पीला पुखराज पहनने के फायदे – Pila Pukhraj Pahanne ke Fayde

पीला पुखराज पहनने के फायदे – Pila Pukhraj Pahanne ke Fayde

 

 पीला पुखराज पहनने के फायदे –

पीला पुखराज पहनने के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं, तथा पीला पुखराज किस ग्रह से संबंधित होता है, तथा इसके विभिन्न लाभ हमें क्या क्या प्राप्त हो सकते हैं?? यह विषय लोगों के मन में काफी कौतूहल का होता हैl हालांकि यह एक विश्व प्रसिद्ध रत्न है, फिर भी लोगों के मन में विभिन्न प्रकार की संशय होना आम बात है।

रत्नों का उपयोग हमारे पूर्वजों के द्वारा न जाने कितने ही अनगिनत वर्षों से किया जाता आ रहा हैl यह एक अद्भुत बात है, कि रत्न जो एक प्राकृतिक रूप से संसाधन के रूप में पूरी पृथ्वी पर पाए जाते हैं, कैसे विभिन्न प्रकार के ग्रहों को निरूपित करते हैंl उनका वह प्रतिनिधित्व करते हैं, तथा उनमें उनकी शक्तियां विद्यमान होती है lयह एक बहुत ही आश्चर्यजनक बात है, क्योंकि कहा वह ब्रह्मांड के सारे रहस्य जिनका जान पाना एक आम मनुष्य के लिए नामुमकिन सा है, और कहां धरती पर उपलब्ध विभिन्न प्रकार के संसाधन जिसकी समझ मानव को पता नहीं कब और कैसे पता चला तथा उन्होंने कौन सी पद्धति को अपनाकर उनका उपयोग करना जाना तथा उनकी उपयोगिता किस-किस आयाम में लाया जा सकता है।

इसे भी पढ़े:- गोमेद रत्न पहनने की विधि 

इस बात की जानकारी उन्हें किन पद्धतियों से हासिल हुईl यह एक आश्चर्य की बात है, फिर भी हमारे पूर्वजों के द्वारा प्रदत या अद्भुत विद्या किसी आश्चर्य से कम नहीं है, कि कैसे आकाशीय पिंडों का संस्मरण कर वे लोग विभिन्न प्रकार के रत्नों का उपयोग कर वास्तविक जीवन को एक उच्चतम स्तर तक ले जाने की क्षमता रखते थेl यह हमारे लिए सौभाग्य की बात है, कि आज भी भले ही यह विस्तृत अवस्था में नहीं किंतु उस अवस्था में अवश्य है, जहां आज के मानवों के लिए भी यह विद्या बहुत अधिक उपयोगी हैl यह एक लोकप्रिय विद्या है, जिसका उपयोग ना केवल वैदिक जो भारतीय ज्योतिष विज्ञान करता हैl

बल्कि पाश्चात्य ज्योतिष विज्ञान में भी रत्नों को लेकर बहुत अधिक समर्पण भाव तथा आदर भाव, सम्मान का भाव देखने को मिलता हैlउन लोगों का भी मद है, कि यह रत्न हमारे वास्तविक जीवन में आ रही विभिन्न प्रकार की परेशानियों को दूर करने में सक्षम होते हैं, तथा हमारे व मनवांछित इच्छाओं की पूर्ति भी इनके माध्यम से की जाती है, इन रत्नों का औषधीय उपयोग भी कम नहीं है, किंतु समय के साथ इसके औषधीय गुणों की विशेषताएं लुप्त होती चली गई, फिर भी कुछ कुछ लोगों को इसके विषय में ज्ञान है, तथा वह अपने ज्ञान का प्रसार कर हमें इनके औषधीय गुणों के बारे में भी जानकारी प्रदान करते हैं, यह रत्न किसी अमृत तत्व से कम नहीं है।

इसे भी पढ़िए:- अमेरिकन डायमंड क्या है?

पीला पुखराज देखने में अनेक पीले रंग के ग्राफिक्स में उपलब्ध होता हैl यह रत्न गुरु ग्रह को समर्पित होता है, तथा इसमें गुरु ग्रह से संबंधित विभिन्न प्रकार की पारलौकिक शक्तियां विद्यमान होती है lइसमें अनेक भौतिक गुण मौजूद रहते हैं, जिसका उपयोग औषधीय प्रणाली में भी किया जाता हैl यह उस गुरु ग्रह को संबोधित करता है, जिनकी पूजा अर्चना आराधना मान सम्मान का भाव देवता से लेकर गण तक करते हैंl

