दो मुखी रुद्राक्ष का प्रभाव – Do Mukhi Rudraksha Ka Prabhav

दो मुखी रुद्राक्ष का प्रभाव – Do Mukhi Rudraksha Ka Prabhav

 

दो मुखी रुद्राक्ष का प्रभाव – Do Mukhi

 Rudraksha Ka Prabhav

1. दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha ka prabhav in hindi) बहुत ही प्रभावी रूप से किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व को रूपांतरण करने में सक्षम होता हैl यह उसके जीवन के विभिन्न पहलुओं को बहुत ही सकारात्मक एवं अनुकूल रूप से प्रभावित करता हैl इसे धारण करने से सृजनात्मक शक्ति काफी मजबूत होती हैl यह हमारे प्रेरणा शक्ति को मजबूत बनाता है, जिससे हम अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सही दिशा में उद्दीपन करते हैं, जिससे समाज में हमारे लिए बहुत ही सकारात्मक दृष्टिकोण बनता है, हमें उत्तम मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।

इसे भी पढ़िए:- 10 मुखी रुद्राक्ष के अदभुत फायदे जानकर हैरानी 

2. दो मुखी रुद्राक्ष का संबंध ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्रमा के साथ माना जाता है, तथा चंद्रमा का आधिपत्य दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha ke prabhav kya hai) के ऊपर होता है, इसलिए ऐसे जातक जिन्हें पीड़ित चंद्र के द्वारा कई परेशानियां दी जा रही है, जैसे -नेत्र से संबंधित विकार या बार-बार आंख में ही चोट लगना या मोतियाबिंद या रतौंधी जैसी बीमारियों से ग्रसित होना या किसी प्रकार का नेत्र संक्रमण होनाl यह पीड़ित चंद्र के निशानी होते हैं, ऐसी स्थिति में यदि दो मुखी रुद्राक्ष धारण किया जाए, तो चंद्र की स्थिति में उत्थान देखने को मिलता है, तथा व्यक्ति विशेष के विभिन्न शारीरिक विकारों में भी इसके उपचारात्मक गुण बहुत ही प्रभावशाली रूप से कारगर होते हैं, तथा उसे स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं।

3. ऐसे लोग जिनके जीवन में वित्त विषयक चीजों में कई प्रकार की परेशानियां कई प्रकार के अवरोध उत्पन्न हो रहे हैं, या पीड़ित चंद्र के द्वारा अल्प आयु जैसे दोष उनके जन्म पत्रिका में उत्पन्न हो रहा है, तो ऐसी परिस्थिति में दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha ki jankari) अवश्य धारण करना चाहिएl इससे उनके जीवन में आने वाले आकस्मिक धन क्षय में कमी आती है, तथा धीरे-धीरे उनकी आर्थिक स्थिति में स्थायित्व का भाव उत्पन्न होता हैl इसके साथ ही उनकी आयु भी दुर्ग होती है, तथा किसी भी प्रकार के विष योगो का निवारण होता है, इससे व्यक्ति विशेष के फिजूलखर्ची जैसे चीजों पर भी नियंत्रण होता है, तथा जातक अपने धन का उपयोग सोच समझकर करता है, जिससे कभी भी उसके जीवन में आर्थिक विपन्नता देखने को नहीं मिलती है, अनेक प्रकार से वह धन को संचित करने में सफल होता है।

इसे भी पढ़िए:- लाजवर्त स्टोन के अदभुत फायदे 

4. ऐसे लोग जिनके शत्रुओं की संख्या उनके मित्रों की संख्या से बहुत अधिक होती हैl उनके स्वभाव में भले ही किसी भी प्रकार की झगड़ालू प्रवृत्ति नहीं हो फिर भी उनके प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष शत्रुओं की संख्या दिनों दिन बढ़ती चली जा रही है, तो ऐसी स्थिति में उन्हें अवश्य दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha dharan karne ke fayde) धारण किया जाना चाहिए, जिससे उनके दुश्मनों के द्वारा उत्पन्न किए जा रहे, किसी भी प्रकार के कष्ट को जल्द से जल्द दूर किया जा सके एवं जातक को शत्रु बाधा से जल्द ही निवारण प्राप्त होl इसे धारण करने से शत्रु विजय प्राप्त करने में बहुत मदद मिलती हैl

