सिलोनी पुखराज के फायदे – Siloni Pukhraaj Ke Fhayde

सिलोनी पुखराज के फायदे – Siloni Pukhraaj Ke Fhayde

 

Siloni Pukhraaj ratna ke fhayde kya hai jaaniye 

सिलोनी पुखराज के फायदे

सिलोनी पुखराज रत्न के फायदे - Siloni Pukhraaj Ke Fhayde

सिलोनी पुखराज कैसा होता है, पुखराज रत्न के विभिन्न प्रकार के नामों को सुनकर लोगों में यह संशय बना रहता है, कि आखिर क्या यह भी एक पुखराज है, या कोई और चीज है, केवल इसमें पुखराज शब्द जोड़ दिया गया है, उसी तरह से सिलोनी पुखराज के बारे में भी लोग कौतूहल में रहते हैं, कि आखिर यह है, क्या चीज़ आइए आगे के लेख में हम आपको इसकी विस्तृत जानकारी देते हैं।

इसे भी पढ़े:- पन्ना रत्न पहनने का मंत्र 

सिलोनी पुखराज मुख्यता श्रीलंका से प्राप्त पुखराज रत्न होते हैं, देखने में बिल्कुल यह पारदर्शी होते हैं वैसे तो यह अर्ध पारदर्शी भी होते हैं, विभिन्न जगहों से प्राप्त पुखराज रत्न के मुकाबले इनकी गुणवत्ता बहुत अधिक होती है।

प्राकृतिक रूप से प्राप्त सिलोनी पुखराज को आप जब ध्यान से देखेंगे तो आप पाएंगे कि हर एक पत्थर अपने आप में विशिष्ट संरचना लिए हुए हैं, कभी भी कोई भी पत्थर जो प्राकृतिक रूप से उपलब्ध होता है,एक जैसा नहीं दिखता है, उसमें कुछ ना कुछ विभिन्नता ए आपको देखने को अवश्य मिलेगी, उसका आकार या उसकी भौतिक संरचना कुछ ना कुछ भिन्नता आपको इसमें अवश्य दिखेगी बहुत से लोगों को यह लगता है।

 यदि एक तरह के ही रत्न होते हैं, तो वही सही होते हैं, जबकि ऐसा नहीं है, जो रत्न हुबहू एक जैसे दिखते हैं, वह केवल कृत्रिम रूप से ही निर्मित हो सकते हैं, क्योंकि प्रकृति में उपलब्ध जितने भी पत्थरों का निर्माण होता हैl सभी को अलग-अलग वातावरण अलग-अलग तापमान अलग-अलग दबाव जैसी विभिन्न प्रकार की परिस्थितियों से होकर गुजरना पड़ता है, तब उनका रूपांतरण एक , सौंदर्य पूर्ण रत्न होता है,तब कहीं जाकर वह रत्न में परिवर्तित होते हैं इसलिए आप देखेंगे कि विश्व के जितने भी देश है, जहां पर यह रत्न पाया जाता है।

इसे भी पढ़े:- पन्ना रत्न के फायदे और नुकसान

सभी देशों के पुखराज रत्न भले ही देखने में पीला या सफेद हो किंतु उनके रंग पीले या सफेद में ही आपको विभिन्न प्रकार के ग्रैफिक्स देखने मिलेंगेl वह कभी भी एक जैसे नहीं मिलेंगे जिस प्रकार इंसान का स्वरूप अलग अलग है,कोई भी इंसान एक जैसा नहीं दिखता है,लेकिन वह इंसान कहलाता है, उसी प्रकार विभिन्न प्रकार के पत्थर भी जो पीले और सफेद तो होते हैं,पर बिल्कुल भी एक जैसे नहीं होते हैंl बैंकॉक, भारत, जापान ,म्यानमार जैसे देशों से पाए जाने वाले पुखराज रत्न भी अच्छे होते हैं, किंतु सबसे अच्छी और विशिष्ट गुणवत्ता वाले पुखराज रत्न आपको ब्राजील तथा म्यानमार से प्राप्त होता है।

सिलोनी पुखराज जो मुख्यतः श्रीलंका से संबंधित है, यह रत्न भी विश्व प्रसिद्ध होता है, देखने में इसका रंग दूधिया सफेद होता है, या हल्का पीला होता है, इसकी कीमत भी आपको बहुत अधिक चुकानी पड़ती है, क्योंकि इसके प्रभाव भी बहुत अधिक अनुकूल प्राप्त होते हैं, जिस जातक के द्वारा यह रत्न धारण किया जाता है, और इसका खनन भी बहुत सी जटिल प्रक्रियाओं से होकर गुजरता हैl शायद यही कारण है, कि इसका मूल्य बहुत अधिक होता है, किंतु मूल्य अधिक होने के साथ-साथ इसमें अप्रतिम गुण भी मौजूद होते हैं, जो इसे अलौकिक बनाते हैं।

