्न (pukhraj ratna ke chamatkari upay) जिस भी व्यक्ति के द्वारा धारण किया जाता है, उसका मस्तिष्क का तेज बहुत प्रबल होता है, उसे देखकर ही लोग उसके समक्ष नतमस्तक होते हैंl उसका चेहरे का चमक बताता है, कि वह कितना विद्वान व्यक्ति है, और उसमें कितनी क्षमता है, तथा उसमें कितनी ज्ञान की गंगा बह रही है, लोग उसे अपना गुरु मानते हैं, तथा उसके द्वारा कही गई वाणी को साक्षात करने की पूरी कोशिश करते हैं।

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ पुखराज रत्न प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित किया हुआ पुखराज रत्न मात्र – 300₹ और 600₹ रत्ती मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

 

Leave a Reply