एक मुखी रुद्राक्ष क्या काम आता है – Yek Mukhi Rudraksha Kya Kam Aata Hai

एक मुखी रुद्राक्ष क्या काम आता है – Yek Mukhi Rudraksha Kya Kam Aata Hai

 

एक मुखी रुद्राक्ष क्या काम आता है

एक मुखी रुद्राक्ष क्या काम आता है? पौराणिक काल से ही रुद्राक्ष के उपयोग के बारे में हमारे धर्म ग्रंथों में इसकी महत्ता को बहुत ही अद्भुत तरीके से दर्शाया गया है। रुद्राक्ष भगवान भोलेनाथ का ही अभिन्न अंग माना जा सकता है, क्योंकि ऐसा माना जाता है, कि भोलेनाथ के अश्रु के द्वारा इस पेड़ की उत्पत्ति हुई है। उसमें से भी सबसे अधिक दुर्लभ एक मुखी रुद्राक्ष को माना जाता है lयह हिमालय की कंदराओ में एक बहुत ही दुर्गम इलाकों से प्राप्त होता है, सबसे कम मात्रा में एक मुखी रुद्राक्ष ही उपलब्ध है। रुद्राक्ष का संबंध केवल भोलेनाथ शिव शंभू से ही नहीं अपितु ग्रह नक्षत्रों से भी है, ऐसा माना जाता है, कि इसे धारण करने से सूर्य ग्रह को बल मिलता है, तथा सूर्य से संबंधित विभिन्न प्रकार के दिव्य ऊर्जाओं का लाभ भी जातक को प्राप्त होता है।

इसे भी पढ़े:- मोती रत्न कैसे धारण करें 

हमारे धर्म ग्रंथों में तो इस दिव्य रूपी वरदान के कई अलौकिक गुणों का वर्णन है, ही इसके साथ -साथ
वैज्ञानिक रूप से भी रुद्राक्ष के ऊपर कई प्रकार के प्रयोग किए गए हैं lकई प्रकार के शोध किए गए हैं जो कि इसके उत्तम होने के लिए कई प्रमाण देते हैं। इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी फ्लोरिडा के वैज्ञानिकों के अनुसार इसमें कई ऐसे तत्व मौजूद रहते हैं, जो हमारे मानसिक स्वास्थ्य को उत्तम बनाने में उत्कृष्ट बनाने में बहुत अधिक सहायक होते हैं।

जिन लोगों के द्वारा रुद्राक्ष धारण किया जाता है। उनके ऊपर विशिष्ट कृपा महादेव की बनी रहती है, तथा इसे धारण करने वाले जातक को अनेक प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैंl वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी रुद्राक्ष के कई चमत्कारिक गुणों को प्रमाणित किया गया है, तथा वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी यह बताया गया है, कि जिस भी व्यक्ति विशेष के द्वारा इसे धारण किया जाता है, उसके मानसिक क्षमताओं में यह बहुत अधिक वृद्धि करता है, ऐसे लोग जो किसी तरह के अवसाद में है।

इसे भी पढ़े:- मच्छ मणि क्या है?

मानसिक संताप की वजह से उनके मन में घोर निराशा के भाव ने जगह बना लिया है, या उन्हें हर वक्त किसी नकारात्मकता का बोध होते रहता है, या ऐसा प्रतीत होता है, जैसे वर्तमान या भविष्य में कोई अप्रिय घटना घट सकती है, या किसी भी प्रकार दैनिक गतिविधियों में बिल्कुल भी रुचि ना लेना बिल्कुल भी खुशी का भाव देखने को नहीं मिलना चाहे खुशी का मौका हो या कोई भी महत्वपूर्ण मांगलिक कार्य या कोई भी पर्व त्योहार विशिष्ट चीजों पर भी उसके मन में किसी भी तरह का उत्साह देखने को नहीं मिले, तो ऐसे लोगों के द्वारा यदि एक मुखी रुद्राक्ष धारण किया जाता है, तो उनमें बहुत उत्तम बदलाव देखने को मिलते हैंl उनकी मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित विकार दूर होते हैं, तथा जातक जीवन में आने वाले उतार-चढ़ाव के प्रति नकारात्मकता से नहीं बल्कि सकारात्मक भाव से उसे खुद को अवगत कराता है, तथा चीजों को बहुत ही बारीकी से समझने का प्रयास करता है।

