पांच मुखी रुद्राक्ष के लाभ – 5 mukhi rudraksha benefits in hindi

पांच मुखी रुद्राक्ष के लाभ – 5 mukhi rudraksha benefits in hindi

 

पांच मुखी रुद्राक्ष के लाभ – 5 mukhi rudraksha benefits in hindi

 

• ऐसे लोग जो अपने जीविकोपार्जन को लेकर विकृत परिस्थिति से गुजर रहे हैं तो ऐसे लोगों को पांच मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए इससे आजीविका संबंधित चीजों में उन्हें अच्छे लाभों की प्राप्ति होती है आजीविका के साधन को प्राप्त करने में भिन्न -भिन्न प्रकार के अवरोधों को यह पूरी तरह से नष्ट करने की क्षमता रखता है तथा उसे उत्तम धन उपार्जन में संलग्न करने में मदद करता है।

 

• पांच मुखी रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति को अकाल मृत्यु पर विजय प्राप्त होती है विभिन्न प्रकार की रोग बीमारियां जैसे पीलिया ,लीवर के दोस, श्रवण क्षमता विकृति आदि जैसे रोगों में यह बहुत ही कारगर सिद्ध होता है इसमें मौजूद कई प्रकार के औषधीय गुण विभिन्न प्रकार की बीमारियों में बहुत ही लाभप्रद होते हैं अतः जिस भी व्यक्ति के द्वारा इसे धारण किया जाता है यह उसे स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है उसकी काया पूरी तरह से रोग मुक्त होती है उस स्वास्थ्य कांति की प्राप्ति होती है।

 

5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे, 5 मुखी रुद्राक्ष के फायदे, 5 मुखी रुद्राक्ष के फायदे बताएं, 5 मुखी रूद्राक्ष के बारे में बताइए, 5 मुखी रुद्राक्ष के बारे में बताएं, 5 मुखी रुद्राक्ष के बारे में बताओ, 5 मुखी रुद्राक्ष के क्या फायदे हैं, 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करने के लाभ, 5 मुखी रुद्राक्ष पहनने रुद्राक्ष के लाभ, पांच मुखी रूद्राक्ष के फायदे, पांच मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे, पांच मुखी रुद्राक्ष के लाभ, panch mukhi rudraksh ke labh, panch mukhi rudraksh ke fayde, panch mukhi rudraksha benefits in hindi, panch mukhi rudraksha ke fayde, panch mukhi rudraksh ke bare mein bataiye, panch mukhi rudraksh k bare mein, panch mukhi rudraksha ke bare mein jankari, panch mukhi rudraksh ke bare mein batao, panch mukhi rudraksha ke labh in hindi, 5 mukhi rudraksha ke kya fayde
5 मुखी रुद्राक्ष के फायदे

इसे भी पढ़ें :- शनि ग्रह क्या है और शनि की महादशा, ढैया और साढ़ेसाती से कैसे बचें ?

इसे भी पढ़ें :- शाही का कांटा क्या है ? इसका प्रयोग और कहां से खरीदें ?

5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे – 5 mukhi rudraksha benefits in hindi

 

1. आध्यात्मिक दृष्टिकोण को मजबूती बनाने में यह बहुत मदद करता है पांच मुखी रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति मोक्ष को प्राप्त करने में अग्रसर रहता है अध्यात्मिक सफलताओं के लिए इसका भिन्न भिन्न रूप में प्रयोग किया जाता है कई प्रकार के मंत्रों को जागृत करने के लिए एवं उन्हें सिद्ध करने के लिए रुद्राक्ष के मन को का प्रयोग किया जाता है पहले से ही इनकी शक्तियां सर्वोत्तम स्तर पर रहती है तथा जब प्राण ऊर्जा एवं मंत्र के शब्दों के साथ मिल जाती है तब इनकी शक्तियों का प्रसार स्वर्णिम स्तर तक चला जाता है

 

यही कारण है कि विभिन्न प्रकार के मनको में सबसे उत्कृष्ट मनका पांच मुखी रुद्राक्ष को माना जाता है lपंच तत्वों से परिपूर्ण यह मन का जिस भी व्यक्ति के द्वारा धारण किया जाता है उसके शरीर में पांचों तत्व पूरी तरह से संतुलन में आने लगते हैं जिससे कई प्रकार की मानसिक परेशानियां एवं शारीरिक परेशानियां दूर होती है।

