मोती रत्न के फायदे – Moti Ratna Ke Fayde

मोती रत्न के फायदे – Moti Ratna Ke Fayde

 

मोती रत्न के फायदे –

मोती रत्न के फायदे हमें क्या क्या प्राप्त हो सकते हैं, लोगों के मन में यह सवाल अक्सर होता है, और उन्हें यह जानना भी चाहिए कि जब उनके द्वारा यह रत्न धारण किया जाएगा तो उन्हें क्या-क्या लाभ प्राप्त हो सकते हैं –

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्र उपग्रह हमारा मन का कारक होता है, तथा वह हमारी माता से संबंधित होता हैl इस उपग्रह का संबंध मोती रत्न से होता हैl मोती रत्न में इस रत्न की बहुत सी शक्तियां विद्यमान होती हैl उसमें विभिन्न प्रकार के भौतिक ऊर्जा ओं का समावेशन होता है, जो हमें जीवन के विभिन्न आयामों पर व्यापक रूप से लाभ पहुंचाता है, यह एक दिव्या रत्न है।

इसे भी पढ़िए:- मोती रत्न किसे पहनना चाहिए 

मोती रत्न धारण करने से हमें निम्नलिखित फायदे हो सकते हैं-

1. पूरे विश्व में उस इंसान को सबसे अधिक शक्तिशाली एवं मजबूत माना जाता है, जिसे अपना पूरा नियंत्रण उसके मस्तिष्क पर हासिल हो, ऐसा माना जाता है, कि ऐसे इंसान को हरा पाना बहुत ही मुश्किल है, जो लोग मानसिक तौर पर मजबूत होते हैंl वह इरादों के पक्के होते हैं lउन्हें कोई भी विषम परिस्थिति किसी भी परिस्थिति में डिगा नहीं सकती हैl वह स्थिर होकर वह अपने मन को अचल बनाकर हर परिस्थिति पर अपना नियंत्रण स्थापित करने की खूबी बखूबी जानते हैं, और उनमें यह खूबी लाता है, यह मोती रत्न चंद्रमा उपग्रह का रत्न हैl अतः जिस भी जातक के द्वारा मोती रत्न धारण किया जाता है, वह मानसिक तौर पर बहुत अधिक मजबूत होता है, तथा परिस्थितियों के आगे घुटने टेकने वाला नहीं होता हैl

2. मोती रत्न धारण करने से आपका संबंध आपकी मां से बहुत अच्छा होता है, तथा आपकी सास से भी आपका संबंध इस रत्न को धारण करने से बहुत मधुर भरा होता हैl जिससे आपके सौभाग्य में वृद्धि होती है, तथा आपका भाग्य उदित होता है।

3. इस रत्न को धारण करने से आपको धन संबंधित परेशानियों का सामना करना नहीं पड़ता हैl यह रत्न धारण करने से मां लक्ष्मी की कृपा दृष्टि हमेशा आप पर बनी रहती है, जिससे नए-नए आय के स्रोत बनते जाते हैं, और आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होती चली जाती है।

इसे भी पढ़े:- पन्ना रत्न का उपरत्न क्या है 

4. बहुत से लोगों के कुंडली में चंद्र ग्रह सुप्त अवस्था में होता है, जिसकी वजह से उन्हें विस्तृत स्तर पर उसके लाभ प्राप्त नहीं होते हैं, किंतु जब उनके द्वारा मोती रत्न धारण किया जाता है, तो चंद्र की शक्ति प्रबल हो जाती है, वह सुप्त अवस्था से तीव्र अवस्था में स्थानांतरित हो जाता है, जिससे लोगों के जीवन में बदलाव आने लगते हैं, एवं उनके विभिन्न प्रकार के रुके हुए कार्यों की पूर्ति होने लगती है, तथा उनके जीवन में जो मानसिक स्थिति या मानसिक उलझन किसी भी चीज को लेकर उन सभी चीजों का धीरे-धीरे खात्मा शुरू हो जाता हैl

5. मोती रत्न को धारण करने से चंद्रमा की स्थिति हमारे कुंडली में बलवान होती है, तथा इसकी शांति भी होती है, जिससे यह हमारे जीवन में उथल-पुथल नहीं बचाता हैl हमें विभिन्न प्रकार के मानसिक विकारों से भी मुक्ति मिलती हैl