इसे भी पढ़े:- मूंगा रत्न के अदभुत फायदे 

 तथा कुंडली के विभिन्न परिस्थितियों में स्थित गुरु ग्रह को मजबूत बनाने के लिए या उनके कृपा प्राप्त करने के लिए यह रत्ना लोगों के द्वारा धारण किया जाता है lगुरु बृहस्पति ग्रह पूरे ब्रह्मांड के सबसे बड़े ग्रह के रूप में जाना जाता है, तथा पुखराज रत्न को रत्नों का राजा कहकर संबोधित किया जाता हैl इसका वर्णन पीला या दूधिया सफेद होता है, किंतु इससे और भी वर्ण हो सकते हैं,जैसे- गुलाबी ,नीला आदि जो विभिन्न प्रकार के ग्रहों से संबंधित होते हैं।

बहुत से वैदिक ज्योतिष विज्ञान के विद्वानों का मानना होता है, कि बृहस्पति ग्रह हमारे पिछले जन्म के कर्म ,ज्ञान, धर्म-कर्म ,धन-संपत्ति, संतान सुख का कारक भी इन्हें ही माना जाता हैl

वास्तविक जीवन में आप किस पद पर अवस्थित होंगे तथा आप की सामाजिक स्थिति क्या होगी आपकी आर्थिक स्थिति क्या होगी यह सारी चीजें गुरु ग्रह बृहस्पति के द्वारा ही निर्धारित की जाती है, विभिन्न क्षेत्रों में सफलता प्राप्त करने के लिए लोगों के द्वारा यह सिलोनी पुखराज धारण किया जाता है l

 ज त्वरित गति से कार्य करता है, तथा लोगों के मन वांछित इच्छाओं की पूर्ति करता हैl आइए जानते हैं इसके क्या क्या और लाभ मिल सकते हैं इस रत्न को धारण करने से..

1. सिलोनी पुखराज रत्न धारण करने से जीवन में विवाह संबंधित यदि कोई परेशानी आपके जीवन में है, तो वह दूर होता है, तथा आपका विवाह एक सुयोग्य वर अथवा वधु के साथ संपन्न होता है।

इसे भी पढ़े:- सफेद पुखराज के 10 चमत्कारी फायदे 

 यदि किसी के दांपत्य जीवन में खटास आ गई है,वह अपने दांपत्य जीवन से निराश हो गया हैl तो भी इस रत्न को धारण किया जाता है, इस रत्न को धारण करने से दांपत्य जीवन में सुखी संपन्नता बनी रहती है, तथा जोड़ों में प्रगाढ़ प्रेम अवस्थित होता है, तथा दोनों एक दूसरे पर भरोसा करते हैं, एवं अपने विवाह की गाड़ी को उत्तम दिशा लेकर जाते हैं, तथा समाज में अपनी जोड़ी का अच्छे होने का का एक छाप छोड़ते हैंl

2. इस रत्न को लोग नौकरी में सफलता प्राप्ति के लिए भी धारण करते हैंl प्रशासनिक विभाग से संबंधित लोग या नेता लो के द्वारा या प्रवचन प्रवक्ता के द्वारा यह रत्न अपने विशिष्ट छवि स्थापित करने के लिए भी इस रत्न को धारण किया जाता हैl जिससे लोग उनकी और अधिक से अधिक आकर्षित हो तथा उनका समाज में नाम हो सभी उनका मान सम्मान करेंl

3. बृहस्पति ग्रह को ज्ञान का भंडार माना जाता है, ऐसा माना जाता है कि जितनी तरह की भी ज्ञान होते हैं,सभी का स्वामी बृहस्पति ग्रह होते हैं इसलिए इस रत्न को धारण करने से ज्ञान रूप का रत्न आपके अंदर संचारित होता है, तथा आपका बुद्धि विवेक अच्छे तरीके से कार्य करता है, तथा अपने कार्यों में सफलता प्राप्त करते हैं।

4. बृहस्पति ग्रह विभिन्न प्रकार के कलाओं के स्वामी होते हैं इसलिए पुखराज रत्न को धारण करने से जातक के अंदर विभिन्न प्रकार की कलात्मक तथा रचनात्मक शक्तियां विद्यमान होती है, उसकी ज्ञान में वृद्धि होती है, जिससे वह धन उपार्जन तथा जीविकोपार्जन में सफलता प्राप्त करता हैl

मित्रों यदि आप अभिमंत्रित सिलॉनी पुखराज रत्न प्राप्त कर यदि अपने जीवन को सुखमय बनाना चाहते है तो नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित सिलौनी पुखराज रत्न मात्र – 2500₹ रत्ती मिल जाएगा,जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट मिल जायेगा (Delevery Charges free)-call and WhatsApp no-7567233021

 

 

Leave a Reply