नीलम स्टोन के फायदे – Neelam Stone Ke Fayde

नीलम स्टोन के फायदे – Neelam Stone Ke Fayde

 

 नीलम स्टोन के फायदे –

नीलम स्टोन के फायदे- आज का हमारा विषय है, आज हम जानने का प्रयास करेंगे कि नीलम स्टोन के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं-

नीलम स्टोन प्रकृति द्वारा प्रदत सबसे अमूल्य उपहार है, ऐसा माना जाता है, कि शनि ग्रह से संबंधित जितनी भी परेशानियां हैंl उन सभी का निवारण इस रत्न को धारण करने से खत्म हो जाती है, यह रत्न हमें अप्रतिम रूप से लाभ पहुंचाता है, यदि किसी जातक के द्वारा यह रत्न धारण किया जाता है, तो उसमें अनेक प्रकार के बदलाव देखने को मिलने लगते हैं, जिस जातक को नीलम रत्न अनुकूल चीजें प्रदान करता है lउसका भविष्य स्वर्णिम हो जाता है, इसको धारण करने वाला व्यक्ति एक दृढ़ संकल्पित तथा मजबूत व्यक्तित्व का व्यक्ति बनता है, तथा उसमें धैर्य शक्ति अप्रतिम रूप से विद्यमान रहती है।

इसे भी पढ़े:- मूंगा रत्न पहनने के फायदे 

जटिल से जटिल समस्याओं में भी इन लोगों के द्वारा धैर्य नहीं खोया जाता है, तथा अपने कौशल क्षमता के बल पर नकारात्मक चीज को भी सकारात्मक रूप में बदलने की क्षमता इन लोगों में विद्यमान होती हैl मानसिक तौर पर भी यह काफी मजबूत होते हैं, जिसकी वजह से इन्हें जीवन में आगे बढ़ने में अधिक कठिनाई का सामना करना नहीं पड़ता है।

इनके द्वारा कर्मठता ,दृढ़ निश्चय के साथ कोई भी कार्य किया जाता है, जिससे इनके सफल होने का प्रतिशत बहुत बढ़ जाता है, और लोगों के मुकाबले यह काफी बहुत मेहनती होते हैं lवाकपटुता में उन्हें महारत हासिल होती है, शायद ही कोई ऐसा विषय हो जिन पर इनका ज्ञान संकीर्ण हो अन्यथा यह विभिन्न प्रकार के ज्ञानों को अर्जन करने वाले लोग होते हैं।

इसे भी पढ़े :- लहसुनिया रत्न के फायदे 

 शनि ग्रह से पीड़ित जो व्यक्ति मानसिक अवसाद का शिकार होता है, यदि उनके द्वारा यह रत्न धारण किया जाता है, तो विभिन्न प्रकार के मानसिक उलझनों को दूर कर यह रत्न उसमें एकाग्रता की वृद्धि करता है, जिससे उसके कार्य बनने लगते हैं, एवं जीवन का आनंद लेने लगता हैl बहुत ही खराब परिस्थितियों में ऐसा भी होता है, कि जातक के द्वारा बहुत अधिक मानसिक दबाव लेने की वजह से उसके मन में आत्महत्या जैसे विचार चलने लगते हैं, ऐसी परिस्थिति में यदि नीलम रत्न धारण किया जाता है, तो उसे अप्रतिम रूप से लाभ प्राप्त होता है, तथा जीवन जो जीवन उसे नीरस लगने लगता है।

उसमें उसे जीने की चाह मिल जाती है, जिन जातकों की दशा ,महादशा ,शनि की ढैया ,शनि की साढ़ेसाती आदि जैसे गोचरो से उनका जीवन दयनीय हुआ रहता हैl ऐसी परिस्थिति में यह रत्न किसी वरदान से कम नहीं हैl यह रत्न बहुत ही तीव्र गति से कार्य करता है, जिससे लोगों के द्वारा इन परेशानियों का समाधान त्वरित गति से होने लगता है lबहुत हद तक उन की परेशानियां कम होने लगती है lइस रत्न को धारण करने से आर्थिक स्थिति भी बहुत मजबूत होती है तथा कभी भी रुपयों पैसे संबंधित परेशानियों का सामना करना नहीं पड़ता है।

भौतिक सुखों में भी यह अप्रतिम रूप से वृद्धि करता है, इस रत्न को धारण करने से प्रसिद्धि, लोकप्रियता एवं भाग्य में बढ़ोतरी होती है lभाग्य को मजबूत बनाने के लिए यह रत्न धारण किया जाता हैl इस रत्न को धारण करने वाले व्यक्ति में विविध रचनात्मक चीजें देखने को मिलती है lइस रत्न की जादुई प्रभाव अनेको है, जिसकी गनना हम शब्दों में नहीं कर सकते हैं, यह स्टोन देखने में बहुत ही सुंदर आकर्षक तथा पारदर्शी होता है, किंतु अद्भुत होने के साथ-साथ इसे बहुत ही खतरनाक पत्थर के रूप में भी जाना जाता है।

इसे भी पढ़े:- अमेरिकन डायमंड क्या है?


