14 मुखी रुद्राक्ष के फायदे – 14 mukhi rudraksha ke fayde

14 मुखी रुद्राक्ष के फायदे – 14 mukhi rudraksha ke fayde

14 मुखी रुद्राक्ष के फायदे – 14 mukhi

 rudraksha ke fayde

 

• 14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha ke fayde) उन लोगों के लिए बहुत ही लाभदायक होता है, जो ऊपरी बाधा से ग्रसित होते हैं, कई बार ऐसा देखा गया है, कि ग्रहों के आपसी तालमेल से ऐसे योग उत्पन्न हो जाते हैं, जिससे व्यक्ति श्रापित योग एवं पिशाच जैसी चीजों से ग्रसित होने लगता है, शनि की युक्ति अन्य ग्रहों के साथ मिलकर सबसे खतरनाक एवं कठिन लोगों का निर्माण करती है, जो कि किसी भी व्यक्ति के जीवन में अंधकारता को प्रबल बनाती है, इसमें उसे लाइलाज बीमारी भी हो सकता है, तथा जातक की प्रवृत्ति अपराधिक हो सकती है।

जिसके कारण जेल, कोर्ट – कचहरी के मामलों में भी फस सकता है, अनेक प्रकार के अनैतिक कार्यों में लिप्त होने के कारण उसके नैतिकता का पतन भी हो सकता हैl जातक के ऊपर बहुत जल्द नजर दोष संबंधित चीजें भी हावी होने लगती है। काला जादू ,तंत्र ,जादू ,टोना अभिचार होने का डर भी बना रहता है, यह योग नकारात्मक प्रभाव से जातक के जीवन में बड़े बड़े आर्थिक संकट एवं कठिनाइयों को उत्पन्न कर सकते हैं l

इसे भी पढ़ें – मोती की माला के 20 चमत्कारी फायदे – जान कर हो जायेंगे हैरान

 

इसे भी पढ़ें – कार्यों में सफलता, व्यापार में वृद्धि एवं सभी परेशानियों से छुटकारा हेतु धारण करें पीताम्बरी नीलम 

14 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे, 14 मुखी रुद्राक्ष के फायदे, 14 मुखी रुद्राक्ष के लाभ, 14 मुखी रुद्राक्ष का महत्व, 14 मुखी रुद्राक्ष के बारे में बताइए, 14 मुखी रुद्राक्ष पहनने से क्या होता है, 14 mukhi rudraksha ke fayde, चौदह मुखी रुद्राक्ष के लाभ, चौदह मुखी रुद्राक्ष के फायदे, चौदह मुखी रुद्राक्ष का महत्व, चौदह मुखी रुद्राक्ष लाभ
14 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे

 

जातक के जीवन में आकस्मिक दुर्घटना जादू टोना भूत प्रेत अदृश्य शक्तियों का प्रभाव बहुत ही अधिक विस्तृत रूप से पड़ने लगता है, जिससे उनके रोजमर्रा के जीवन में भी बहुत अधिक दुष्परिणाम देखने के लिए मिलते हैं, इसके साथ ही उन्हें सुकून का नींद भी प्राप्त नहीं होता है। सपने भी जातक को भूत पिचास के लिए आते हैं, उनका नींद और चैन बिल्कुल खत्म हो जाता है।

गुप्त विद्याओं का प्रयोग उनके ऊपर बहुत ही प्रभावी रूप से नकारात्मक लोगों के द्वारा किया जाता है, जिसके कारण जातक के ऊपर नकारात्मक चीजें बहुत ही बलिष्ठ पूर्वक असर डालती है, एवं उसे क्षत-विक्षत एवं त्रस्त कर देती है। ऐसे खराब योग का निर्माण जिस भी कारण से होता है। उन सभी को यह दूर करता है, तथा जातक को शनि ग्रह के द्वारा दिए जा रहे किसी भी तरह के नकारात्मक प्रभाव को यह पूरी तरह से निष्फल कर देता है, जातक को पूरी तरह से सुरक्षा प्रदान करता है।

