जमुनिया रत्न की पहचान – Jmuniya Ratna Ki Pehchan

जमुनिया रत्न की पहचान – Jmuniya Ratna Ki Pehchan

जमुनिया रत्न की पहचान(jmuniya ratna ki

 pehchan)

जमुनिया रत्न की पहचान(jmuniya ratna ki pehchan) जमुनिया रत्न के पहचान जानने से पहले जमुनिया रत्न के बारे में कुछ खास बातें जान लेते हैं। जमुनिया रत्न एक प्रकार का प्रकृतिक पत्थर है, जो कि यह प्राकृतिक पत्थर बहुत जगहों में पाया जाता है। जमुनिया रत्न को शनि का रत्ना माना जाता है, और जमुनिया रत्न को शनि के लिए पहना जाता है, अगर किसी व्यक्ति को शनि दोष है, या शनि दोष से जुड़ी कोई भी समस्या जैसे शनि का साढ़ेसाती चलना या फिर शनि की दशा और महादशा खराब होना सभी चीजों से छुटकारा पाने के लिए जमुनिया रत्न धारण अवश्य ही 00 चाहिए। इन सब चीजों में जमुनिया रत्न आपको काफी फायदा दिलाता है।

जमुनिया रत्न(jmuniya ratna) को बहुत ही शुभ माना जाता है। जमुनिया रत्न एक ऐसा अनोखा पत्थर है, जिसे की ज्योतिषी तो इसे पहनने की सलाह देते ही हैं। साथ ही साथ जमुनिया रत्न के अनेक प्रकार के आभूषण बनाए जाते हैं, जो कि स्त्री को बहुत ही अधिक प्रिय लगता है। के पहचान के बारे में आपको जानना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि मार्केट में आज कल जमुनिया के नाम पर नकली जमुनिया दे दिया जाता हैं, और हमें इसकी पहचान ना होने की वजह से हम नकली जमुनिया ले लेते हैं, क्योंकि हमें इसकी पहचान नहीं होती हैं।

इसे भी पढ़ें – पन्ना रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और अभिमंत्रित कहाँ से प्राप्त करें ?

जिसके कारण हम कई बार धोखा खा जाते हैं, कि यह असली है, या नकली और फिर आखिर में हम जमुनिया ले लेते हैं, तो अगर आपको धोखा खाने से बचना है, तो आप जमुनिया की पहचान के बारे में अवश्य ही आपको जानना चाहिए। आप किसी भी चीज को खरीदते हैं, तो उसके बारे में जानना आपका पूरा अधिकार है। आप बिना जाने किसी भी चीज को ना खरीदें। जमुनिया रत्न एक ऐसा चमत्कारी पत्थर है, जिससे कि इसे धारण करने वाले व्यक्ति बहुत ही अधिक धनवान बन जाता है।

लेकिन जमुनिया को धारण करने से पहले उस जाति को क्या पता कर लेना चाहिए कि उस व्यक्ति की कुंडली में इस जमुनिया रत्न को धारण करने का है, या नहीं क्योंकि अगर उस व्यक्ति की कुंडली में एक जमुनिया रखना को धारण करने का नहीं है, तो उसे धारण नहीं करना चाहिए। अगर आप इसे धारण करते हैं, तो आप और भी गरीब हो जाते हैं, लेकिन वही अगर आपकी कुंडली में इसे धारण करने को है, तो आप इसे धारण अवश्य ही कीजिए। आप राजा बन सकते हैं।

जमुनिया को हर व्यक्ति धारा नहीं कर सकता है, क्योंकि किसी के कुंडली में नहीं है, तो किसी की पास इतने पैसे नहीं हैं, कि इसे धारण कर ले जो व्यक्ति इसे धारण करते हैं, वह वाकई में बहुत ही अधिक सौभाग्यशाली होते हैं। लेकिन इन लोगों में से कई लोगों को लाभ नहीं मिल पाता हैं। इसका कारण यह है, कि वह व्यक्ति सही जमुनिया का चयन नहीं कर पाता है। वह नकली जमुनिया ले लेता है जिसकी वजह से उसे किसी भी तरह का फायदा नहीं होता है।

जमुनिया रत्न की पहचान(jmuniya ratna ki pehchan)

