सफेद पुखराज धारण करने की विधि – Safed Pukhraj Dharan Karne Ki Vidhi

सफेद पुखराज धारण करने की विधि – Safed Pukhraj Dharan Karne Ki Vidhi

 

सफेद पुखराज धारण करने विधि:-

सफेद पुखराज धारण करने की विधि – आज हम अपने बातों के माध्यम से आपको बताने वाले हैं, कि सफेद पुखराज धारण करने की क्या विधि है, हम किस तरीके से धारण कर सकते हैं, जिससे कि हमें फायदा हो कई बार हम गलत तरीके से धारण कर लेते है, तो इसका परिणाम गलत मिलता ह, और उसका फायदा भी हमें नहीं मिल पाता है तो, इसीलिए आज हम इसका सही विधि जानेंगे इसे धारण करने की।

इसे भी पढ़े:- ओपल रत्न क्या है?

हमें अच्छा परिणाम मिले और लाभ मिले, लेकिन सफेद पुखराज धारण करने की विधि जानेंगे से पहले सफेद पुखराज की कुछ बातें जान लेनी चाहिए। जिससे कि हमें कोई नुकसान ना हो। इसे धारण करने के बाद, सफेद पुखराज बहुत ही शुभ माना जाता है।

सफेद पुखराज सूर्य ग्रह का ही एक अंश है। सफ़ेद पुखराज धारण करने वाले मनुष्य को अपने जीवन में बहुत ही लाभ मिलता है। सफेद पुखराज बहुत ही उत्तम रत्न है, सफेद पुखराज सभी रत्नों में से एक अनोखा रत्न है, तो चलिए आज हम सफेद पुखराज धारण करने के विधि के बारे में जानेंगे सबसे पहले आप सफेद पुखराज रत्न ले लीजिए। उसके बाद एक कटोरी में थोड़ा सा दही या तो फिर गंगाजल ही ले लीजिए और उसमें कम से कम 21 घंटे तक उसे दही में या गंगाजल में रखें आप जिस में भी डालें उसमें रहने दे 21 घंटे पूरे होने के बाद आप उसे निकाले और निकालने के बाद कुछ मंत्र पढ़े और उस मंत्र को पढ़ने के बाद उसे शुक्र देव के नाम लेकर एक अच्छे स्थान पर रख दें और अगर आप स्नान नहीं किए हैं, तो जाकर स्नान कर ले उसके बाद आप सफेद पुखराज को आकर आप धारण कर सकते हैं। ऐसा करने से आपको बहुत अच्छी अधिक लाभ मिलेगा क्योंकि यही विधि एक अनोखी विधि है, सफेद पुखराज को धारण करने की और आपको लाभ दिलाने की।

इसे भी पढ़े:- जरकन क्या होता है?

(सफ़ेद पुखराज धारण करने की विधि):-

यदि सफेद पुखराज धारण करने की विधि सबसे पहले आप सफेद पुखराज रत्न को लेकर गंगाजल या दही में लेकर डालें और, उसके साथ-साथ थोड़ा सा चना ले लीजिए और, तीनों को एक कटोरी में डालकर रख दीजिए। आप चाहे तो उसे 1 दिन पहले भी रख सकते हैं, और आप इस कटोरी को वहां रखें जहां आप घर में पूजा स्थान बनाए हैं। वहीं पर अच्छे से रख दे और इसको धारण कैसे करना है।

यह बताती हूं आप गुरुवार वाले दिन सुबह उठ कर नहा धोकर कर आप इस मंत्र का जाप करके धारण करें यह मंत्र गणेश जी का “ॐ गन गणपतए नमः” और ये मंत्र भी आप साथ में बोल सकते हैं “ॐ ब्रिंग बृहस्पतए नमः” इस मंत्र का जाप करके पहने आप अपने हाथ के पहली उंगली में पहनें अगर आप स्त्री हैं, तो बाएं हाथ के पहले उंगली में पहने और अगर आप पुरुष है तो दाएं हाथ के पहनें उंगली में पहने लेकिन आपको या ध्यान रखना है, कि आप इसे जब भी पहने तो आप अपने हाथ के पहले उंगली में ही पहने इससे आपको काफी लाभ मिलेगा, और आप ऐसा नहीं करते हैं, तो आपको काफी नुकसान भी हो सकता है, और साथ ही साथ कोई फायदा भी नहीं होगा बल्कि बिना मतलब का आपका बहुत नुकसान भी हो जाएगा कई बार लोग इसे गलत हाथों में पहन लेते हैं और कहते हैं, हमें फायदा नहीं होता हमें इसका लाभ नहीं मिलता और कई लोग तो इस मंत्र को ही गलत बोलते हैं।

