जमुनिया रत्न पहनने की विधि, Jamuniya Ratna Pahnne Ki vidhi

जमुनिया रत्न पहनने की विधि, Jamuniya Ratna Pahnne Ki vidhi

जमुनिया रत्न पहनने की विधि, jamuniya ratna pahnne ki vidhi

जमुनिया रत्न पहनने की विधिजमुनिया रत्न (jamuniya ratna pahnne ki vidhi)  एक प्रकार का प्रकृतिक पत्थर है। जमुनिया रत्न शनि ग्रह के लिए पहना जाता है। जमुनिया रत्न धारण करने से अनेक प्रकार के जातकों को लाभ प्राप्त होता है। जमुनिया रत्न में इन्हीं अनेक लाभों को प्राप्त करने की अद्भुत शक्ति होती है।

इन शक्तियों से हम अपने जीवन की हर दुविधा को दूर कर सकते हैं। अपने जीवन की हर एक गलतफहमी को दूर कर सकते हैं। जमुनिया रत्न महंगी होती है। जिसके कारण इसे बहुत ही कम जातक धारण कर पाते हैं। जमुनिया रत्न को शनि ग्रह का उपरत्न माना जाता है।

जमुनिया रत्नों को बहुत ही शुभ और अनेक फायदों वाला एक स्रोत माना जाता है। जमुनिया रत्न साइबेरिया तथा ब्राजील में बहुत ही अधिक मात्रा में पाया जाता है। जमुनिया रत्न को धारण करने से जातकों के जीवन में अच्छी नौकरी होती है। उनका पेशा अच्छा होता है। उनकी आर्थिक स्थिति बहुत ही अच्छी होती हैं।

जमुनिया रत्न को अगर कोई भी जातक धारण करता है, पूरे विधि के साथ तो उस जातक को सुख समृद्धि, धन-संपत्ति, मान सम्मान आदि प्राप्त होते हैं। इन सभी चीजों को प्राप्त करने में जमुनिया रत्न एक चमत्कार का कार्य करता है। जमुनिया रत्न(jamuniya ratna ke fayde) इन सभी चीजों को जातकों को दिलाने के लिए अपनी पूरी भूमिका निभाता है।

इसीलिए अगर आप जमुनिया रत्न को पूरी विधि के साथ पहने और इसे सिद्ध करके पहने तो इससे आपको मिलने वाला लाभ दोगुना हो जाता है। फिर आपके जीवन में कोई भी दुविधा, दुख या संकट नहीं आता है।

जमुनिया रत्न पहनने से लाभ –

जमुनिया रत्न पहनने की विधि, jamuniya ratna pahnne ki vidhi

इसे भी पढ़ें:-पांच मुखी रूद्राक्ष की पहचान जानिए मतलब

जमुनिया रत्न को बहुत ही शुभ माना जाता है। जमुनिया रत्न के जितने फायदे हैं। उतने इसका नुकसान भी है। पर आपको नुकसान तभी होता है। जब आप इसका सही इस्तेमाल नहीं करते कई बार हम इसका फायदा लेने की वजह से इतनी जल्दी में रहते हैं। कि हमने क्या गलत ही करते हैं।

हमें यही पता नहीं चल पाता है। तो आप जामुनिया रत्ना ((jamuniya ratna ke labh)का उपयोग जब भी करें तो पूरे ध्यान से और विधि से ही करें अन्यथा आपको इसका बुरा परिणाम देखने को मिलता है।

अगर आप इनके बुरे विचारों से और बुरे परिणामों से बचना चाहते हैं। तो आप इसका इस्तेमाल अच्छे तरीके से करें क्योंकि ऐसा तभी होता है। जब हम इसका उपयोग सही से नहीं कर पाते हैं और सही से उपयोग न करने का वजह यह होता है।

कि हम उसके बारे में सही से जान नहीं पाते इसका सही इस्तेमाल हम कैसे करें? नहीं वजह से हमें बहुत बड़ी समस्याओं से गुजरना पड़ता है। जमुनिया रत्न का फायदा हमें घुटनों के दर्द से छुटकारा दिलाने में सिर दर्द से छुटकारा दिलाने में और तो और यह हमारे आर्थिक स्थिति और दांपत्य जीवन में भी काफी सुधार लाता है।

जमुनिया रत्न पहनने से जातक अपनी जिम्मेदारी को समझ पाते हैं और उस जिम्मेदारी को बहुत है। बखूबी के साथ निभाना भी सीख लेते हैं और अगर कोई साथी को नशे की लत लग जाती है। यह लगी हो तो उसे छुड़ाने में बहुत ही कारगर माना जाता है।