इसे भी पढ़ें:- जमुनिया रत्न कब पहने जानिए

उत्तर:- आइए जानते हैं, कि हम कैसे पहचाने किए रत्ना असली है, या नकली है, जब भी हम मार्केट में रखना खरीदने जाते हैं, तो हमें यह पता होना चाहिए कि असली और नकली जमुनिया रत्न में क्या फर्क होता है? तो जब भी आप जमुनिया रत्न को खरीदे तो आप यह अवश्य है, देखेगी जमुनिया रखना आप के नंगे आंखों से यह चमकदार दिखाई देता है, या नहीं अगर यह आप की नंगी आंखों से चमकदार दिखाई देता है, तो इसका मतलब या नकली जमुनिया रत्न है।

यह असली जमुनिया रखना नहीं है, असली जमुनिया रत्न आप के नंगे आंखों से चमकदार नहीं दिखाई देता है, और अगर आपको इस तरीका से नहीं समझ में आता है, तो आप जब भी जमुनिया रत्न खरीदे तो उसे छूकर अवश्य ही देखें ऐसा नहीं होना चाहिए कि वह आपको दे रहा है, और आप सीधे लेकर उसे अपने पास रखें ऐसा नहीं करना उसे अपने हाथों से छू कर देखिए और यह देखिए कि क्या यह अधिक कठोर दिख रहा है, अगर हां तो यह नकली जमुनिया रत्न है, क्योंकि जमुनिया रत्न अधिक कठोर नहीं होता है, इसलिए आप जब भी खरीदे तो ऐसा करके अवश्य ही देख ले।

साथ ही साथ आप यह भी देखें कि जमुनिया रत्न टेढ़ा मेढा तो नहीं है। अगर तेरा मेरा है, तो उसे आप ना ही ले अन्यथा आपको इसके बुरे प्रभाव भी पड़ने लगते हैं। इसीलिए आपको जो जमुनिया रत्न एक समय भी दिखाई दे उसे ही ले। आप इस बात का ध्यान रखेंगे।

इसे पहचानने की एक पहचान और भी है, वह यह है कि आप जमुनिया रत्न को सूर्य की रोशनी में रखेंगे तो आपको दो परत दिखाई देगा। यह भी एक पहचान है यदि वह दो परत आपको दिखाई नहीं दे रहे हैं, तो इसका मतलब आप समझ जाइए की या जमुनिया रत्ना नकली है। कई बार ऐसा भी होता है, कि आपको नकली जमुनिया रत्न में भी तो परत कभी-कभी दिखाई दे देता है, तो आ…प उसे सूर्य की रोशनी में रखें अगर आपको उसमें पीला प्रकाश आपको प्रतीत हो रहा है, तो आप समझ जाइए कि यह रत्न नकली है। उसे अपना ले लो आपके लिए उचित नहीं है। इसका परिणाम आप.को अच्छा नहीं मिलेगा।

इसे भी पढ़ें:- कमलगट्टे की माला की पहेचान

इस रत्न को पहचानने के लिए यह तरीका भी आप अपना सकते हैं। आप जमुनिया रत्न को अपने हाथों में रख लीजिए और आप उसे अपनी उंगली से उस पर प्रेशर दीजिए। यदि आपको उसमें आपकी उंगली का निशान पड़ जाता है, जिस उंगली से आप उसे प्रेशर दे रहे थे, तो आप समझ लीजिए कि यह रत्ना असली नहीं है क्योंकि असली रत्न में आपकी उंगली का निशान नहीं पड़ता है।

सबसे महत्वपूर्ण और अंतिम पहचान रत्न पारदर्शी होना चाहिए और यदि ऊपर से आप रोशनी डाले तो नीली आभा बाहर निकलने चाहिए। अगर आपको असली रत्न खरीदना है, तो उस रत्न को सर्टिफिकेट के साथ खरीदें। इससे आपको फायदा होगा और अगर आप ऐसी जगह है, जहां इस रत्न का सर्टिफिकेट के साथ मिल पाना मुश्किल है, तो आप इस इन तरीकों को अपना सकते इससे आपको काफी मदद मिलेगा और आप नकली जमुनिया रखना लेने से बच सकते हैं।

मित्रों यदि आप अभिमंत्रित किया जमुनिया रत्न प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित मात्र -150 रुपिया रत्ती मिल जाएगा, लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड साथ में दिया जाएगा साथ ही साथ मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा – Call and Whatsapp -7567233021

 

Leave a Reply