पुखराज का उपरत्न क्या है – Pukhraj Ka Upratna Kya Hai

पुखराज का उपरत्न क्या है – Pukhraj Ka Upratna Kya Hai

पुखराज का उपरत्न क्या है (pukharaj ka

 upratna kya hai)

पुखराज का उपरत्न क्या है(pukhraj ka upratna kya hai)– आज हम सभी यह जानेंगे कि पुखराज का उपरत्न क्या है। लेकिन उससे पहले हम यह जान लेते हैं कि पुखराज क्या है। पुखराज एक मूल्यवान और अत्यंत ही प्रसिद्ध रत्न है। ऐसा माना जाता है लोगों के द्वारा की पुखराज सिर्फ पीले रंग का ही होता है, जबकि वास्तव में ऐसा बिल्कुल नहीं होता है पुखराज बहुत सारे रंगों में मिलता है। जैसे गुलाबी, पीला, हल्का हरा और रंगहीन भी मिलता है। आपको क्या बता दें कि पुखराज रंग ही नहीं होता है क्योंकि यह शुद्ध होता है। इसमें विद्यमान अशुद्धियों के कारण है इसमें विभिन्न प्रकार के रंग दिखाई पड़ते हैं। पुखराज को बृहस्पति का रत्न माना जाता है।

इसे भी पढ़ें:- श्री यंत्र की पूजा कैसे करे

जब किसी व्यक्ति का कुंडली में गुरु नीच का और शत्रु राशि का या वक्री है तो तो उसे पुखराज रत्न सोने में धारण करना चाहिए। इससे उसे काफी लाभ मिलता है। इससे उनके जीवन में खुशियां आती है और सारे दुखों का निवारण हो जाता है। गुरु एक सौम्य ग्रह है, इसी से व्यक्ति की शिक्षा सामाजिक सम्मान, पद प्रतिष्ठा, मान व पेट से संबंधित रोगों का धारण करता है जैसे मोटापा और मोटापे से जुड़े बहुत सारी समस्याओं का निवारण करता है। पुखराज रत्न धारण करने से कुंडली में गुरु को बल मिलेगा, कमजोर होने के जो नुकसान हो रहे हैं या आपके जीवन में जो बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

उन में बहुत कमी होगी और सुधार भी आएगा। अगर आपकी कुंडली में गुरु अच्छी स्थिति में नहीं है या कमजोर है तो सोने में पुखराज को डालकर गुरुवार के दिन अपनी तर्जनी उंगली में पहने और साथ ही साथ इसे मंत्रों द्वारा प्रतिष्ठित कर ले। उसके बाद धारण करें। पुखराज एक प्रभावी रत्ना है। दुर्लभ होने के कारण या काफी महंगा मिलता है। पुखराज रत्न में आजकल बहुत ज्यादा हेरा फेरी होने लगी है। लोग नकली पत्थर को पीला रंग करवाकर असली पुखराज के दामों में बेच रहे हैं और यह अधिकतर दिल्ली में हो रहा है असली पुखराज काफी महंगा होता है। तो चलिए अब यह जानते हैं कि पुखराज का उपरत्न क्या है।

पुखराज का उपरत्न क्या है(pukhraj ka upratna kya hai)

उत्तर:- पुखराज का उपरत्न(pukhraj ka upratna)  है इसे पहनने से कैरियर और बिजनेस में काफी लाभ होता है। वैदिक ज्योतिष में इसका उपयोग परेशानियों को कम करने में किया जाता है। रत्ना यानी जेम्स धारण करना भी उनमें से एक है। समस्याओं को दूर करने के लिए यह रत्न धारण करना बहुत प्रभावशाली माना जाता है। इसे कई लोग अपने निजी जीवन में फायदा पाने के लिए इस रत्न को धारण करते हैं। हर रतन का अपना अलग-अलग प्रभाव होता है। सुनहला धारण करने से व्यक्ति के जीवन में बहुत अच्छा प्रभाव पड़ता है।

इसे भी पढ़े :- गार्नेट रत्न के चमत्कारी लाभ जानिए ।

सुनहला रत्न पीले रंग का नर्म तथा संपूर्ण प्रदर्शक होता है। सुनहला रत्न पुखराज का उपरत्न है श्रेष्ठ वही माना जाता है। जो हल्का पीला होता है सरसों के फूल जैसा पीला होता है। जो लोग पुखराज महंगा होने के कारण धारण नहीं कर सकते हैं। वह लोग इसे धारण अवश्य ही कर सकते हैं। पुखराज का सब्सीट्यूट होता है, जो दिमाग को शांत करने में काफी मदद करता है। अगर आप हमेशा तनाव में रहते हैं, तो आप यह रत्न धारण कर सकते हैं।

