हरा हकीक की पहचान कैसे करें – Haraa Hakik Ki Pahchan Kaise Kare

हरा हकीक की पहचान कैसे करें – Haraa Hakik Ki Pahchan Kaise Kare

 

हरा हकीक की पहचान कैसे करें-

हरा हकीक जिसे धारण करने से तंत्रिका तंत्र बहुत मजबूत होती है, तथा जातकों को अपने जज्बात पर काबू रखने की अदम्य क्षमता प्रदान करती हैl इस रत्न के शुभ प्रभाव से जातक के द्वारा यदि अचल संपत्ति संबंधित चीजों में निवेश किया जाए तो जातक को भविष्य में बहुत अच्छे खासे मुनाफा प्रदान करता हैl कभी-कभी कई जातकों में यह संकीर्ण भावना होती है, कि दूसरों के ऐब कमियां निकालती रहते हैं, या फिर दूसरे के सुख को देख कर मन में जलन की भावना उत्पन्न होती हैl मन में ईर्ष्या द्वेष की भावना उत्पन्न होने लगती हैl यह रत्न इस तरह के मन में उठने वाले संकीर्ण भाव को पूरी तरह से नष्ट करता हैl जातक को इस प्रकार के नकारात्मक एवं गंदी सोच से यह रत्न पूरी तरह से दूर रखता हैl उसके चित को पूरी तरह से शांत रखता है।

इसे भी पढ़े:- गोमेद रत्न के बारे में बताएं 

इस स्टोन को धारण करने से जातक का समय व्यर्थ के वाद विवाद में ना पड़कर अपनी पूरी ऊर्जा को वह अपने कार्यों में केंद्रित करता हैl यह रत्न जितना हो सके जातक को वाद विवाद जैसी स्थिति से काफी दूर रखता है lवैचारिक मतभेद जैसी परिस्थिति में जल्दी जा तक नहीं पड़ता हैl अपने बुद्धि विवेक का प्रयोग कर वह अनेक प्रकार के वाद-विवाद का निपटारा जल्द से जल्द करने में विश्वास रखता है, किसी भी वैचारिक मतभेद को अपनी दुश्मनी बनाकर उस मतभेद को विबाद जैसी स्थिति उत्पन्न नहीं होने देता है lयह रत्न जातक के सूज भुज को और अधिक अच्छा एवं प्रबल बनाता है, जिससे जातक औरों के विवादों का निपटारा करता है, तथा उनके वैचारिक मतभेदों को दूर कर सामंजस्य बैठाने की प्रयास करता हैl

इस स्टोन को धारण करने से जातक के मुख्य मंडल की आभा बहुत बढ़ती है, तथा उसकी खूबसूरती को भी बढ़ाने में यह रत्न बहुत कारगर सिद्ध होता हैl उसकी कांति बहुत ही आकर्षक युक्त होती है, जिसे हर कोई उसकी ओर आकर्षित होता है, उसके व्यक्तित्व में एक चमत्कारिक गुण होता है, जो हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करता हैl यह रखना उसके व्यक्तित्व का रूपांतरण एक अनोखे व्यक्तित्व में करता है, जिसके कारण उसकी कार्यशैली में भी विभिन्न प्रकार की भिन्नता ए देखने को मिलती है, तथा कार्य को पूर्ण करने का कौशल भी बहुत अधिक उत्तम होता है, जिसकी सराहना घर परिवार के लोगों के साथ-साथ कार्यस्थल के लोग भी करते हैं, या जातक से जुड़े हुए लोग भी उसके कार्यों की खूब सराहना करते हैं।

इसे भी पढ़े:- ओपल रत्न क्या है?

वह अपने कार्यों का निर्वहन पूरी तरीके से निष्ठावान होकर करता हैl जिसकी वजह से उसके कार्यों का समापन निर्धारित समय पर ही पूर्ण होता है, हर कोई उसकी दिनचर्या को देख कर बहुत उसकी ओर आकर्षित होता है lयह रत्न उसे ऊर्जावान बनाता है, तथा उसके अंदर की नकारात्मक ऊर्जा को पूरी तरह से नष्ट कर देता हैl सकारात्मक ऊर्जा के संचार को यह रत्न बहुत अधिक बढ़ा देता है, जिससे जातक के चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा नकारात्मक चीजों को हावी नहीं होने देती हैं, एवं उसका चित्र शांत एवं प्रसन्न रहता है, उसका मन हर्ष उल्लास से भरा हुआ रहता हैl