 मानव हो या दानव सभी उनके समक्ष नतमस्तक होते हैं,और सभी यह चाहते हैं, कि उनकी कृपा प्राप्ति हो उनकी कृपा दृष्टि हमेशा यूं ही उन लोगों पर बनी रहे उसके लिए वह बहुत से पद्धतियों को अपनाते हैं, किंतु सबसे उपयुक्त होता है, पुखराज रत्न धारण करना गुरु ग्रह से संबंधित किसी भी परेशानी के लिए मुख्यतः यह रत्न धारण किया जाता है, किंतु यह भी है, कि हर कोई इस रत्न को धारण करके इसका लाभ नहीं उठा सकता है, क्योंकि हर किसी का जन्म का समय एक विशिष्ट अवधि को दर्शाता है, जिसमें उसके कौन से ग्रह ऊंचे अवस्था में रहेंगे तथा कौन से ग्रह नीचे अवस्था में रहेंगे वह केवल उसकी कुंडली के सटीक एवं विस्तृत गणना के आधार पर ही जाना जा सकता है, और यह भी जाना जा सकता है, कि कौन सा रत्न उसे धारण करने से उसकी प्रगति होगीl उसकी उन्नति होगी और कौन सा रत्न धारण करने से उसकी अवनति होगीl रत्नों का खेल बड़ा ही निराला है, पुखराज रत्न को रत्नों का राजा से अलंकृत किया जाता है, क्योंकि इसके गुणों का कोई अंत नहीं है, इसके लाभों का आदि है, न अंत है।

इसे भी पढ़े:- स्फटिक श्री यंत्र के फायदे 

पीला पुखराज पहनने के निम्नलिखित फायदे हो सकते हैं-

1. इस रत्न को धारण करने से आपको शिक्षा संबंधित किसी भी क्षेत्र में ज्ञान की विस्तृत जानकारी उपलब्ध होती हैl यह आप में एक अद्भुत गुण पैदा करता है, जिससे आप किसी भी चीज की जानकारी यदि रखते हैं, तो वह विस्तृत अवस्था में रखते हैं, तथा आपके ज्ञान को देखकर लोग आपके समक्ष नतमस्तक होते हैंl समाज में आप एक विद्वान व्यक्ति या ज्ञानी व्यक्ति के रूप में जाने जाते हैं, जिसके ज्ञान का तोड़ शायद ही किसी के पास उपलब्ध होता है lयह आपके मस्तिष्क रेखा के तेज को बढ़ाता हैl

2. इस रत्न को धारण करने से आर्थिक स्थिति मजबूत होती है, तथा रुपयों पैसों संबंधित जो भी परेशानियां या खराब स्थिति बनी हुई थी उन सभी में धीरे-धीरे सुधार होना शुरू हो जाता है, तथा स्थिति मजबूत होने लगती हैl

3. इस रत्न को धारण करने वाले जातक को यदि विवाह संबंधित किसी भी प्रकार की परेशानी होती है, या आती है, तो वह जल्द ही दूर होती है, यह रत्न आपके दांपत्य जीवन को सुखी एवं संपन्न बनाता है, या जिन लोगों का शादी विवाह होने में काफी देर हो रही है, तो उन्हें जल्द ही शादी के बंधन में बंधने के योग का निर्माण करता है, तथा सुयोग वर अथवा सुयोग वधू उनके लिए निर्धारित करता हैl इस रत्न को धारण करने से दांपत्य जीवन में खुशियां बरसती हैl

4. इस रत्न को धारण करने वाले जातकों में अध्यात्मिक चीजों का ज्ञान बहुत विस्तृत अवस्था में देखने को मिलता है, तथा विभिन्न प्रकार की सांसारिक चीजों के प्रति आप आकर्षित ना होकर धार्मिक चीजों में अपनी सहभागिता बढ़ाते हैं, तथा धर्म के पथ पर चलने से आपके जीवन के विभिन्न आयामों में आपको अद्भुत बदलाव का अनुभव होता है, जिसकी परिकल्पना शायद ही आपने कभी की हो।

इसे भी पढ़े:- लाल हकीक पहनने के फायदे 

5. यह रत्न धारण करने से आप में कलात्मक कौशलों का निर्माण होता हैl

6. इस रत्न को धारण करने से संज्ञानात्मक तथा रचनात्मक विकास की वृद्धि दर काफी त्वरित गति से होती हैl

7. इस रत्न के विविध लाभ होते हैं, जो केवल कुछ चंद शब्दों में नहीं समझे या जाने जा सकते हैं lसमय के साथ इनके शुभ एवं अनुकूल परिणामों को आप अपने जीवन के विभिन्न परिस्थितियों में देख सकते हैं,यह एक अद्वितीय रत्न हैl

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ पीला पुखराज प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित किया हुआ पीला पुखराज मात्र – 300₹ और 600₹ रत्ती मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

 

Leave a Reply