जमुनिया रत्न को जमुनिया रत्न (jamuniya ratna)धारण करने से व्यक्ति की नशे की लत पूरी तरह से छूट जाता है और फिर वह व्यक्ति अपने जीवन में नशे की आदत को छोड़कर बहुत ही खुश रहता है और फिर उस जातक को शांति और सुकून प्राप्त होता है।

अगर कोई व्यक्ति शनि की साढ़ेसाती या शनि की महादशा से गुजर रहा है। तो उस व्यक्ति को जमुनिया रत्न अवश्य ही धारण करना चाहिए उससे इस इस व्यक्ति की साढ़ेसाती और शनि की दशा महादशा सब खत्म हो जाती है।

जमुनिया रत्न पहनने की विधि

जमुनिया रत्न पहनने की विधि, jamuniya ratna pahnne ki vidhi

इसे भी पढ़ें:- चार मुखी रूद्राक्ष की पहचान जानिए और समझिए

• मकर राशि के जातकों के लिए जामुनिया रखना बहुत ही शुभ और फायदेमंद माना जाता है। ऐसा कहा जाता है। कि मकर राशि के जातकों के द्वारा अगर जमुनिया रत्न धारण किया जाए तो। उनके जीवन की बाधाएं खत्म हो जाती है। इसके साथ साथ कर्क, मेष और बृषक राशि के जातकों भी जमुनिया रत्न(jamuniya ratna ke labh)को धारण कर सकते हैं। उन्हें भी इन सभी चीजों से लाभ मिलता है।

जमुनिया रत्न शनि का उपरत्न है। इसीलिए जामुनिया रत्न को जातक अगर धारण करते हैं। तो शनिवार के दिन ही इसे धारण करना चाहिए। इस दिन धारण करने से बहुत ही लाभ मिलता है। जमुनिया रत्न को इस दिन धारण करने से जमुनिया रत्न की शक्तियां बढ़ जाती है।

जिससे कि वह काफी कारगर साबित होता है और उसके साथ-साथ जमुनिया रत्न को अगर शुद्ध और सिद्ध किया जाए करके धारण किया जाए तो, वह काफी लाभ प्राप्त होता है और लाभकारी सिद्ध होता हैं। जमुनिया रत्न को सिद्ध करने के बाद उसमें अद्भुत शक्ति आ जाती है और उसके साथ साथ जमुनिया रत्न के आसपास के क्षेत्रों में जमुनिया रत्न(jamuniya ratna ke fayde) से सकारात्मक ऊर्जा फैल जाती है।

जमुनिया रत्न को चांदी में धारण करना बहुत ही शुभ माना जाता है और इसका परिणाम भी काफी शुभ होता है। जमुनिया रत्न को धारण करने से पहले इसे कच्चा दूध या गंगाजल कुछ समय के लिए रख सकते हैं।

जमुनिया रत्न पहनने की विधि, jamuniya ratna pahnne ki vidhi

इसे भी पढ़ें:- हल्दी माला के लाभ जानकर हो जाओगे हैरान

जिससे कि इसके नकारात्मक शक्तियां हैं गंगाधर के साथ भूल जाती है। उसके बाद शनि के इस मंत्र का जाप करे। “ॐ शनि शनिश्चराय नमः” इस मंत्र के जाप करने के बाद आप अपने दाहिने हाथ के मध्य उंगली में धारण करें। परंतु इस मंत्र का जाप करते समय आपको इस बात का खास ध्यान रखना है। की इस मंत्र का उच्चारण करते वक्त इस मंत्र में कोई भी त्रुटि नहीं होनी चाहिए।

अन्यथा आपको इसका परिणाम सही नहीं मिलेगा। इसका परिणाम बुरा भी हो सकता है और वहीं अगर इस मंत्र का उच्चारण सही तरीकों से एक और पूर्ण रूप से किया जाए तो। काफी लाभ मिलता है। इस मंत्र का उच्चारण करने से आपकी मन की भी छुट्टी होती है।

इससे आपको काफी फायदा होगा और साथ ही साथ आप की स्मरण शक्ति काफी बढ़ जाती है और आपके मन में जो भी नकारात्मक विचार होगा। वह भी खत्म हो जाता है और आपका मन सकारात्मक विचारों से भर जाता है।

जमुनिया रत्न(jamuniya ratna pahnne ki vidhi) पहनने से आपके मन की शुद्धि करण थी और आपका मन पूरी तरह से शुद्ध हो जाता है। फिर आप काफी शांत और खुशमिजाज रहने लगते हैं।

अगर आप जमुनिया रत्न खरीदने में दिलचस्पी रखते हैं और इसका लाभ उठाना चाहते हैं तो नव दुर्गा ज्योतिष केंद्र से यह स्टोन आपको सिद्ध सहित मात्र 150 रुपया रत्ती में मिल जाएगा। कांटेक्ट और व्हाट्सएप नंबर :- +917567233021

Leave a Reply