इसके साथ ही भगवान हनुमान जी का भी आशीर्वाद उक्त व्यक्ति को प्राप्त होता है, जिसके द्वारा 14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha benefits in hindi) को धारण किया जाता है, क्योंकि इसमें भगवान रामदूत हनुमान जी की भी शक्तियां समाहित होती है, ऐसे में काली शक्तियों से जातक की रक्षा स्वयं वीर हनुमान बजरंगबली के द्वारा किया जाता है, तथा जातक को इनका संरक्षण प्राप्त होता है।

जिससे उसके जीवन में किसी तरह की दुर्घटना या किसी तरह की ऐसी चीजें आकस्मिक रूप से नहीं हटती है, जो जातक के जीवन को पूरी तरह से नकारात्मक रूप से परिवर्तन कर सकती है,14मुखी  रुद्राक्ष उसकी हर ओर से रक्षा करता है।

इसे भी पढ़ें – स्फटिक की माला के 10 चमत्कारी फायदे

 

इसे भी पढ़ें – काले जादू से रक्षा, सभी मनोकामना पूर्ति हेतु एवं जीवन में शांति हेतु धारण करें मूंगा रत्न

14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha ki jankari) शनि ग्रह के द्वारा निर्मित कई विकृत दोशो को दूर करने में सक्षम होता है, कई ऐसे दोस जो व्यक्ति की मानसिक अशांति का कारक होते हैं, उसके मन में बहुत अधिक निराशा असंतोष विषाद तथा जीवन में किसी महत्वपूर्ण चीज की कमी की टच तक बनी रहती है। कभी-कभी तो यह चीजें इतनी अधिक बढ़ जाती है, कि जातक आत्महत्या जैसी कुकृत्य तक अपनाने को हाथ दूर हो जाता है, उसके मस्तिष्क में हमेशा नकारात्मक सोच बनी रहती हैl प्रतिक्षण वह मृत्यु की अनुभव करता है।

जातक के स्वभाव में भी अस्थिरता होती है, उसके जीवन में इतना अधिक अंधकार होता है, कि छोटे से छोटे असफलता से भी घोर निराशा उसके मन- मस्तिष्क में व्याप्त हो जाती है, जिससे वह अपने जीवन के प्रति बहुत ही उदास हो जाता है, ऐसे में उसे विभिन्न नकारात्मक दशाओं से निर्गमन प्राप्त करने के लिए 14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha dharan karne ke fayde) अवश्य धारण करना चाहिए इससे उसके मस्तिष्क की क्षमता में वृद्धि होती है, तथा जीवन के प्रति नकारात्मकता का बोध भी समाप्त होता है।

14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha dharan karne se kya hota hai) धारण करने से व्यक्ति के साहस, पराक्रम ,दिव्य अंतर्ज्ञान ,निडरता जैसे अद्वितीय गुणों की प्राप्ति होती है, उसके स्वभाव में उसके मन – मस्तिष्क एवं शरीर एवं में सर्वोत्तम शक्ति का संचार होता है, जिससे व्यक्ति खुद को बहुत ही ऊर्जावान महसूस करता है। उसकी निर्भयता, उसका कार्य के प्रति समर्पण उसे सफलता के सर्वोत्तम शिखर तक ले जाने में अद्भुत रूप से सहायक होता है, यह उसकी बुद्धि -विवेक में उत्कृष्ट रूपांतरण लाता है जिससे व्यक्ति को यश, कीर्ति, प्रसिद्धि की प्राप्ति होती है।

14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha pahanne ke fayde) धारण करने से मंगल ग्रह तथा शनि ग्रह के द्वारा उत्पन्न किए जा रहे किसी भी तरह के दोस को यह नियंत्रित करता है, तथा दोनों को संतुलन एवं शांति प्रदान करता है, जिससे इनके द्वारा होने वाले अनिष्ट चीजों से उक्त व्यक्ति की सुरक्षा हो सके जिसकी जन्मपत्रिका में इनकी स्थिति दृष्ट होती है।

इसे भी पढ़ें :- पन्ना रत्न धारण करने के फायदे और नुकसान ?

