गुंजा की माला पहनने से क्या होता है – Gunja Ki Mala Pahanne Se Kya Hota Hai

गुंजा की माला पहनने से क्या होता है – Gunja Ki Mala Pahanne Se Kya Hota Hai

 

गुंजा की माला पहनने से क्या होता है-

1. गुंजा की माला धारण करने से किसी भी व्यक्ति जिसके ऊपर दुर्भाग्य का साया मंडराता रहता है। उसके कार्य कभी सफल नहीं हो पाते हैं, चाहे वह कितना भी पुरुषार्थ कर ले किंतु कमजोर भाग्य फल के कारण उसकी स्थिति निकृष्ट ही रहती है lउसे भाग्य का साथ नहीं प्राप्त होता हैl ऐसे लोगों यदि गुंजा की माला धारण करेंगे तो उनके भाग्य में वृद्धि होगी उनका भाग्य प्रबल होगा, जिससे उनके सारे काम सही समय पर पूर्ण होंगे।

इसे भी पढ़े:- फिरोजा रत्न के फायदे 

2. गुंजा की माला धारण करने के निधि की स्थिति में उत्थान आता है। निधि की स्थिति में अकल्पनीय परिवर्तन देखने को मिलता है, जिससे दरिद्रता का नाश होता है, ऐसे लोग जिनके जीवन में धन का अभाव बहुत अधिक कारण विविध प्रकार के महत्वपूर्ण चीजें भी वे लोग रुपए के अभाव में पूर्ण नहीं कर पाते हैं, या पैसे एवं धन की कमी के कारण उनकी सामाजिक स्थिति भी लोगों के समक्ष बहुत ही निम्न प्रतीत होती हैl उनके कई मनोरथ केवल मन में ही केवल कल्पना में ही सार्थक रूप से पूर्ण होते हैं, किंतु धरातल स्तर पर या जमीनी स्तर पर सच्चाई से वे लोग कोसों दूर रह जाते हैं।

उनसे कम कौशल वाला उनसे कम प्रतिभा वाला व्यक्ति जीवन की गाड़ी में गतिमान स्थिति से आगे बढ़ता चला जाता है, किंतु उनकी स्थिति बहुत ही बुरी रहती है, कोई भी उनकी सहायता नहीं करता है, कोई भी उनकी धन की कमी के कारण मन सम्मान नहीं देता है lसभी उसे हेय की दृष्टि से देखते हैं, ऐसी परिस्थिति में किसी व्यक्ति के द्वारा गुंजा के माला धारण किया जाए तो उसे कभी भी दुख दरिद्रता का सामना नहीं करना पड़ता हैl समाज में उसकी इज्जत प्रतिष्ठा में वृद्धि होती है, लोग सामाजिक रुप से उस आदमी को को काफी सम्मानित दृष्टि से देखते हैं।

इसे भी पढ़िए:- पन्ना रत्न के फायदे और नुकसान

3.आजीविका, व्यवसाय ,रोजी , काम-धंधा ,धंधा, काम-काज , काम-धाम , रोजी-रोटी, नौकरी पेशा व्यापार आदि इन सब चीजों में से किसी भी वृति से जुड़ा हुआ व्यक्ति यदि गुंजा के माला को धारण करता है, तो उसे कार्य क्षेत्र में उत्पन्न होने वाले रुकावट को यह संपूर्ण रूप से नष्ट कर देता हैl यह उनकी वाणी में उनके अस्मिता में कौतुक रूप से कायाकल्प करता है, जिससे व्यक्ति जहां भी जाता है lवह अपने कार्य क्षेत्र में अपनी सफलता की गाथा को लिखता हैl उसके इयत्ता की आभा मंडल के सभी खींचे चले आते हैं, एवं उसके शत्रु भी मित्र तुल्य व्यवहार करने लगते हैं।

शत्रु के हृदय में भी मित्रवत संबंध स्थापित करने में इस तंत्र की रानी का कोई अतुलनीय जवाब नहीं है, उसके जीवन में यश कीर्ति की प्राप्ति के शुभ अवसर उसे अनेक रुप से प्राप्त होते हैं, तथा उसकी स्थिति को लगातार बल प्रदान करते रहते हैं lउसकी परिस्थिति में मजबूती लाते रहते हैं। सामाजिक रुप से हो या आर्थिक रुप से हो या व्यक्तिगत से हो हर पक्षों पर जातक विजय प्राप्त करता है, एवं हर प्रकार की समस्या पर उचित जिसमें से वह सभी को अचंभित कर देता है। अपने बातचीत के जरिए एवं अपनी मानसिक उपयोगिता का प्रयोग कर जातक बड़े से बड़ा परेशान को चुटकी में सुलझा अपने प्रतिभा के विषय से सभी को आकर्षित करने में सफल रहता है, बड़े अधिकारी हो या सहकर्मी सभी से उसके संबंध माधुर्य रहते हैं।