इसे भी पढ़े:- लहसुनिया रत्न के फायदे 

यह सफेद पुखराज रत्न शुद्ध नहीं हो पाता हैं और शुद्ध ना होने पर यह आपको लाभ नहीं देता हैं, क्योंकि आप तो यह जानते ही हैं, कि अगर अंधेरे में जाएंगे तो अंधेरा ही दिखेगा। उजाला तो दिखेगा ही नहीं ना इसीलिए आप इसका धारण जब भी करें, तो सही तरीके से करें और सही विधि से करें और फिर आप देखिएगा कि आप को कितना फायदा मिलेगा, अगर आप इसका सही से मंत्रों का उच्चारण करें और इसका सही से उपयोग करें तो आपको काफी फायदा होगा।

अगर आपको इसका लाभ लेना तो आप इतना तो कर ही सकते हैं। कई लोग इस नियम को सही से उपयोग नहीं करते हैं, क्योंकि वह बहुत जल्दी में रहते हैं कई लोग को ऑफिस जाना होता है, तो कई लोगों को नाश्ता बनाना होता है, पर आप यह भी ध्यान रखें कि अगर आपको इसका फायदा लेना है, तो इन सभी चीजों का पालन तो करना पड़ेगा और वैसे भी यह उतना मुश्किल नहीं है, जितना आप सोच रहे हैं। आप एक बार ऐसा करके देखिए आपको काफी लाभ मिलेगा।

सफेद पुखराज को अगर आप पूरे विधि विधान से धारण करते हैं, तो आपके जीवन में जो परेशानियां आ रही थी वह खत्म हो जाएगी और आपका जीवन बहुत ही अच्छे से चलेगा और,इतना ही नहीं और भी बहुत सारे लाभ आपको मिलते हैं, सफेद पुखराज धारण करने से आपके जीवन में काफी खुशियां आ जाती है, जिसकी आप उम्मीद भी नहीं करते हैं। आपको वह भी मिल जाता है, जो आप चाहते हैं वो भी बहुत ही आसानी से।

इसे भी पढ़े:- स्फटिक माला के 10 चमत्कारी फायदे 

(सफेद पुखराज धारण करने की विधि):-

यदि सफेद पुखराज धारण करने की विधि सबसे पहले आप 3 से 5 कैरेट पुखराज को स्वर्ण या चांदी का अंगूठी में जड़वा ले और किसी भी शुक्ल पक्ष के बृहस्पतिवार को सूर्य उदय होने के पश्चात अंगूठी को दूध दही शक्कर गंगाजल और शहद में डालकर 30 मिनट तक रखते फिर अंगूठे को पहले दूध से साफ करें। फिर गंगाजल से साफ कर लें उसके बाद आप अंगूठे को धारण कर सकते हैं,ऐसा करने से आपको काफी लाभ होगा।

आपके ऊपर आने वाले हर परेशानी से आपको छुटकारा मिलेगा और आपके हर काम बनने लगेंगे अगर आपका कोई बड़ा काम रुका हुआ है, जिसे आप पुरा करना चाहते हैं, लेकिन बहुत दिन से वह काम पूरा नहीं हो रहा है, तो सफेद पुखराज को ऐसा करके धारण करने से आपका काम बहुत ही जल्दी पूरा हो जाएगा और उसका परिणाम भी बहुत ही अच्छा देखने को मिलेगा। और इन सबके अलावा भी आपको बहुत सारे फायदे मिलेंगे और आपके जीवन में अगर खुशियों की कमी है तो वह खुशियां भी आपको अवश्य ही मिलेगा, सफेद पुखराज धारण करने से तो यह थे कुछ विधि सफेद पुखराज धारण करने के।

मित्रो यदि आप नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित सफेद पुखराज प्राप्त करना चाहते हैं, अपने जीवन को सुखमय बनाना चाहते है, तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित सफेद पुखराज मात्र – 100₹ रत्ती मिल जायेगा( Delevery charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

 

Leave a Reply