इसे भी पढ़ें – स्फटिक की माला के 10 चमत्कारी फायदे

 

इसे भी पढ़ें – काले जादू से रक्षा, सभी मनोकामना पूर्ति हेतु एवं जीवन में शांति हेतु धारण करें मूंगा रत्न 

2. ऐसे जातक जिनका स्वभाव बहुत ही क्रोधी है क्रोधित व्यक्तित्व के कारण उनके जीवन के हर क्षेत्र में कई प्रकार की परेशानियों से गुजर रहे हैं तथा चाहकर भी अपने इस प्रवृत्ति में किसी भी प्रकार के बदलाव को लाने में असक्षम है तो उन्हें पांच मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए इसके अनेक सकारात्मक प्रभाव उनके दिन दशा को बदलने की क्षमता रखता है।

 

इस में व्याप्त जागृत ऊर्जाए उनके आचार विचार स्वभाव भाव में अनेक प्रकार के सकारात्मक बदलाव देखने को मिलते हैं उनके आचरण में सकारात्मक प्रगति होने लगती हैl जिससे उनका स्वभाव सौम्य होने लगता है लोगों से भी संबंध सुधारने लगते हैं तथा जिह्वा पर भी मधुर वचन का वास होता है।

 

3. पांच मुखी रुद्राक्ष धारण करने से कलात्मक प्रतिभाओं में प्रखरता आती है तथा रचनात्मक कार्यों में व्यक्ति विशेष की रुचि बढ़ती है तथा उसकी कल्पना शक्ति बहुत अधिक मजबूत होती है जिसका आधार बनाकर वह विभिन्न क्षेत्रों में सफलता प्राप्त करता है।

इसे भी पढ़ें – मोती की माला के 20 चमत्कारी फायदे – जान कर हो जायेंगे हैरान

 

इसे भी पढ़ें – कार्यों में सफलता, व्यापार में वृद्धि एवं सभी परेशानियों से छुटकारा हेतु धारण करें पीताम्बरी नीलम 

4. ऐसे जातक जो तनाव से ग्रसित रहते हैं मानसिक संताप के कारण खुद को बहुत निराशा पूर्ण स्थिति में देखते हैं चिंता ,तनाव के कारण अपनी प्रवृत्ति अपनी असली पहचान खो बैठते हैं उन पर नकारात्मकता बहुत अधिक हावी रहती है। जिसके कारण अपने आप से दूर होने लगते हैं।

 

अपने लक्ष्य से दूर चले जाते हैं उनके विचारों में दूषित प्रवृत्ति छाई रहती है नकारात्मक चीजें इस कदर तक उन पर हावी रहती है कि उन्हें वर्तमान एवं भविष्य में किस प्रकार का उद्दीपन करना चाहिए उन सभी चीजों से वह लोग वंचित रह जाते हैं ।

 

उन सभी चीजों से पूरी तरह से विमुख हो जाते हैं जीवन में आगे बढ़ने के रास्ते में अनेक अवरोध, उनके घोर निराशा का कारक बन जाता है तथा किसी भी तरह का आशा की किरण नहीं प्राप्त होने के कारण यह अंधियारा दिनोंदिन गहरा होता चला जाता है।

 

जो उनके मस्तिष्क के पटल पर बहुत अधिक नकारात्मक प्रभाव डालता है जिसके कारण उनके जीवन में उनके उद्देश्यों के प्रति उदासीनता के भाव देखने को मिलते हैं ऐसे लोगों को ऐसी अवस्थाओं से बाहर निकलने के लिए तथा अपने आप से परिचित होने के लिए एवं आत्मबोध का ज्ञान प्राप्त करने के लिए पांच मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए इससे उनके मानसिक क्रियाकलापों में होने वाले नकारात्मक परिवर्तन को यह पूरी तरह से नियंत्रित करता है।

इसे भी पढ़ें :- टोना टोटका क्या होता है, टोना टोटका हटाने का उपाय ?

इसे भी पड़ें :- सियार सिंगी क्या है इसके चमत्कारी टोटके और कहां मिलता है ?

