मूंगा रत्न किसे पहनना चाहिए – Munga Ratna Kise Pahanna Chahiye

मूंगा रत्न किसे पहनना चाहिए – Munga Ratna Kise Pahanna Chahiye

 

मूंगा रत्न किसे पहनना चाहिए

मूंगा रत्न किसे पहनना चाहिए- मूंगे ऐसा रत्न है, जिस का प्रयोग प्राचीन काल से ही हमारे पूर्वजों द्वारा विभिन्न प्रकार के आभूषण शाज सज्जा की चीजों आदि को बनाने में इस रत्न का प्रयोग किया जाता रहा हैl आज भी इस अनमोल पादप का उपयोग ना केवल आभूषण एवं साज सज्जा कि चीजो को बनाने में बल्कि जातक को की भविष्य की स्थिति सुधारने के लिए एवं वर्तमान में चल रहे कठिन समस्याओं का समाधान करने के लिए इस अद्भुत रत्न का उपयोग रत्न शास्त्र के माध्यम से किया जाता है।

इसे भी पढ़े:- सुलेमानी हकीक धारण करने की विधि?

मूंगा रत्न मंगल ग्रह की शक्तियों को बढ़ाने के लिए धारण किया जाता है, जो जातक किसी भी प्रकार से मंगल ग्रह के लाभों से वंचित रह जाते हैं, या उसके कृपा प्राप्ति से वंचित रह जाते हैं, तो ऐसी स्थिति में यह रत्न अवश्य धारण किया जाना चाहिए किंतु किसी भी रत्न को धारण करने से पूर्व जन्मपत्रिका उचित विवरण या उचित विश्लेषण करवाना बहुत आवश्यक होता है, जिससे जातक की ग्रह स्थितियों का उत्तम एवं सटीक अनुमान लगाया जा सके तथा जातक के जो शुभ ग्रह है, उनकी भी कृपा उन्हें मिले एवं जो ग्रह पूरी तरह से निष्क्रिय है, उसकी भी कृपा विभिन्न प्रकार के उपायों के साथ-साथ रत्नों का प्रयोग कर उसे प्राप्त हो सके।

मंगल जो हमारे पराक्रम साहस नेतृत्व क्षमता भवन निर्माण प्रशासनिक विभाग सेना अध्यक्ष जैसी चीजों का कारक मंगल ग्रह होता हैl मंगल ग्रह में अग्नि तत्व की प्रधानता होती है, इसलिए जिस भी जातक के द्वारा मंगल से संबंधित रत्न का उपरत्न धारण किया जाता है lउनकी ऊर्जा शक्ति का शुद्धीकरण होना शुरू हो जाता है तथा सूक्ष्म से सूक्ष्म नकारात्मक शक्ति को पूरी तरह से नष्ट करने में यह रत्न प्रबल होता है, इस रत्न में व्याप्त ऊर्जा को जब हमारा शरीर अवशोषित करने लगता है, तब धीरे धीरे शरीर के विभिन्न अंगों से नकारात्मकता का अंत होता है, एवं पूरे शरीर में जातक खुद को ऊर्जावान महसूस करता हैl छोटे बच्चों को इस रत्न को चांदी या तांबे में मड़वा कर जब धारण करवाया जाता है, तो ऊपरी बाधा संबंधित चीजों से वह बच्चा पूरी तरह से सुरक्षित होने लगता है।

इसे भी पढ़िए:- मच्छ मणि क्या है?

यह रत्न जातक के दृढ़ इच्छाशक्ति को बहुत अधिक मजबूत बनाता है, जिससे जातक के लक्ष्य प्राप्ति के मार्ग में जितनी भी बाधाएं आती है। उन सभी को यह रत्न पार करवाने में बहुत मदद करता है, जिस भी जातक के द्वारा यह रत्न धारण किया जाता हैl वह निडर स्वभाव का होता है, विषम परिस्थितियों में भी वह डटकर अपने मार्ग से विचलित नहीं होता हैl आलस्य जैसी बीमारी से जातक को हमेशा के लिए निजात मिलता है। यह रत्न के प्रभाव से जातक अपने क्रोध पर नियंत्रण स्थापित करने में सक्षम हो पाता है, इसके साथ-साथ उसके कार्य करने की कौशलों में भी निपुणता आती हैl इस रत्न के प्रभाव से जातक के अपने भाई बंधुओं से बहुत अच्छे संबंध स्थापित होते हैं, तथा जरूरत पड़ने पर जातक को उनका प्यार एवं सहयोग सभी चीज उन्हें प्राप्त होता है।