4. ऐसे जातक जो एक बेहतरीन आजीविका के साधन को प्राप्त करना चाहते हैं। उन्हें गुंजा की माला से शनि ग्रह के मंत्रों का जाप करना चाहिए, इसके साथ ही लाल गुंजा की माला से बृहस्पति ग्रह का जाप करना उनकी आजीविका के साधनों में सफल होने की संसाधनों को बढ़ा देता है, शनि जो आपके कर्म फल में वृद्धि करता है, आपके पुरुषार्थ को दूषित होने से बचाता है, अकर्मण्यता एवं शिथिलता जैसी चीज़े जो जातक को कर्म पथ पर भ्रष्ट कर देती है lउन सभी चीजों पर नियंत्रण पाने में शनि ग्रह प्रचंड रुप से सहायक सिद्ध होता है, तथा गुरु ग्रह बृहस्पति के मंत्रों का जाप जातक के द्वारा किया जा रहे पुरुषार्थ का फल प्रधान करते हैं, भाग्य का साथ गुरु ग्रह की कृपा के बिना संभव है।

इसे भी पढ़े:- जमुनिया रत्न के 15 चमत्कारी फायदे 

अतः एक ग्रह जातक के पुरुषार्थ ठीक करता है, तथा दूसरा ग्रह उसके भाग्य को दृष्ट अवस्था से उत्कृष्ट अवस्था में लाने का कार्यकर्ता हैं, जिससे आजीविका के उत्तम साधन के अवसर उसे प्राप्त हो एवं जातक भी अपनी स्थिति को अपने कर्म फल से बदल सके lकई प्रकार की सुख संसाधनों को अपने उद्यम से सभी सुखों को प्राप्त कर सकेl उसके जीवन में भी खुशियां चारों ओर से पधार सकें यह माला उसके सोचने समझने की शक्ति को स्पष्ट रुप भी प्रदान करती है, जिसके कारण मन में उठ रहे द्वंद स्वयं समाप्त होने लगते हैं, एवं जातक अपने कार्य दिशा को गति प्रदान कर सही दिशा में गतिमान होता है।

5.गुंजा की माला को धारण करने से जातक के ऊपर पापी ग्रह जैसे राहु केतु एवं शनि ग्रह कभी भी अपना प्रभाव नहीं दिखा पाते हैंl अतः जिन व्यक्तियों की कुंडली में इन तीनों ग्रहों में से किसी एक की या तीनों की स्थिति दृष्ट हो तो, ऐसी अवस्था में उनके लिए गुंजा की माला अभिमंत्रित कर धारण करना इन तीनों पापी एवं निर्दई ग्रहों की चाल से व्यक्ति विशेष सुरक्षित रह सकता है lइनके द्वारा दिए जा रहे किसी भी तरह के खराब परिणाम को भी यह पूर्ण रूप से काट देता है, तथा व्यक्ति विशेष की जीवन में इन तीनों ग्रहों के द्वारा दिए जाने वाले प्रभाव में सकारात्मकता भरी चीजें समाहित कर देता है, जिससे व्यक्ति का जीवन इन तीनों ग्रहों से संबंधित चीजों में सफल होता है, तथा उनसे संबंधित कार्य भी उसके जीवन में संपन्न होने लगते हैं।

राहु की स्थिति मजबूत होने से उसके जीवन में किसी तरह की भ्रामक स्थिति नहीं होती है, तथा जातक का विभिन्न लोगों के साथ भी संबंध अच्छा रहता है। केतु ग्रह की स्थिति अच्छी होने के कारण उसका स्वास्थ्य अच्छा रहता है, उसके रिश्ते नाते सभी सुचारू रूप से चलते हैं, तथा शनि ग्रह की स्थिति के कारण उसका जीवन हर प्रकार की चीजों से परिपूर्ण रहता है lउसे आजीविका के साधनों में स्थायित्व का बोध प्राप्त होता है। उसे अध्यात्मिक चरणों में सफलता प्राप्त करने के लिए भी इन सभी ग्रहों की मजबूती उसे अप्रतिम रूप से सहायता प्रदान करती हैं।

इसे भी पढ़िए:- मूंगा रत्न के अदभुत लाभ 

6.गुंजा की माला का प्रयोग ऊपरी बाधा से रक्षा करने के लिए भी प्रयोग में लाया जाता है। व्यक्ति किसी भी तरह की नजर दोष संबंधित चीजें हो या भूत प्रेत जैसे बाधा हो उन सभी से पूर्ण रूप से सुरक्षित रहता है, यह माला उन्हें चारों दिशाओं से सुरक्षा प्रदान करता है, जिसके कारण इस प्रकार की चीजें उसे प्रभावित नहीं कर पाती है, ना ही उसके जीवन को दिशाहीन बना पाती है।

7. प्रचंड वशीकरण के लिए भी गुंजा के माला का प्रयोग किया जाता है, ऐसे पति-पत्नी जिनमें बहुत अधिक खटास हो या उनका दांपत्य जीवन दाव पर लगा हो विवाह की स्थिति झगड़े की चरम सीमा तक पहुंच गई हो विवाह विच्छेद की परिस्थिति का अनुभव हो रहा हो या तलाक की स्थिति तक जातक या जातिका पहुंच गई हो तो ऐसी स्थिति में उन्हें सिद्ध किया हुआ गुंजा का माला अवश्य धारण करना चाहिए, इससे फिर से प्रेम का अंकुरित प्रभाव आप दोनों जोड़ों के बीच प्राण फूंकने का कार्य करेगा, जिससे आप लोगों में प्रेम पहले के अपेक्षा और अधिक अनन्य होने लगता है।

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ लाल गुंजा की माला प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित किया हुआ लाल गुंजा की माला मात्र – 350₹ में मिल जायेगी जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

Leave a Reply