6. इस रत्न को धारण करने से हमारे अंदर की नकारात्मक ऊर्जा का क्षय होता है, तथा सकारात्मक ऊर्जा का सृजन होता है, जिससे हमारे मन मस्तिष्क से पूरी तरह नकारात्मक भाव नष्ट हो जाते हैं, तथा दिमाग जो विभिन्न प्रकार की उलझन से भरा रहता था, बिना मतलब के खयालों में खो कर अपनी ही प्रगति को रोके हुए थाl अपने ही व्यवधानो में फस कर लोगों से झगड़ा मनमुटाव आदि जैसी चीजों में उलझा हुआ था, इन सभी चीजों से यह रत्न हमें निजात दिलाता है।

7. इस रत्न को धारण करने से पति पत्नी के बीच संबंध सुधारते हैंl उनके बीच जो मनमुटाव या किसी प्रकार की चीज से उनके रिश्ते में खटास आ गई थीl उनका रिश्ता टूटने के कगार पर आ गया था या किसी भी परिस्थिति के वजह से उनमें अलगाव आ गया था तो यह रत्न उन सभी परेशानियों को दूर करता है, उनके विचारों को एक दूसरे के लिए स्वच्छ करता है, तथा दोनों को एक कर दांपत्य जीवन की गाड़ी सुखी एवं खुशियों से भरा बनाता हैl उनके अच्छे ताल में बैठने से उनके जीवन में यह रत्न प्रगाढ़ प्रेम लाता है।

इसे भी पढ़े:- कमलगट्टे की माला के फायदे 

8. इस रत्न का आध्यात्मिक महत्व भी कुछ कम नहीं है, ऐसे भी हमारे धर्म में वर्णित श्वेत वर्ण का संबंध शांति से होता है, और अध्यात्म का पहला चरण शांति ही होता है lशांति का अर्थ केवल बाहरी चीजों में शांति व्याप्त नहीं होना बल्कि मन मस्तिष्क के सूक्ष्म से सूक्ष्म कण में शांति व्याप्त होना होता हैl यह रत्न हमें पूरी तरह से शांति एवं शीतलता प्रदान करता हैl चंद्र के समान यह में सौम्यता प्रदान करता है, जिसकी वजह से हम उस स्तर तक पहुंच सकते हैं, जिसकी कामना शायद ही हमने पहले कभी की होl

9.मोती रत्न धारण करने से हमारे मन में एकाग्रता आती है, जिससे हम एकाग्र होकर किसी भी कार्य को पूर्ण करते हैं, हम अपने कार्यों का निर्वहन पूरे लगन एवं श्रद्धा से करते हैं, जिससे हमें सफलता प्राप्त होती है तथा लोगों का सहयोग भी कार्यों की पूर्ति में हमें प्राप्त होता है, एवं लोगों के द्वारा हमारे कार्यों की भी खूब सराहना की जाती है, यह सब प्रभाव केवल मोती रत्न धारण करने से होता है, जिसकी वजह से हम मन मस्तिष्क से पूरी तरह एकाग्र हो जाते हैं, तथा किसी भी परिस्थिति में खुद को विचलित नहीं होने देते हैंl

10. विद्यार्थी वर्ग के लोगों के द्वारा यह रत्न यदि धारण किया जाता है, तो उनमें कुशाग्र होकर विद्या अध्ययन करने की अद्भुत क्षमता उत्पन्न होती है, जिससे वह अपने पठन-पाठन संबंधित चीजों में काफी सफलता प्राप्त करते हैंl विद्या अध्ययन करने में उन्हें बहुत आसानी होती है, तथा एकाग्र भाव से किया गया अध्ययन उन्हें बहुत दिनों तक याद रहता है, उनकी स्मरण शक्ति भी इस रत्न को धारण करने से बहुत अधिक बढ़ती है, जिससे वह किसी भी परीक्षा या प्रतिस्पर्धा में अप्रतिम रूप से सफल होते हैं।

इसे भी पढ़े:- तुलसी की माला के फायदे 

11. इस रत्न को धारण करने से हमारे विचारों में परिवर्तन आता है, तथा हमारे कार्य करने की कौशल क्षमता का विकास होता है, हमारे विचारों में शुद्धता का भाव उत्पन्न होता है, जिससे हम अपने लक्ष्य की ओर पूरी श्रद्धा के साथ अग्रेषित होते हैं, तथा उसे प्राप्त करने के लिए पूरी लगन से कर्मठ होकर प्रयास करते हैं, जिसमें यह रत्न हमें बहुत मदद करता है।

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ मोती रत्न प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित किया हुआ मोती रत्न मात्र – 50₹ रत्ती मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free)Call and WhatsApp on- 7567233021

 

Leave a Reply