विभिन्न प्रकार के खनिज चट्टानों का रूपांतरण हकीक के रूप में होता हैl विभिन्न प्रकार के वातावरणीय मौसमी बदलाव के कारण विशिष्ट खनिज चट्टाने धीरे धीरे इस दिव्य स्टोन में परिवर्तित होने लगते हैl यह एक ऐसा स्टोन होता है, जो हर व्यक्ति विशेष के लिए बहुत कारगर सिद्ध होता हैl छोटे बच्चों को एकाग्रता में वृद्धि करता है, इसके साथ-साथ उनकी स्मरण शक्ति भी इसे धारण करने से बहुत बढ़ती है, जो बच्चे बहुत ही छोटे होते हैं lउनके सुरक्षा के लिए भी इस रत्न को धारण करवाया जाता है, ताकि को चाह कर भी नुकसान पहुंचा पाए, ऐसे बच्चे जो आलस का शिकार होते हैं lउनमें आत्मविश्वास की कमी होती है, ऐसी स्थिति में भी यह स्टोन धारण करना बहुत कारगर सिद्ध होता है।

इसे भी पढ़े:- वैजन्ती माला के अदभुत लाभ 

हरा हकीक पत्थर को पहचानने के लिए निम्नलिखित मापदंड अपनाया जा सकता है-

1. जब कभी इस पत्थर पर रोशनी पड़ती है, तब यह कभी भी रोशनी को परावर्तित नहीं करता हैl इसके साथ-साथ यदि इसके आधार पर जब कोई प्रकाश ऊर्जा को रखा जाता है, तो यह प्रकाश ऊर्जा को परिवर्तित करने की जगह पूरी तरह से अवशोषित कर लेता है, जिसकी वजह से यह पूरा हरे रंग का दिखता है, बिल्कुल तोते के रंग के समान हरा, जबकि कृत्रिम रूप से निर्मित पत्थरों में यह गुण नहीं रहता है, क्योंकि वह महज एक कांच के टुकड़े होते हैं, जिसकी वजह से उनमें यह खास गुण मौजूद नहीं रहता हैl

2. जब किसी भी चीज का निर्माण प्राकृतिक तौर पर होता है lतब कभी भी उसकी दूसरी कॉपी पूरी दुनिया में उपलब्ध नहीं होती हैl यहां तक कि जो जुड़वा बच्चे होते हैं, उनमें भी बहुत सी समानताएं होती हैl भले ही वह देखने में एक समान लगे किंतु जब उनका उंगली के चिन्हों को पेपर पड़ लिया जाता है, तब भी वे एक समान नहीं होते हैंl ऐसे में प्रकृति की हर एक संरचना अपने आप में विशिष्ट प्रवृत्ति रखती है, तथा उसके सम्मान कोई भी दूसरा नहीं हो सकता हैl इसी तरह आपको हरा हकीक पत्थर भी कभी एक समान देखने को नहीं मिलेगाl कोई पत्थर आकार में अलग होगा तो कोई रंग में अलग होगा या फिर प्राकृतिक तौर पर जो आकृतियां रेखाएं बिंदु मौजूद रहते हैं lवह सभी पत्थरों में भिन्न-भिन्न होते हैंl भले ही वह भिन्नता सूक्ष्मा स्तर पर क्यों न हो किंतु वह अलग ही रहते हैं।

इसे भी पढ़िए:- हल्दी की माला पहनने के फायदे 

3. कोई भी रत्न जो असली होता है, उसकी कीमत कभी भी कम नहीं होती है, क्योंकि इन पत्थरों को प्राप्त करना बहुत मुश्किल होता हैl कभी-कभी यह पत्थर ज्वालामुखी के दरारों से प्राप्त होता है, तो कभी-कभी समुद्र की गहराइयों से प्राप्त होता हैl कभी-कभी इनके खान बहुत दुर्गम इलाकों में अवस्थित होते हैं, जहां जान का खतरा बहुत अधिक रहता है, तथा मौसमी परिवर्तन भी बहुत तेजी से होता है, जिसकी वजह से इनका खनन करना बहुत मुश्किल होता है, अतः कहीं भी यदि आपको यह रत्न कम कीमत पर उपलब्ध हो तो कभी भी उसे ना लें अन्यथा आप जिस महत्वाकांक्षा को मन में लेकर उसे धारण करना चाहते हैं, वह अधूरी रह जाएगीl

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ हरा हकीक प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित हरा हकीक मात्र – 100₹ मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 7567233021

 

 

Leave a Reply