 

इसे भी पढ़ें :- बच्चे को नजर से बचाने के 15 जबरदस्त उपाय ? 

इसे भी पढ़ें :- सांप की केंचुली क्या है, इसके फायदे, लाभकारी टोटके और कहां से खरीदें ?

इसके साथ ही उनके संरचनात्मक शक्ति को बहुत ही उत्तम रूप से प्रभावित करता है जिससे उनके मन ,विचार ,हृदय से विकृत चीजों की छवि धूमिल होने लगती है एवं उन्हें उनका वर्तमान एवं भविष्य स्पष्ट रूप से नजर आने लगता है जीवन में घटने वाली घटनाओं के प्रति सकारात्मक सोच बनने लगती है जो उन्हें वास्तविक जीवन के उनके लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करती है।

 

5. पांच मुखी रुद्राक्ष सर्व मंगलकारी माना जाता है इसलिए इसका उपयोग हर आयु वर्ग के लोगों के लिए लाभदायक माना जाता है ऐसे बच्चे जो विद्या अध्ययन संबंधित चीजों में कमजोर है या पठन-पाठन संबंधित चीजों में उनकी रुचि बिल्कुल नग्नय है बड़े लोगों के प्रति अभिभावक हो या गुरुजन हो उनके प्रति यदि बच्चों में अच्छी सोच नहीं है तो उन्हें पांच मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए इससे ना केवल पठन-पाठन संबंधित चीजों में उत्तम लाभ प्राप्त होंगे।

इसे भी पढ़ें – पन्ना रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और अभिमंत्रित कहाँ से प्राप्त करें ?

 

इसे भी पढ़ें :~ राहु, केतु और शनि ग्रह को शांत करने वाला चमत्कारी रत्न और धारण करने की विधि ?

बल्कि विभिन्न विषयों का ज्ञान अर्जन करने में भी यह बहुत अधिक सहायक होता है तथा बच्चे के अंदर की नकारात्मक प्रवृत्ति में भी यह बदलाव करने में सक्षम होता है बच्चे के जीवन में अनुशासन जैसे उत्तम सहायक चीजें उसके व्यक्तित्व का हिस्सा बनती है तथा सभी के प्रति वह आदर सम्मान की भावना रखता है । गुरुजन हो या उसके अभिभावक सभी के प्रति उत्तम दृष्टिकोण रखता हैl उसके स्वभाव में उसके विचारों में दिनोंदिन सकारात्मक परिवर्तन होते चले जाते हैं।

 

6. धन ,समृद्धि, वैभव ,ऐश्वर्य को प्राप्त करने के लिए सबसे उपयुक्त साधन के रूप में 5 मुखी रुद्राक्ष को धारण किया जा सकता है।

 

7. गुरु ग्रह बृहस्पति जो ज्ञान के देवता है जिनके बिना किसी भी तरह का ज्ञान अर्जन करना नामुमकिन है उनकी कृपा 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से प्राप्त होती है इसके साथ ही इनके द्वारा दी जा रही किसी भी प्रकार के नकारात्मक प्रभाव को भी 5 मुखी रुद्राक्ष दूर करता है।

इसे भी पढ़ें :- स्याही के कांटे से अपने शत्रु को बर्बाद कैसे करें ? महाशक्तिशाली टोटका ।

इसे भी पढ़ें :- नेत्र सम्मोहन क्या है और इसके महाशक्तिशाली फायदे ? 

अभिमंत्रित 5 मुखी रूद्राक्ष कहां से प्राप्त करें – 5 mukhi rudraksha benefits in hindi

 

मित्रों यदि आप चाहें तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित 5 मुखी रुद्राक्ष प्राप्त कर सकते है जो हमारे यहां लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड के साथ मात्र – 351₹ में मिल जाएगी, लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड साथ में दिया जाएगा साथ ही साथ मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा – Call and Whatsapp – 7567233021

 

इसे भी पढ़ें :- पन्ना रत्न धारण करने के फायदे और नुकसान ?

 

इसे भी पढ़ें – कार्यों में सफलता, दांपत्य सुख एवं सभी सुखों की प्राप्ति हेतु पहनें ओपल रत्न

Leave a Reply