रुद्राक्ष उसे अधिक संवेदनशीलता से भी यह उसे बचाता है। भावनात्मक प्रतिक्रियाओं पर नियंत्रण रखने में भी एक मुखी रुद्राक्ष बहुत अधिक सहायक सिद्ध होता है, इसे धारण करने वाले व्यक्ति बहुत ही आशा युक्त होते हैं, तथा किसी भी तरह से एक मुखी रुद्राक्ष उसे अवसाद जैसी समस्या से फिर से ग्रसित होने नहीं देता है, जिस भी चातक के द्वारा इसे उपयोग में लाया जाता हैl उसकी सुरक्षात्मक शैली को यह बहुत अधिक मजबूत बनाता है, जिससे किसी भी प्रकार की नकारात्मकता उसके ऊपर हावी नहीं होती है, आवश्यकता से अधिक किसी भी प्रकार की वह किसी से अपेक्षा नहीं रखता है, आशा नहीं रह सकता है, जिसकी वजह से वह पूरी तरह से प्रसन्न चित एवं शांत मन युक्त जीवन जीता है, एक मुखी रुद्राक्ष में रत्नों के समान ही विद्युत चुंबकीय तत्व मौजूद होते हैंl जो हमारे मन ,मस्तिष्क एवं शरीर पर कई प्रकार से जादुई रूप में कार्य करते हैं, इसमें कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं, जो जटिल से जटिल एवं पुराने रोगों को ठीक करने की क्षमता रखते हैं।

इसे भी पढ़िए:- 6 मुखी रुद्राक्ष के फायदे 

कई शोधों में तो अब यह प्रमाणित हो चुका है, कि इसे धारण करने से रक्तचाप जैसी समस्या से जातकों को निराकरण प्राप्त होता हैl यह रक्तचाप को नियंत्रित रखने में बहुत ही उत्कृष्ट तरीके से सहायक होता है। यह हमारे ह्रदय को बहुत अधिक मजबूत बनाता है, तथा रक्त परिसंचरण में भी यह बहुत ही उत्तम तरीके से कारगर होता हैl इसे धारण करने से किसी भी प्रकार के नसों की रुकावट को यह दूर करता है। यह हमारे शरीर द्वारा उत्पन्न ग्रंथि रस को भी नियंत्रित करता है, जिससे विभिन्न प्रकार के बीमारियों से हमारा शरीर बच जाता हैl विशिष्ट गुरुजनों के अनुसार यह हमारे शरीर में किसी भी तरह के नकारात्मक ऊर्जा के संचरण को रोकता है, किसी भी प्रकार के नकारात्मकता को सूक्ष्म से सूक्ष्म रूप को भी पूरी तरह से नष्ट कर देता है, तथा हमारे इर्द-गिर्द सुरक्षात्मक वातावरण का निर्माण करता है।

इसे धारण करने से शांत चित्त एवं एकाग्रता बढ़ती है, इसलिए यह छोटे बच्चों के लिए भी उपयुक्त माना जाता है, इसका प्रभाव हमारे इंद्रियों पर भी बहुत ही व्यापक रूप से पड़ता है, तथा उसे नियंत्रित रखने में यह बहुत मदद करता है। हृदय संबंधित रोगों में भी यह बहुत अधिक लाभदायक सिद्ध होता है, या हमारे अंदर के धातु तत्व को सुरक्षित रखने में बहुत मदद करता है, जिससे हमारा शरीर बलिष्ठ होता है। एक मुखी रुद्राक्ष की प्रवृत्ति काफी गर्म होती है, जिसकी वजह से इसे धारण करने वाले जातकों के ऊपर किसी भी प्रकार से ठंड का प्रभाव नहीं पड़ता है, एवं ठंड से होने वाली बीमारियों से भी यह उन्हें सुरक्षा प्रदान करता है।

इसे भी पढ़े:- 10 मुखी रुद्राक्ष के फायदे 

पद्म पुराण एवं शिव पुराण में रुद्राक्ष के आध्यात्मिक गुणों के बारे में अनेक रूपों से इसकी व्याख्या की गई है। अनेक पारलौकिक शक्तियां एक मुखी रुद्राक्ष में वास करती है, जो हमारे जीवन को बहुत ही व्यापक रूप से प्रभावित करने में सक्षम होती है। एक मुखी रुद्राक्ष की माला हो या केवल एक मनका सभी बहुत अधिक प्रभावशाली होते हैं, पौराणिक काल से ही रुद्राक्ष को अभिमंत्रित एवं सिद्ध करके पूजा स्थल पर लोगों के द्वारा रखा जाता है, जिससे उनके जीवन में कभी भी दरिद्रता कवास नहीं होता है। माता लक्ष्मी की कृपा से उनके जीवन में अन्न एवं धन की कमी नहीं रहती है।

एक मुखी रुद्राक्ष के गुणों को केवल कुछ शब्दों या कुछ वाक्यों के जरिए पूर्ण रूप से वर्णित किया नहीं जा सकता है, यह अपने आप में अलौकिक शक्तियों का स्वामी होता है, तथा इसे धारण करने वाले जातकों के ऊपर सदा भगवान नीलकंठ की कृपा बनी रहती है।

यदि आप भी अभिमंत्रित किया हुआ एक मुखी रुद्राक्ष प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे नवदुर्गा ज्योतिष केंद्र से पंडित जी द्वारा अभिमंत्रित किया हुआ एक मुखी रुद्राक्ष मात्र- 1000₹ में मिल जायेगा जिसका आपको लैब सर्टिफिकेट और गारंटी के साथ में दिया जायेगा (Delevery Charges free) Call and WhatsApp on- 756723321

Leave a Reply