गुंजा की माला को अभिमंत्रित कैसे करें – Gunja ki Mala ko Abhimantrit Kaise karen

गुंजा की माला को अभिमंत्रित कैसे करें – Gunja ki Mala ko Abhimantrit Kaise karen

 

 गुंजा की माला को अभिमंत्रित कैसे करें –

Gunja ki Mala ko Abhimantrit Kaise

 karen

गुंजा की माला को अभिमंत्रित कैसे करें- (kali Gunja ki mala ko kaise sidhh karen) विविध चीजों की पूर्ति के लिए गुंजा के विभिन्न प्रकार के माला को विभिन्न तरीके से अभी मंत्र किया जा सकता है अब जिस भी कार्य की सिद्धि चाहते हैं उसके लिए निन्नलिखित प्रकार की विधियों को अपना कर गुंजा की माला को अभिमंत्रित कर सकते हैं-

1. काला गुंजा की माला

– इस माला को सिद्ध कर आप

राहु केतु शनि ग्रह तथा नकारात्मक पारलोकिक शक्ति भूत प्रेत जैसी बाधा नजर दोस्त जैसी बाधा से विराम पा सकते हैं, आइए जानते हैं कैसे इसे सिद्ध कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े:- पन्ना रत्न का उपरत्न क्या है 

सर्वप्रथम पहले शुभ दिन का चयन करें l इस प्रकार की क्रिया के लिए सबसे उपयुक्त दिन अमावस्या, पूर्णिमा, होली की रात्रि, दिवाली की रात्रि सबसे उपयुक्त मानी जाती है, या शनिवार का दिन गुंजा माला (kali gunja ki mala ko kaise abhimantrit kare in hindi) के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है, आपको संध्या बेला में स्नान आदि से निवृत होकर सर्वप्रथम इस   को लेकर गंगाजल से शुद्ध करें, उसके बाद माता काली के समक्ष आशनी लगाकर बैठ जाए मन को पहले एकाग्र चित करने के लिए 10 मिनट तक प्रणायाम करें तथा किसी तरह की मुद्रा लगाकर भगवान गणेश जी का ध्यान करेंl अब चाहे तो गणेश भगवान के मंत्र भी एक माला कर सकते हैं।

उसके बाद बाबा भैरव को याद करते हुए उनके मंत्र का जाप एक माला या तीन माला अवश्य करें क्योंकि बाबा भैरव की मंत्र जाप की बिना माता के मंत्र का जाप पूर्ण रुप से फलित अवस्था तक ले जाना असंभव है, क्योंकि कई ऐसी शक्तियां हमारे इर्द-गिर्द घूमती जो किसी भी रुप में आकर हमारे द्वारा की जा रही पूजा को वह स्वीकार कर लेती हैl हमारे जीवन में फिर तूफान लाकर रख देती हैं, इसलिए पहले बाबा भैरव से विनती करेगी बाबा जब मैं मंत्र का जाप शुरू करूं और जब तक मेरा मंत्र साधना पूर्ण ना हो जाए, तब तक बीच में किसी भी तरह की बाधा को आने मत दीजिएगा ,मेरी रक्षा कीजिए।

इसे भी पढ़े:- गोमेद रत्न के नुकसान

इस प्रकार की कामना करते हुए बाबा काल भैरव का मंत्र जाप करने के बाद एक बार फिर से अपने मन को शांत करने के लिए अपने चितको शांत करने के लिए प्राणायाम करेंl उसके बाद आज्ञा चक्र पर ध्यान देते हुए उपशु जप करें, यदि आप माला का प्रयोग कर रहे हैं, तो आपको कम से कम 11 माला या 21 माला (kali gunja ki mala ke fayde) का जाप करना चाहिएl इस विधि को लगातार 21 दिनों तक करें इस बीच आपको किसी भी तरह का मांसाहार का प्रयोग नहीं करना हैl इस बीच स्वयं के ऊपर सयम बनाकर रखें तथा ब्रहमचर्य का पालन करना बहुत आवश्यक है, इसलिए इस विधि को करने से पूर्व आप को मानसिक रुप से तैयार रहने की आवश्यकता है, जब आपका जाप पूरा हो जाए तब किसी को दान अवश्य दें आप चाहे तो उन्हें घर में बने भोजन या फिर फल दे सकते हैं lमंत्र जिनका उपयोग आपको इस क्रिया में करनी है, वह निम्नलिखित है-

भगवान गणेश का मंत्र-llॐ हुं गं ग्लौं हरिद्रा गणपत्ये वरद वरद सर्वजन हृदये स्तम्भय स्वाहाll

भगवान काल भैरव का मंत्र -llओम भ्रं कालभैरवाय फट्ll

माता काली के मंत्र-llॐ क्रीं कालिकायै नमःll

2. काली गुंजा की माला- (kali gunja ki mala ke labh) उपर्युक्त वर्णित विधि को देखते हुए विशिष्ट दिन का चयन करेंl उसके बाद भगवान गणेश का ध्यान करते हुए ब्रह्म महूरत में उठकर सभी तरह के दैनिक कृया कलाप को पूर्ण करने के बाद स्वच्छ मन से आपको जैज़ẞ माला को गंगाजल से शुद्ध करने के बाद माता लक्ष्मी के समक्ष गाय के शुद्ध घी का दीपक प्रज्वलित करें lउसके बाद अपने चित को शांत करने के लिए प्रणायाम करें, उसके बाद माता लक्ष्मी का एकाक्षरी मंत्र ‘श्रीं’, का जाप शुरू करें lउसके बाद आपको कम से कम 21 माला इस मंत्र का जाप करना है।