मूंगा रत्न निम्नलिखित परिस्थितियों में धारण किया जा सकता है-

मंगल ग्रह जिसे धरा पुत्र के नाम से भी संबोधित किया जाता हैl इसका रंग लाल रंग का होता है, तथा ज्योतिष विद्या में इसे क्रूर ग्रह की उपाधि दी जाती हैl मंगल ग्रह का राशि रत्न मूंगा होता है, जिसका भी वर्ण रक्त के समान लाल होता है, कभी-कभी यह सिंदूरिया रंग का भी होता है। मूंगा एक पादप होता है, तथा इसे ध्यान से देखने पर इसके अंदर महीन बारीकीयो के रेखाएं बिंदु देखने को मिलती है, ऐसा माना जाता है, की असली मूंगा रत्न के इर्द-गिर्द यदि रक्त की बूंदे है, और वह उसके संपर्क में आ जाए तो वह उनको अवशोषित कर लेता है।

इसे भी पढ़े:- मोती की माला के 20 चमत्कारी फायदे 

1. कई ऐसे जातक होते हैं, जिनके मन में डर की भावना बहुत अधिक रहती है, जब उनका डर वर्तमान पर हावी होने लगता है, तब इसकी प्याजब उनका डर वर्तमान पर हावी होने लगता है, तब परिस्थितियां बिगड़ने लगती हैl इसके साथ-साथ जातक भी दब्बू किस्म हो जाता है, यह रत्न धारण करने से जातक को बहुत से अनुकूल लाभ प्राप्त होते हैंl उसकी स्थिति में सुधार होता हैl उनके पराक्रम को अत्यंत प्रभावशाली बनाता है, तथा निडरता वाले गुण भी उनमें व्याप्त होने लगते हैं।

2. मंगल ग्रह की स्थिति को और अधिक मजबूत बनाने के लिए भी इस दिव्य रत्न को धारण किया जाता है।

3. मेष लग्न धनु लग्न सिंह लग्न कर लग्न मीन लग्न एवं वृश्चिक लग्न के जातकों के लिए यह रत्न काफी फलदायक होता है।

4. ज्योतिष शास्त्र में मेष राशि तथा वृश्चिक राशि के स्वामी ग्रह मंगल ग्रह को माना जाता है, इसलिए इन जातकों के द्वारा यदि यह रत्न धारण किया जाता है, तो उसे अविश्वसनीय लाभ प्राप्त होता हैl उनके सोए हुए भाग्य को जगाने में यह रत्न बहुत कारगर सिद्ध होता है, इसके साथ-साथ उनका मंगल ग्रह भी और अधिक मजबूत होता है।

इसे भी पढ़िए:- माणिक रत्न के फायदे 

5. सिंह लग्न वाले जातकों या सिंह राशि वाले लोगों के लिए भी यह रत्न उनकी प्रगति के मार्ग को प्रशस्त कर देता है, तथा उन्हें उनके कार्यों का निर्वहन करने में यह अद्भुत रत्न बहुत मदद करता है lयह उन्हें मेहनती तो बनाता ही है, इसके साथ-साथ वे लोग जिस भी कार्य छेत्र क्षेत्र में रहते हैं, वहां उनके द्वारा किए जा रहे परिश्रम का फल उन्हें अवश्य प्राप्त होता है।

6. धनु लग्न एवं धन राशि की जातकों के द्वारा यदि यह रत्न धारण किया जाता है, तो उनकी रचनात्मक शैली बढ़ती है, इसके साथ-साथ उनकी आर्थिक उन्नति भी इस रत्न के अनुकूल प्रभाव से होती है।

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ मूंगा रत्न प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित किया मूंगा रत्न मात्र – 400₹ और 600₹ रत्ती मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 7467233021

 

Leave a Reply