नीलम रत्न का उपयोग बहुत सी मानसिक बीमारियों को दूर करने के लिए भी किया जाता है, जैसे- पागलपन ,अवसाद ,नींद ना आना सिरदर्द आदिl वायु रोग उदर विकार संचार ध्यान आदि के लिए भी यह बहुत ही प्रभावी होता हैl यह आध्यात्मिक आयामों के विभिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता हैl शनि ग्रह को न्याय का देवता कहा जाता है, तथा वह त्रिलोक में अनुशासन विकसित करने के लिए जाने जाते हैं, नीलम स्टोन में शनि ग्रह से संबंधित अलौकिक शक्तियां उसमें विद्वान रहती है, इसलिए जातक में अनुशासन, नैतिकता जैसे गुण इस रत्न को धारण करने के पश्चात स्वतह ही आ जाते हैं।

नीलम स्टोन कोरूद्मडम खनिज का एक अत्यंत कीमती रत्न है, जिसे ज्योति शास्त्रों में सबसे शक्तिशाली एवं त्वरित गति से कार्य करने वाला स्टोन कहा जाता है, किंतु यह स्टोन किसी को रास नहीं आया तो उस परिस्थिति में उससे बुड़े दिन शुरू हो जाते हैंl उसे बहुत से दुर्घटनाओं का सामना करना पड़ता है, उसके जीवन में उथल पुथल छा जाती है, उसे बहुत से परेशानियों का सामना करना पड़ जाता है, लोगों से बिना मतलब के झगड़े होने लगते हैंl घर परिवार में भी अशांति कलह का माहौल बना रहता है, जिससे उसका किसी भी कार्य में मन नहीं लगता है, उसकी एकाग्रता छींन्न हो जाती है, उसे तरह तरह की शारीरिक बीमारियां तथा मानसिक बीमारियां जकड़ने लगती है, उसके काम सारे बिगड़े लगते हैं।

किसी से भी उसे सही समय पर सहयोग प्राप्त नहीं होता हैl रात को डरावने सपने आने लगते हैं, तथा जातक अनिद्रा का भी शिकार हो जाता हैl अतः नीलम धारण करने से पूर्व ही उसे अच्छी तरह से जांच परख लेना भी आवश्यक है, कि हमारे द्वारा लिया जा रहा नीलम प्राकृतिक है, अथवा कृतिम रुप से बना हुआ है, किसी विद्वान ज्योतिष की सलाह पर अपने कुंडली के सटीक जानकारी प्राप्त होने के पश्चात ही इस रत्न को धारण करें।

इसे भी पढ़े:- ओपल रत्न क्या है?

नीलम स्टोन को धारण करने से पूर्व यह भी जानना आवश्यक है, कि कब और किस मुहूर्त पर हम इसे धारण करें, जिससे हमें इसका अधिकतम लाभ प्राप्त हो सकेl प्रायः यह रत्न कृष्ण पक्ष के पहले शनिवार को मध्य रात्रि में मंत्र उच्चारण से अभिमंत्रित करने के पश्चात इसे धारण किया जाता है, तथा कुछ दिनों तक इसके परिणामों को एकाग्र होकर अवश्य जांचना चाहिए कि यह हमें अनुकूल प्रभाव दे रहा है, अथवा प्रतिकूल प्रभाव दे रहा है।

नीलम स्टोन यदि ना मिले तो ऐसी परिस्थिति में हम इसके उपरत्न को भी धारण कर सकते हैं, जो हमें इसी के समकक्ष लाभ प्रदान करते हैं, बस फर्क इतना है, कि उपरत्न हमें कुछ समय तक ही लाभ प्रदान करते हैं, जबकि नीलम स्टोन जो प्राकृतिक रूप से उपलब्ध होता है, इसमें अलौकिक शक्तियां आजीवन विद्यमान रहती है, तथा किसी बड़ी परेशानी के आने के समय नीलम स्टोन या इस का उपरत्न चटक जाता है, तथा हमारी परेशानी को खुद पर ले लेता है।

मित्रो आप भी अभिमंत्रित किया हुआ नीलम स्टोन प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित किया हुआ नीलम स्टोन मात्र – 300₹ और 600₹ रत्ती मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free)Call and WhatsApp on- 7567233021

Leave a Reply