यह रत्न आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होगा। इस रत्न को धारण करने से धन और सम्मान में काफी वृद्धि होती है। हमारे जीवन में कुछ ग्रह दोष होते हैं। जिससे हमारी जिंदगी पर असर डालता है। ऐसा माना जाता है कि अगर गुरु ग्रह को शांत करना है, तो सुनहरा रत्ना काफी उपयोगी होता है। इस रत्न को पहनने से गुस्सा भी शांत होता है और तनाव भी दूर होता है। गुरु ग्रह मजबूत करने के लिए सुनहला रत्न धारण करना चाहिए। इस रत्न को आप हमेशा सीधे हाथ की इंडेक्स फिंगर में ही पहने वह भी गुरुवार के दिन ही पहनना चाहिए। अगर आप धन से संबंधित परेशानियों से जूझ रहे हैं तो आप सुनहला रत्न धारण करके इन परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं।

पुखराज का उपरत्न क्या है(pukhraj ka upratna kya hai)

इसे भी पढ़े :- सूर्य का उपरत्न कौन सा है

उत्तर:- पुखराज का उपरत्न सुनहला है। अगर आप अपने आर्थिक स्थिति से काफ़ी परेशान है, तो आप पुखराज का उपरत्न सुनहला धारण कर सकते हैं। इससे आपकी हर प्रकार की परेशानियां खत्म हो जाएगा और आपकी आर्थिक स्थिति में जो बाधाएं आ रही थी। वह खत्म हो जाएगी और आपके आर्थिक स्थिति में बहुत अधिक सुधार आ जाएगा। पुखराज का उपरत्न सुनहला को अगर आप चांदी के अंगूठी में डालकर पहनते हैं तो, इससे आपको काफी लाभ मिलेगा। आपकी हर परेशानी बहुत ही जल्द खत्म हो जाएगी।

अगर आप मानसिक रूप से कमजोर हैं। पुखराज का उपरत्न सुनहला को धारण कीजिए। इससे यह होगा कि आप मानसिक रूप से जो कमजोर थे। वह आपका मानसिक संतुलन अच्छा बना रहेगा और आप मानसिक रूप से बहुत अच्छे हो जाओगे किसी – किसी को मानसिक तनाव रहता है, तो वह भी अगर पुखराज का उपरत्न सुनहला को धारण करें, तो उससे उनको काफी लाभ मिलता है। अगर आप एक विद्यार्थी हैं, और आपके पढ़ाई से संबंधित बहुत सारी समस्या आ रही है। आपकी पढ़ाई सही से नहीं हो पाती आप पढ़ने की लाख कोशिश करते हैं।

याद रखने की लाख कोशिश करते हैं, पर आप भूल जाते हैं, तो अगर आपके साथ भी ऐसा होता है, तो आप पुखराज का उपरत्न सुनहला को अवश्य ही पहनिए इससे आपके पढ़ाई में काफी सुधार आएगा और आपकी जो याद करने की क्षमता है, वह बढ़ जाएगी और आपको हर चीज बहुत अच्छे से याद हो जाएगा। समझ में भी काफ़ी आ जाएगा, जिससे कि आप एग्जाम में बहुत ही आसानी से उतर लिख भी सकते हैं और आसानी से लिखने के कारण आपका नंबर बहुत ही अच्छा आएगा

और फिर आपको याद करने में कभी भी परेशानी नहीं होगी। कोई भी विषय को समझने में कोई परेशानी नहीं होगी। पुखराज का उपरत्न सुनहला को धारण करने से आपकी हर एक परेशानी खत्म हो जाएगी। अगर आप एक नौकरी की तलाश में है, तो आप पुखराज का उपरत्न सुनहला को अवश्य ही पहने इससे आपको नौकरी अवश्य ही लगेगी। उसके साथ साथ आपको बहुत ही अधिक लाभ होगा और बहुत ही जल्दी आपको इसका लाभ दिखेगा।

मित्रों यदि आप अभिमंत्रित किया हुआ सुनेला रत्न प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से प्राप्त कर सकते है हमारे यहा सुनेला रत्न मात्र 150 रु रत्ती मिल जाएगा, साथ में आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड साथ में दिया जाएगा मंगवाने के लिए – Call and Whatsapp -7567233021

 

Leave a Reply