संख बजाने के फायदे – Shankh Bajane Ke Fayde

संख बजाने के फायदे – Shankh Bajane Ke Fayde

संख बजाने के फायदे, shankh bajane ke

 fayde

शंख बजाने के फायदे

1. शंख(Shankh )  बजाने से कई फायदे हमारे शरीर को मिलते हैंl उनमें से एक फायदा होता है।ऑक्सीजन का संतुलित स्तर जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक है।ऑक्सीजन की कमी से किसी व्यक्ति की जान तक जा सकती है।इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण अभी हाल ही के दिनों में हुए कोविड-19 के द्वारा संक्रामक रोग कोरोना में कई लोग अपनी जान गवा रहे थे ।कई लोग जो ठीक भी हो जा रहे थे ।

तो उन्हें सांस लेने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था lऐसे में कई डॉक्टरों की सलाह पर लोगों को शंख  ( Shankh )  बजाने की सलाह दी गई, जिससे उनके फेफड़े में पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंच सके, जिससे उनके फेफड़े मजबूत हो सके एवं इस संक्रामक एवं घातक बीमारी से वह जीवन का युद्ध विजय कर सके।

जिस भी व्यक्ति के द्वारा प्रतिदिन शंख( Shankh ) बजाया जाता है।उसके फेफड़े बहुत मजबूत होते हैं, तथा ऑक्सीजन का स्तर सदैव नियंत्रित अवस्था में रहने से व्यक्ति अपने दिनचर्या में स्फूर्ति एवं क्रियाशील बना रहता है।

संख बजाने के फायदे, shankh bajane ke fayde

इसे भी पढ़ें:- पन्ना रत्न के फायदे और नुकसान

2. ऐसे लोग जो बहुत अधिक तनाव की स्थिति से ग्रसित रहते हैं।वर्तमान के युग में तनाव की स्थिति से गुजर ना किसी भी आयु वर्ग के व्यक्ति के लिए एक आम बात भी हो गई है, लोग छोटी-छोटी बातों को लेकर बहुत अधिक परेशान होने लगते हैं।

उनकी अति संवेदनशीलता उन्हें कई प्रकार की मानसिक बीमारियों का शिकार बना देती है, जिससे व्यक्ति अत्यधिक समस्याओं का बोझ अपने सिर पर रख कर अपना जीवन व्यतीत करने लगता है ।कई बार तो वह चरणों में असफल भी होने लगता है, जिसके कारण अवसाद की स्थिति उसे घेर लेती है ।अवसाद का भयावह राक्षस उसे निकलने लगता है l

धीरे-धीरे एक दीमक लगे वृक्ष के समान उसका पूरा शरीर मस्तिष्क उसका पूरा जीवन उसकी तंत्रिका तंत्र, ह्रदय, उसका मन सभी पर यह अवसाद हावी होने लगता है ।व्यक्ति पूर्ण रूप सेअपने परिवार के सदस्यों से अपने प्रिय जनों से दूर होने लगता है, तथा उनके स्वत्व को खोने लगता है, जिससे अनुभूति इंद्रियबोध शक्ति भी कमजोर पड़ने लगती है।

इसे भी पढ़ें:- अमेरिकन डायमंड क्या है?

ऐसी अवस्था में केवल वह एक जिंदा लाश के समान अपना जीवन व्यतीत करने लगता है, जिसमें कोई भी मनोभाव कोई भी दशा कोई भी आत्मीयता एवं अपनापन जैसी चीज नहीं बचती है।

ऐसी जटिल समस्या से ग्रसित रहने वाले लोगों के लिए शंख( Shankh )बहुत ही लाभप्रद माना जाता हैै। यदि प्रतिदिन ऐसा व्यक्ति शंख ( Shankh ) में रखा हुआ जल ग्रहण करें तथा सुबह-शाम शंखनाद करेंl तो ऐसे में उसकी मानसिक तरंगों में उत्पन्न होने वाले कई प्रकार के विकार ठीक होने लगते हैं ।

यह आसपास के वातावरण में अनियंत्रित परिस्थितियों पर बहुत ही प्रवीण प्रभाव डालता है। जिससे व्यक्ति का मानसिक संतुलन धीरे-धीरे ही सही किंतु सुचारू रूप से चलने लगता है।

जिसके कारण व्यक्ति की शारीरिक एवं मानसिक गतिविधियां भी सक्रियता पूर्व स्थिति में बनी रहती है, व्यक्ति अपने सगे संबंधियों के साथ अपने प्रिय जनों के साथ विभिन्न प्रकार के प्रयोजनों में विभिन्न प्रकार के क्रियाकलापों में अपनी अनुबंधता अवश्य दर्शाता है ।ऐसे बच्चे या किसी भी आयु वर्ग के लोग जिनका स्वभाव बहुत ही जल्द नरम एवं बहुत ही जल्द गरम होता है, या जो बहुत अधिक जिद्दी स्वभाव के हैं ।उन लोगों को भी शंख  ( Shankh ) का प्रयोग कर इसके फायदे को अवश्य उठाना चाहिए।

इससे उनकी बुद्धि में सुधार आता है, तथा उनकी एकाग्रता शक्ति में अद्भुत चमत्कारिक कायाकल्प देखने को मिलता है। कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह का मानसिक विकार से ग्रसित है, तो ऐसी अवस्था में वह शंखनाद करें तो उसे बहुत आराम मिलता है। उसे कई प्रकार के शरीर के आंतरिक रोगों से निवारण प्राप्त होता हैै।

