केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

केतु यंत्र के लाभ(  ketu yantra)व्यक्ति विशेष के विभिन्न आयामों को प्रभावित कर सकता है तथा उनमें दिव्य सुगंधीयों की अनुभूति भी प्रदान कर सकता है। ज्योतिष विज्ञान में केतु ग्रह को भी छाया ग्रह की श्रेणी में रखा जाता है तथा जिस प्रकार शनि ग्रह तथा राहु की प्रवृत्ति होती है। उस से मिलता जुलता इस ग्रह के भी प्रभाव देखने को मिलते हैं।कई प्रकार के नक्षत्रों में से तीन मुख्य नक्षत्रों- अश्विनी ,मघा एवं मूल का स्वामी केतु ग्रह को माना जाता है ।केतु यंत्र संपूर्ण जीवन दशा को बदलने की क्षमता रखता है।जिस प्रकार हमारे पूर्वज हमारे अभिभावक हमें किसी भी आने वाली अच्छी चीजों के बारे में या बुरी चीजों के बारे में अनेक जानकारियों से हमें अवगत कराते हैं उसी प्रकार केतु भी कार्य करता है यह हमारे अभिभावक के समतुल्य बंद रखता है तथा आने वाले समय का पूर्वाभास कराने की क्षमता रखता है चाहे वह पूर्वाभास सपने के माध्यम से हो या किसी भी तरह की कोई विशिष्ट घटना जो हमारे मन मस्तिष्क के पटल पर गहरी छवि छोड़ जाती है उसके विचार बार-बार हमारे मन में आने लगते हैं इस प्रकार व्यक्ति के सहज ज्ञान को बढ़ाने की क्षमता केतु ग्रह में होती है यह व्यक्ति के अंतर्दृष्टि से वास्तविक परिस्थिति को भापने में मदद करता है इंद्रियों पर संयम प्राप्त करने की समर्थता केतु ग्रह की कृपा से ही प्राप्त होती है।

केतु यंत्र के लाभ??

इसे भी पढ़ें:- पिला हकीक के फायदे

केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

1)• ऐसे लोग जो धार्मिक या अध्यात्म के क्षेत्र में कुछ बहुत बड़ी उपलब्धि प्राप्त करना चाहते हैं ।अज्ञानता के अंधकार को दूर कर जीवन के सच्चे सार्थ समझकर स्वयं को ज्ञान के प्रकाश से दीप्तिमान बनाना चाहते हैं। उन्हें केतु यंत्र(  ketu yantra) अवश्य धारण करना चाहिए या विधिवत रूप से स्थापित करना चाहिए। केतु(  ketu yantra)की कुदृष्टि व्यक्ति के मन को विस्थापित कर सकती है।मन में नीरसता को प्रविष्ट करा सकती है। किंतु यही यदि केतु(  ketu yantra)की कृपा प्राप्त करने के लिए केतु के यंत्र(  ketu yantra) का प्रयोग किया जाए।तो व्यक्ति अध्यात्म की तरफ मुड़ने लगता हैl अच्छी भावनाओं को जागृत होने की अनुभूतियों से अनुग्रहित होने लगता है। उसके मन में वास्तविक सुख के प्रति झुकाव बढ़ने लगता है।वह त्याग की भावना से उन्नत होने लगता है गुढ ज्ञान के रहस्य को प्राप्त करने की क्षमता उसमें आने लगती है। वह व्यक्ति अपने आभा मंडल के साथ-साथ आंतरिक रूप से भी विशारद अंकित करने लगता है।मोक्ष को प्राप्त करने के साधन के रूप में केतु यंत्र(  ketu yantra)का प्रयोग किया जा सकता है।

2)• केतु की महादशा एवं अंतर्दशा जैसी स्थिति व्यक्ति को मायाजाल या छलावा में इस स्तर तक प्रभावित करता है कि व्यक्ति उस छलावा में स्वाभाविक रूप से स्वयं ही फस जाता है तथा उसे ना अंत समझ में आता है और ना आरंभ समझ में आता है। जिसके कारण वह उल्टा चलना शुरू कर देता है। उसके जीवन की विपरीत दिशा की वाहन शुरू हो जाती है।ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए भी केतु का

 

बहुत ही लाभकारी माना जाता है। खराब केतु व्यक्ति को अचानक कई रोगों से ग्रसित कर सकता है। अचानक इस प्रकार की परिस्थिति उत्पन्न कर देता है कि व्यक्ति अपनी सुध बुध खो बैठता है ।कई प्रकार की शारीरिक एवं मानसिक बीमारियों से घिर जाता है ।उसे जीवन की राह नजर नहीं आती है ।वह एक अंध भाव में सत्य के प्रकाश की ओर भटकता रहता है किंतु उसे यह तत्व की प्राप्ति नहीं हो पाती हैl ऐसे में केतु यंत्र(  ketu yantra)उस व्यक्ति विशेष को अवश्य धारण कर आना चाहिए ।जिससे जीवन की धारा से वह स्वयं को जोड़ पाए एवं उसकी दृष्टि उसे सही मार्ग पर ले जाने के लिए प्रेरित कर सके।

केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

इसे भी पढ़ें:- लाल हकीक माला के फायदे

3)• केतु ग्रह को रोग एवं चिंता का अधिष्ठाता माना जाता है ।ऐसे में यह केतु यंत्र केतु की विभिन्न भाव में स्थिति को देखते हुए धारण किया जा सकता है तथा इससे उत्पन्न होने वाले उच्च सकारात्मक स्पंदन से केतु के द्वारा उदित नकारात्मक दुष्प्रभाव निसफलित होने लगते हैं।जिससे व्यक्ति विभिन्न प्रकार के रोग दोष से मुक्त होता है ।यह केतु यंत्र(  ketu yantra)जिस व्यक्ति विशेष के पास होता है ।यह उसे बहुत ही विभिन्न रूपों से प्रभावशाली बनाता है ।उसकी आर्थिक दृष्टिकोण में सकारात्मक बदलाव लेकर आता है।शिक्षा से संबंधित क्षेत्र में अच्छे परिणामों को भी प्रदान करता है ।व्यक्ति के मन भाव में शुद्धता -पवित्रता जैसे भाव को उदित करता है।उसके आचरण में परिमार्जित प्रदान करता है ।जिससे व्यक्ति की गहन रुचि धर्म-कर्म आदि जैसी चीजों में बढ़ती है ।यह दिव्य शक्तियों के प्रवाह को बढ़ा देता है ।

व्यक्ति के ज्ञान को और अधिक प्रखरता प्राप्त करने की अदम्य क्षमता भी इस यंत्र(  ketu yantra)के माध्यम से देखने को मिलती है ।व्यक्ति विशेष का झुकाव शिक्षा की गहन रुचि में बढता है ।उसके मन तथा इच्छाशक्ति में अत्यंत अनुकूल परिवर्तन आते हैं।केतु यंत्र व्यक्ति के विशिष्ट पहचान को प्राप्त करने में मदद करता है ।केतु यंत्र(  ketu yantra)के द्वारा उत्पन्न सुरक्षा चक्र का प्रभाव हमारे न केवल शारीरिक संरचना में बदलाव लाता है। बल्कि मानसिक रूप से भी यह हमें बलिष्ट बनाता है ।यह यंत्र संपूर्ण काया का विकास करने में सफल माना जाता है।

केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

इसे भी पढ़ें:- सफेद गूंजा माला के फायदे

4)• केतु यंत्र धारण करने से व्यक्ति में नई नई सोच उदित होते हैं ।जो संपूर्ण जीवन को बदलने की क्षमता रखते हैं। यह व्यक्ति के इच्छाशक्ति को मजबूत बनाता है तथा दूरदर्शिता जैसे गुणों को प्रचंड रूप से प्रदान करता है। जिससे व्यक्ति अपने इंद्रियों को एक अनुचर के समान प्रयोग कर बर्बादी भरे निर्णय लेने से बच जाता है ।एक नया अध्याय जीवन का शुरू करने में यह यंत्र अपनी अमूल्य सहभागिता प्रदर्शित करता है।

4)• ऐसे जातकों के लिए केतु यंत्र(  ketu yantra) बहुत ही लाभदायक माना जाता है ।जो व्यक्ति एक प्रकार के अनजाने भय से सदा गिरे रहते हैं तथा जिसका उपयुक्त कारण उन्हें नहीं समझ आता है ।किंतु फिर भी वह दुविधा में गिरे रहते हैं तथा मन के माया जाल में खुद को बहुत अधिक बिखरा पाते हैं ।उन्हें कई बार सही एवं गलत चीजों के बीच स्पष्ट निर्णय लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।ऐसी स्थिति से गुजरने वाले लोगों के लिए केतु यंत्र(  ketu yantra) बहुत ही लाभकारी माना जाता है।केतु यंत्र(  ketu yantra) उस व्यक्ति के जीवन की दशा को बदलने की क्षमता रखता है तथा उसके विभिन्न प्रकार के समस्याओं को समाप्त करने की भी अद्भुत क्षमता से युक्त होता है।दुर्लभ प्रचंड भाग्य प्रदाता के रूप में भी केतु यंत्र(  ketu yantra)का प्रयोग किया जाता है।इससे सौभाग्य की प्राप्ति होती है तथा भाग्य की प्रबलता से व्यक्ति को बहुत सी सांसारिक भौतिक वस्तुओं की प्राप्ति होती हैं।

केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh
केतु यंत्र के लाभ, Ketu Yantra Ke Labh

इसे भी पढ़ें:- महालक्ष्मी यंत्र के फायदे

5)• केतु छाया ग्रह को प्रसन्न करने के लिए सबसे उपयुक्त एवं अत्यंत लाभकारी युक्तियों को प्राप्त करने के लिए केतु यंत्र(  ketu yantra) को सर्वोत्तम उपाय के रूप में प्रयोग में लाया जाता है।

Leave a Reply