5. ऐसे लोग जिनकी प्रवृत्ति आलसी होती है, तथा चीजों को वे बहुत ही टालने में माहिर होते हैं, किसी भी कार्य को निर्धारित समय पर पूर्ण नहीं कर पाते हैंl उनमें आलस्य एवं सुस्ती हावी रहती है, जिसके कारण अपने दैनिक दिनचर्या के कार्य भी पूर्ण रूप से संपन्न नहीं कर पा रहे हैं, ऐसे लोगों के द्वारा दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha pahanne ke fayde) अवश्य धारण करना चाहिए lइससे उनके जीवन में एक प्रभावशाली रूप से परिवर्तन देखने को मिलता है, तथा उनका आचरण शुद्ध होता है, एवं वे लोग धीरे-धीरे अनुशासन में बनने लगते हैं, जिससे उनके कई कार्य समय से पूर्ण होते हैं, एवं जीवन में प्रगति के मार्ग पर सुचारू रूप से आगे बढ़ते हैं।

इसे भी पढ़े:- वैजन्ती माला के अदभुत लाभ 

6. दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha dharan karne se kya hota hai) धारण करने से व्यक्ति पराक्रमी एवं राज वैभव को प्राप्त करने वाला होता है, तथा अपनी भावुकता एवं अत्यधिक संवेदनशीलता पर पूरी तरह से नियंत्रण बनाने में सक्षम होता हैl यह किसी भी व्यक्ति विशेष की कल्पना शक्ति को मजबूत बनाता है, जिससे उसकी सृजनात्मक एवं रचनात्मक शक्ति बहुत ही मजबूत होती हैl

7. ऐसे लोग जो क्रोधी स्वभाव के होते हैं, जिससे उनकी सौम्यता दिनोंदिन छिन्न होती चली जाती हैl ऐसे लोगों के द्वारा यदि दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha benefits in hindi) धारण किया जाता है, तो उनके स्वभाव में उत्तम परिवर्तन देखने को मिलते हैंl उनका मन, मस्तिष्क ,हृदय शांत होता है, तथा क्रोध की प्रवृत्ति धीरे-धीरे समाप्त होती है, सौम्यता उनके आचरण का एक अभिन्न अंग बन जाता है, जिससे घर परिवार के लोगों के साथ उनके रिश्तो में प्रगाढ़ता तो आती ही है, इसके साथ ही जहां भी यह लोग अपने कार्य क्षेत्र में संलग्न होते हैं lवहां भी इनके व्यक्तित्व का प्रभाव बहुत ही उत्तम रूप से निरूपित रहता है, लोग इनके स्वभाव के प्रति आकर्षित होते हैं, तथा इनके विचारों को इनके व्यक्तित्व की भी खूब सराहना करते हैं, जिसके कारण उनके इर्द-गिर्द का माहौल बहुत ही उत्तम रहता है, हर्ष- उल्लास से परिपूर्ण रहता है।

इसे भी पढ़िए:- महालक्ष्मी यंत्र के फायदे 

8. दो मुखी रुद्राक्ष बहुत ही उत्तम शक्तियों का स्वामी होता है, ऐसे लोग जिन्हें संतान प्राप्ति में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, या गर्भाधान जैसी समस्या से जूझ रहे हैं lउन लोगों के द्वारा इसे अवश्य धारण करना चाहिए, इससे गर्भधारण से संबंधित कई समस्याओं का निवारण होता हैl

9. दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha ke labh) धारण करने से मानसिक चिंताओं में कमी आती है, व्यक्ति विशेष को असीम शांति की प्राप्ति होती हैl यह हमारे मन एवं भावना को बहुत ही मजबूत बनाता है, जिससे किसी भी प्रकार की नकारात्मक भावना हमारे मन मस्तिष्क को दुखी नहीं कर पाती हैं lइसके साथ ही हमारे व्यवहार एवं आचरण में अनुकूल परिवर्तन लाने में सक्षम होता है, विद्या अध्ययन संबंधित चीजों में उत्तम लाभ प्रदान करता हैl

10. दो मुखी रुद्राक्ष (do mukhi rudraksha ke kya fayde) धारण करने से वैवाहिक जीवन में परिपूर्णता आती है l जीवन साथी के साथ उत्तम सामंजस्य बनता है, जिससे दांपत्य जीवन में होने वाले किसी भी प्रकार के क्लेश झगड़ा झंझट को यह समाप्त करता है, रिश्तो में प्रगाढ़ प्रेम उत्पन्न होता है, आपसी समझ एवं आपसी सहयोग में वृद्धि होता है, इसके साथ ही माता पिता के साथ भी संबंध सुधारते हैंl

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ दो मुखी रुद्राक्ष प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित किया हुआ दो मुखी रुद्राक्ष मात्र – 350₹ में मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

 

 

Leave a Reply