 

इसे भी पढ़ें – कार्यों में सफलता, दांपत्य सुख एवं सभी सुखों की प्राप्ति हेतु पहनें ओपल रत्न

• मंगल ग्रह जिसे वैदिक ज्योतिष शास्त्र में एक क्रूर एवं उग्र ग्रह के रूप में वर्णित किया जाता है। ज्योतिष विद्या में उसे विभिन्न प्रकार के अग्नि तत्व से अलंकृत किया जाता है, जिसे धरती पुत्र की उपाधि प्राप्त है, जो 9 ग्रहों में सेनापति का दायित्व पूर्ण करता है। ऐसे मंगल की स्थिति यदि वास्तविक जीवन में बिगड़ जाती है, तो व्यक्ति कई प्रकार की समस्याओं से घिर जाता है। व्यक्ति विशेष प्रत्येक समय आवेग में रहता है। उसमें बहुत अधिक आक्रामकता क्रोध जैसी चीजें दिखाई पड़ने लगती है, विवाहित जीवन की स्थिति और अधिक दृष्ट अवस्था में चली जाती है।

कई बार तो वैवाहिक संबंधों में विच्छेद तक उत्पन्न हो जाता है, परिवार टूट जाते हैं, व्यक्ति के स्वभाव के कारण वह अनेक उलझनो का शिकार होने लगता है। मांगलिक दोष अंगारक दोष जैसी चीजें व्यक्ति की स्थिति और अधिक चरमड़ा देती है। खुद की क्षमताओं पर, खुद के कौशलों पर, खुद के ज्ञान पर भी व्यक्ति विशेष को भरोसा नहीं रह जाता है, जिसके कारण अस्थिरता जैसी स्थिति सदैव उसके जीवन में बनी रहती है। यह भाव उसके हर क्षेत्र पर अपना प्रभाव जमाती है, चाहे वह आर्थिक पक्ष हो व्यक्तिगत जीवन हो या सामाजिक पक्ष हो या पेशेवर पक्ष हर ओर से जातक को दोहरी मार पड़ती है।

इसे भी पढ़ें :- ओपल रत्न क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण करने की विधि ? 

जिसके कारण वह निढाल हो जाता है, ऐसे में 14 मुखी रुद्राक्ष (14 mukhi rudraksha ke labh) यदि धारण किया जाए तो उसके समक्ष इस तरह की जितनी भी नकारात्मक चीजें घटित होती है उन सभी में उसे दूर करने की क्षमता प्राप्त होती है। अपने आत्मविश्वास में वृद्धि होती है, आत्मबोध का ज्ञान प्राप्त होता है, साथ ही दांपत्य जीवन से संबंधित समस्याओं का निराकरण होता है, एवं विविध क्षेत्र में इसके अन्य लाभ भी उक्त व्यक्ति विशेष को प्राप्त होता है।

14 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से आजीविका से संबंधित कई प्रकार की समस्याएं शुलझने लगती है। कार्यक्षेत्र में जातक को विशिष्ट स्थान की प्राप्ति होती है, उसकी स्थिति विभिन्न पक्षों में भी मजबूत होती है।

इसे भी पढ़ें – मच्छ मणि क्या है, इसके चमत्कारी फायदे और धारण करने की विधि ? 

अभिमंत्रित 14 मुखी रुद्राक्ष कहां से प्राप्त करें – 14 mukhi rudraksha ke fayde

मित्रों यदि आप भी अभिमंत्रित 14 मुखी रुद्राक्ष प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से अभिमंत्रित 14 मुखी रुद्राक्ष कम कीमत में प्राप्त कर सकते हैं जो हमारे यहां मात्र – 1400₹ में मिल जाएगा, लैब सर्टिफिकेट और गारंटी कार्ड साथ में दिया जाएगा साथ ही साथ मुफ्त में अभिमंत्रित भी करके दिया जाएगा – Call and Whatsapp – 7567233021

 

Leave a Reply