इस क्रिया को आप लगातार जब तक चाहे तब तक कर सकते हैं या आप 11 दिनों तक इसे कर सकते हैं lउसके बाद किसी को कुछ न कुछ दान अवश्य दें या छोटी बच्चियों को खीर का प्रसाद वितरण करें एवं उनसे आशीर्वाद ले आप जब इसके प्रभाव को देखेंगे तब आपको यकीन नहीं होगा कि कोई चीज सच में इतना सार्थक रुप से मनोरथ सिद्ध कर सकता है,कैसे आपके सभी धन की समस्याएं स्वत: समाप्त होने लगेंगी आपके व्यापार में वृद्धि होने लगेगीl

कार्यक्षेत्र में ऐसे ऐसे अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगेl जिनकी कल्पना शायद ही आपने कभी की हो लोगों का सहयोग प्राप्त होगा आपकी प्रतिष्ठा में वृद्धि होगीl धन की कमी आपके जीवन में फिर कभी नहीं होने वाली है, आप लगातार अपने जीवन में आगे बढ़ते चले जाएंगे आए के स्त्रोत कभी भी समाप्त नहीं होंगे कार्यक्षेत्र में आपके मित्र वक्त संबंध बनेंगे lआकर्षण युक्त अस्मिता के कारण सभी का ध्यान आपकी ओर बहुत ही सकारात्मक रूप से केंद्रित रहेगाl

3. सफेद गुंजा की माला- Safed Gunja ki mala 

ज्ञान के बिना जीवन अधूरा है, लाख हमारे पास कितनी भी धन संपत्ति हो जाएं, किंतु यदि ज्ञान का अभाव है, तो सभी चीज़े निकृष्ट है, कोई भी वास्तविक जीवन के अनुभव को प्राप्त नहीं कर सकता है, देव हो या दानव हो या किसी भी तरह का जीव जंतु हो सभी ने ज्ञान की अंकुरित बीज होना आवश्यक होता है,अन्यथा उसका पूरा जीवन दिशाहीन हो जाता हैl ऐसे में लोगों की मन में यह प्रश्न उठता है, कि हमारे लिए भी कोई ऐसी युक्ति होती, जिससे हम अपने बौद्धिक क्षमता को एक नया आयाम प्रदान कर पाते आइए आज इस लेख के माध्यम से हम आपको ऐसे ही एक विशिष्ट उपाय देने जा रहे हैं,जो शिक्षा की छेत्र से जुड़े हुए हर वर्ग के लोगों के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकता है।

कोई बच्चा जो पढ़ाई लिखाई ने कमजोर है, या जिसे स्मृति दोष संबंधित चीजे हैं, या एकाग्रता की कमी बनी रहती है, या कोई विद्यार्थी प्रतिस्पर्धा में भाग लेना चाहता है, या कोई विद्यार्थी जो प्रतियोगिता परीक्षा की परिणाम में अपना नाम दर्ज करवाना चाहता है lवह सफल हो कर एक ओचित्य पूर्ण स्थिति को प्राप्त करना चाहता हैl ऐसे में उसकी यह मनोकामना पूर्ण होने के सभी रास्तों में प्रबल संभावना को बढ़ाने का कार्य यह माला कर सकता है,इसके लिए आपको किसी भी दिन का चयन करना है, लेकिन यदि आप बसंत पंचमी का दिन इस विशिष्ट दिन के लिए चुनते हैं, तो आपके लिए बहुत लाभकारी सिद्ध हो सकता है, या फिर गुरु पूर्णिमा का दिन भी इस विधि के लिए सार्थक हो सकता हैl

इसके लिए सबसे पहले सफेद गुंजा की माला को लेकर आप उसे गंगाजल से पवित्र कर देl उसके बाद सफेद आशन लगाकर बैठ जाए एवं खीर जो कि गाय के शुद्ध दूध से बना हो एवं मिश्री से मीठी की गई होl उस खीर को माता मातंगी के समक्ष रखें उसके बाद उन पर पुष्प अर्पण करें एवं इस विधि को करने के लिए सबसे उपयुक्त समय ब्रह्म मूरत माना जाता है, या रात्रि 10:00 बजे के बाद भी यह परयोग कर सकते हैंl कोई भी मुद्रा लगाकर गणेश भगवान को याद करते हुए उपर्युक्त वर्णित मंत्र का जाप एक माला करें lउसके बाद मामातंगी के मंत्र का जाप आपको लगातार 11 माला करनी हैl यह क्रिया लगातार 11 दिन चलेगी lउसके बाद आप चाहे तो प्रतिदिन केवल एक माला भी कर सकते हैं, मा मातंगी का मंत्र निंलिखित है-

llॐ ह्रीं क्लीं हूं मातंग्यै फट् स्वाहाll

मित्रो यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ काली गुंजाकी माला प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा किया गया काली गुंजा की माला मात्र -1100₹ मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

 

Leave a Reply