संख बजाने के फायदे, sahnkh bajane ke fayde

इसे भी पढ़े:- सुलेमानी हकीक धारण करने की विधि 

3. हिंदू परंपरा हो या बौद्ध धर्म हो या जैन धर्म हो सभी में शंख  ( Shankh )  को सुख समृद्धि का वाहक माना जाता है ।ऐसी मान्यता है, कि जहां भी शंख ( Shankh )   को प्रतिष्ठित किया जाता है। वहां पर माता लक्ष्मी स्वयं विराजमान रहती है, उनके साथ ही साथ श्री हरि विष्णु भी विराजमान रहते हैं।गृह में जब कभी भी बहुत अधिक विपत्ति क्लेश हो तो ऐसे में उत्तम स्थान पर सुबह शाम शंखनाद करना चाहिए।

जिससे वहां पर व्याप्त हर प्रकार की वास्तु दोष संबंधित समस्या समाप्त होने लगेगी।शंख( Shankh ) को प्रत्येक आयु वर्ग के लोग बजा सकते हैंl इसे बजाने के लिए किसी भी तरह का विशिष्ट प्रावधान नहीं रखा गया है।ही कारण है, कि इसे किसी भी आयु वर्ग के लिए उपयुक्त माना जाता है, तथा जो भी व्यक्ति अपने घर में सुख शांति एवं समृद्धि एवं ऐश्वर्य को स्थापित करना चाहता हैै।

उन्हें अपने गृह स्थल पर प्रतिदिन सुबह-शाम शंखनाद अवश्य करना चाहिए। शंख ( Shankh ) को बजाने से शारीरिक एवं मानसिक कष्ट तो दूर होते ही है।इसके साथ-साथ उनके निवास स्थल में पवित्र शक्तियों का निवास भी होने लगता हैै, जिससे उनका जीवन सुखी एवं संपन्न होता है।

संख बजाने के फायदे, shankh bajane ke fayde

इसे भी पढ़ें:- मोती की माला के बीस चमत्कारी फायदे

4. शंख ( Shankh ) को बजाने से मिलने वाले कई प्रकार के शारीरिक लाभ आप गिनते गिनते थक जाएंगे किंतु इसके असंख्य लाभों को एकत्रित करने में आप असफल रहेंगे।यह हमारे सुरक्षा तंत्र को बहुत अधिक मजबूती प्रदान करता है, जिससे मौसमी चक्र से उत्पन्न होने वाले कई प्रकार के बीमारियों से हमारा शरीर सुरक्षित रहता है।

शंख बजाने से किसी भी तरह के बाहरी परजीवी के आक्रमण से भी हमारा शरीर दुरुस्त रहता है, क्योंकि जब हम शंखनाद करते हैं, या जब हम शंख ( Shankh )    बजाते हैं तब हमारे फेफड़े को मजबूती प्राप्त होती है, तथा हमारे शरीर के सभी अंगो का पर्याप्त मात्रा में व्यायाम भी होता है, जिससे हम तंदुरुस्त होते हैंं।

इसकी पवित्र ध्वनि जहां तक पहुंचती है।वहां तक के वातावरण को यह शुद्ध कर देती है।शंख  ( Shankh )   की आवाज शुभ शगुन के रूप में माना जाता है, य जीह एक पुनीत ध्वनि उत्सर्जित करने वाला वाद्य यंत्र है, जो श्री हरि विष्णु का सबसे प्रिय वाद्य यंत्र माना जाता हैl यह न केवल कई जटिल बीमारियों को दूर करने की क्षमता रखता हैl इसके प्रभाव से व्यक्ति सदा सकारात्मक गुणों से पूर्व रहता हैl शंख की ध्वनि जहां तक पहुंचती है l

वहां तक का वातावरण नकारात्मक शक्तियों से मुक्त हो जाता है, तथा गृह स्थल हो या व्यापार स्थल हो या विद्या अध्ययन का कक्षा प्रत्येक स्थान को पवित्र बना देता है, जिससे सकारात्मकता युक्त अलौकिक शक्तियां उस स्थान पर प्रविष्ट करने लगती हैl इसके औषधीय गुणों से अस्थमा जैसे रोग हो या उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियां या हृदय से संबंधित कई घातक रोग मस्तिष्क की विकृति, इन सभी चीजों पर यह अच्छे प्रभाव डालता हैl

व्यक्ति को इस प्रकार की बीमारियों से पूर्ण रूप से सुरक्षा प्रदान करता है ।शंख के भस्म का प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों में भी किया जाता है।खासकर त्वचा रोग से संबंधित चीजों में इसकी उपचारात्मक गुण बहुत अधिक माना जाता है।शंखनाद से आसपास में जितने भी जीवाणु मौजूद होते हैं ।सभी नष्ट होने लगते हैं।कई विषाक्त युक्त परजीवी इसकी पुनीत ध्वनि से नष्ट होने लगते हैं, तथा वहां का वातावरण पूर्ण रूप से सुरक्षात्मक घेरा के समान अभिरक्षण प्रदान करता हैै।

मित्रों यदि आप अभिमंत्रित शंख ऑडर करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित किया हुआ संख 4 ईच 500 रुपिया लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड साथ में दिया जाएगा साथ ही साथ मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा –  (Delevery Charges free) Call and Whatsapp – 7567233021

 

Leave a Reply